विज्ञापन
विज्ञापन

होटल में आग लगाने को आमादा थी भीड़

अमर उजाला वृंदावन Updated Sat, 15 Oct 2016 12:29 AM IST
पत्थर मारकर तोड़ा अम्माजी होटल का शीशा
पत्थर मारकर तोड़ा अम्माजी होटल का शीशा - फोटो : अमर उजाला वृंदावन
ख़बर सुनें
नास्तिक सम्मेलन का विरोध करने आए लोग एक बार को पुलिस के काबू से बाहर हो चले थे। भीड़ आयोजन स्थल को आग लगाने पर आमादा थी। पुलिस के बीचबचाव और बालेंदू के लिखित माफीनामे पर लोग माने।  
विज्ञापन
विज्ञापन
शुक्रवार को सुबह मोहनानंद लाल बाबा, रालोद नेता ताराचंद गोस्वामी, ऋषिकुमार शर्मा और रमेश पुजारी सहयोगियों के साथ हाथ में तिरंगा और धर्मध्वजा लेकर अम्माजी होटल पहुंचे। उनके साथ आए सैकड़ों लोगों ने आयोजकों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए बालेंदू का पुतला दहन किया। तभी जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर नवल गिरि, चतु: संप्रदाय विरक्त परिषद के महंत फूलडोल बिहारीदास, स्वामी गोविंदानंद तीर्थ, महंत सच्चिदानंद दास, महंत राधिकाशरण दास, मोहिनी शरणदास, संत जयकृष्णदास, मृदुलकांत शास्त्री, अनुभूति कृष्ण गोस्वामी आदि भी पहुंच गए। 

सपा नेता राजू द्विवेदी, भाजपा नेता एसके शर्मा, कांग्रेस नगर अध्यक्ष नूतन बिहारी पारीक, सपा नेता राजकिशोर भारती, मुस्लिम नेता भैये लाल, असगर अब्बासी, फारुख, राजुद्दीन सहित आदि लोगों ने आयोजकों को ललकारते हुए गेट खोलकर अंदर प्रवेश करने का प्रयास किया। सिटी मजिस्ट्रेट राम अरज यादव और सीओ सदर आलोक दुबे आक्रोशित लोगों को समझा ही रही थीं कि गोधूलिपुरम निवासी एक युवक ने पत्थर मारकर अम्मजी होटल का शीशा तोड़ दिया। कुछ लोगों ने पेट्रोल छिड़कर होटल के सामान में आग लगाने का प्रयास किया। हालांकि पुलिस ने इन्हें रोक दिया। 

मामला बढ़ता देख पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने संतों को साथ लेकर बालेंदू से वार्ता की। बालेंदू ने सम्मेलन के लिए आए लोगों को वापस भेजने की बात कही और लिखित माफीनामा देते हुए भविष्य में नास्तिक सम्मेलन न आयोजित करने का आश्वासन दिया। दोपहर बाद करीब तीन बजे मौके पर एसपी सिटी आलोक प्रियदर्शी पहुंचे। उन्होंने बालेंदू से बात की। इसके बाद एसपी सिटी ने बाहर आकर लोगों और मीडिया को सम्मेलन के रद्द होने की जानकारी दी। जब जाकर आक्रोशित भीड़ वहां से हटी।

सम्मेलन में आए लोगों ने झेला आक्रोश
दो दिवसीय नास्तिक सम्मेलन में भाग लेने के लिए शुक्रवार को सुबह से ही लोगों के आने का क्रम शुरू हो गया था। एलआईयू के अधिकारियों के अनुसार करीब 250 लोग आए। प्रत्यक्षदर्शियों ने इनकी संख्या करीब 500 बताई। इन लोगों को भी अम्माजी होटल पर विरोध कर रहे लोगाें का आक्रोश झेलना पड़ा। देशभर से आए लोग स्थानीय लोगाें के आक्रोश को भांपकर लौटने लगे।

इस दौरान कुछ लोगों ने सम्मेलन में आए लोगों की पिटाई भी कर दी। माफी मांगने पर छोड़ दिया गया। दिल्ली से आईं महिला पत्रकार दयावती ने आयोजकों के समर्थन में बातें कीं तो संतों और लोगों ने उनका कैमरा छीनने का प्रयास करते हुए मारपीट की। पुलिस ने उन्हें बचाया। इसे देख आयोजकों ने होटल की शटर गिराने के साथ मुख्य दरवाजे को बंद लिया। सुरक्षा की दृष्टि से निजी सुरक्षाकर्मी भी बुला लिए। 

दार्शनिक सम्मेलन के नाम पर आयोजन की अनुमति मांगी गई थी। इसके बाद आयोजकों ने कोतवाली पुलिस को सूचना दिए बगैर उच्चाधिकारियों से नास्तिक सम्मेलन की अनुमति मांगी। आयोजक के विवादित बयान की जांच की जा रही है। जांच में आरोप सही पाए गए तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी।  
- आलोक प्रियदर्शी 
एसपी सिटी  

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

बात करें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से और पाइये अपनी समस्या का समाधान |
Astrology

बात करें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से और पाइये अपनी समस्या का समाधान |

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Mathura

खोदाई में निकला गौतम बुद्ध की मूर्ति का सिर

खोदाई में निकला गौतम बुद्ध की मूर्ति का सिर

15 जून 2019

विज्ञापन

क्या वाकई पापा के करीब हैं आप

पिता जिसके बिना हमारा बचपन अधूरा है, जो अपने बच्चे की हर इच्छा को पूरा करने का दम रखता है। जिसकी जिंदगी सिर्फ घर के भरण-पोषण में ही चली जाती है। फादर्स डे पर हमने लोगों से पूछा कि वो घर में सबसे ज्यादा किससे करीब हैं। जवाब जानकर आपको भी हैरानी होगी।

16 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election