लैपटाप लेने का सपना होगा पूरा!

Mau Updated Fri, 10 Aug 2012 12:00 PM IST
मऊ। बारहवीं पास होकर स्नातक कक्षाओं में प्रवेश लिए छात्र-छात्राओं को लैपटाप वितरण की सपा सरकार की अति महत्वपूर्ण योजना फिलहाल जिले में अधर में दिखने लगी है। महाविद्यालयों द्वारा डीआईओएस कार्यालय में लैपटाप लाभार्थी स्नातक प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों की सूची चौदह अगस्त तक जमा करनी है। लेकिन प्राचार्यों का कहना है कि उन्हें इससे संबंधित कोई भी जानकारी नहीं दी गई है। इससे छात्र भी पसोपेश में पड़े हैं कि आखिर उन्हें इस बार लैपटाप मिलेगा भी या नहीं।
वर्ष 2012 में बारहवीं पास स्नातक कक्षाओं में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों को शासन द्वारा लैपटाप देने की कवायदों को लगभग-लगभग आखिरी रूप दिया जा रहा है। इसके लिए लाभार्थी विद्यार्थियों की सूची भी महाविद्यालयों द्वारा चौदह अगस्त तक डीआईओएस कार्यालय में हर हाल में जमा करना है। इसी अनुक्रम में जिले के चार सहायता प्राप्त एवं दो राजकीय महाविद्यालयों में स्नातक प्रथम वर्ष में प्रवेश लेने वाले लगभग साढ़े चार हजार विद्यार्थियों को भी लैपटाप दिया जाना है। लेकिन सपा शासन की इस महत्वाकांक्षी योजना का समय रहते जिले में पूरा हो पाना संभव नहीं प्रतीत हो रहा है। डीआईओएस कार्यालय का कहना है कि महाविद्यालयों के प्राचार्यों को योजना के क्रियान्वयन की सारी औपचारिकताओं की जानकारी है। तो इसके विपरीत डीसीएसके महाविद्यालय के प्राचार्य डा. शिवशंकर सिंह, राजकीय महाविद्यालय मुहम्मदाबाद गोहना के उप-प्राचार्य डा. रामनाथ यादव, जनता पीजी कालेज रानीपुर के प्राचार्य, राजकीय महिला महाविद्यालय बगलीपिजड़ा के प्राचार्य आदि ने स्पष्ट किया है कि हमें क्या करना है, कैसा फार्म भरवाना है, कैसी सूची जमा करनी है। इस संदर्भ में कोई भी जानकारी या लिखित सूचना जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय द्वारा हमें नहीं दी गई है। आखिर शासन की ऐसी महत्वपूर्ण योजना को पूरी जानकारी के बिना कैसे आधे अधूरे तरीके से क्रियान्वित कराया जा सकता है। जब इस बाबत प्रभारी जिला विद्यालय निरीक्षक सुनील दत्त से पूछा गया तो उन्होंने बेहद अदब के साथ कहा, लीजिए एसएन राय से बात करिए। एसएन राय ने बताया कि, आखिर अखबार तो प्राचार्य भी पढ़ते ही हैं। जब उनमें ऐसी सूचनाएं छप चुकी हैं तो बाकी अब कैसे बताया जाए। बहरहाल जो भी हो लेकिन बेचारे विद्यार्थियों की धुकधुकी बढ़ी है कि कहीं इस खींचतान में अपने कंधे पर लैपटाप लटकाने का सपना इस सत्र में लटक ना जाए।
प्रभारी डीआईओएस का नंबर किसी को नहीं पता
मऊ। प्रभारी डीआईओएस का मोबाइल नंबर क्या है, इसकी जानकारी जिले के आलाधिकारियों को भी नहीं है। लैपटाप वितरण के संदर्भ में बात करने के लिए जब प्रभारी डीआईओएस सुनील दत्त का नंबर खोजा जाने लगा तो जिला सूचना कार्यालय से लेकर जिलाधिकारी कार्यालय तक कहीं भी उनका मोबाइल नंबर नहीं पता चल सका। काफी मशक्कत के बाद बीएसए ने किसी तरह से नंबर उपलब्ध कराया।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

फुल ड्रेस रिहर्सल आज, यातायात में होगी दिक्कत, कई जगह मिल सकता है जाम

सुबह 10:30 से दोपहर 12 बजे तक ट्रेनों का संचालन नहीं किया जाएगा। कई ट्रेनें मार्ग में रोककर चलाई जाएंगी तो कई आंशिक रूप से निरस्त रहेंगी।

23 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper