मौत से जूझ रहे प्रदीप की टूट गई सांस

Mau Updated Thu, 26 Jul 2012 12:00 PM IST
दुबारी। मधुबन थाना क्षेत्र के गजियापुर में बीते शुक्रवार को दबंगों की पिटाई के बाद खुद को आग के हवाले करने वाले प्रदीप की पांच दिन के बाद जिला अस्पताल मेें मौत हो गई। युवक पर 18 हजार रुपये चुरा लेने का आरोप लगाया गया था। पुलिस ने दो लोगों पर प्रताड़ना देने और आग लगाने के लिए उसकाने का मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपी अभी भी पुलिस के पकड़ से बाहर है। घटना के बाद गांव में कोहराम मच गया है। वहीं परिजन बेसुध से हो गए हैं।
बताते चलें कि गजियापुर निवासी 27 वर्षीय प्रदीप मौर्य उर्फ संतोष पुत्र ज्ञानचंद मुंबई से कमाकर जब सीधे अपनी ससुराल गोरखपुर आया तो इसकी जानकारी गांव के ही रिश्ते के चाचा प्र्रेमचंद मौर्य को हुई थी। प्रेमचंद अपने रिश्तेदार का 18 हजार रुपये मुंबई से चुरा कर लाने के बाबत पूछताछ करने के लिए प्रदीप के पास गोरखपुर गया और साथ में उसे लेकर अपने घर गजियापुर चला आया। पिछले गुरुवार को सुबह आठ बजे से ही प्रदीप को बंधक बनाकर प्रेमचंद रखे रहा। उसे बेरहमी से पीटकर रात 10 बजे छोड़ा गया था। शुक्रवार की सुबह साढ़े छह बजे प्रदीप ने केरोसिन शरीर पर छिड़कर आग लगा ली थी। उसे गंभीर हालत मेें उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। प्रदीप जीवन और मौत से अस्पताल में जूझ रहा था। बुधवार की तड़के सुबह उसकी मौत हो गई। घटना की जानकारी होते ही परिजनों मेें कोहराम मच गया। पुलिस ने प्रेमचंद समेत दो लोगोें के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपी पुलिस के पकड़ से बाहर हैं।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

कोहरे ने लगाया ऐसा ब्रेक, एक के बाद एक भिड़ीं कई गाड़ियां

वाराणसी-इलाहाबाद राजमार्ग पर गुरुवार को घने कोहरे के बीच दो एक सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी कम होने पर एक के बाद एक चार गाड़ियां एक-दूसरे से टकरा गईं। इस हादसे में चार लोगों के घायल होने की भी खबर है।

21 दिसंबर 2017