जलनिगम की लापरवाही से 43 करोड़ बर्बाद

Mathura Updated Mon, 20 Jan 2014 05:42 AM IST
मथुरा (आशीष श्रीवास्तव)। यमुना में जा रही गंदगी रोकने के लिए वृंदावन में एसटीपी प्लांट निर्माण में लगे 43 करोड़ रुपये जलनिगम की लापरवाही से बर्बाद हो गए। बजट की कमी का रोना रोते हुए विभाग ने इस प्लांट को न केवल अधूरा छोड़ दिया है, बल्कि छह नए नालों का रुख भी यमुना की ओर कर दिया है। जलनिगम के इस कार्य से पहले से प्रदूषित यमुना और मैली हो रही है।
यमुना में गंदे नालों का पानी जाने से रोकने के लिए जलनिगम ने चार साल पहले कालीदह के समीप स्थापित चार एमएलडी के एसटीपी प्लांट की क्षमता बढ़ाने की योजना बनाई थी। 64 करोड़ की इस योजना में आठ एमएलडी क्षमता वाला एसटीपी प्लांट बनना था। इसके लिए 32 करोड़ रुपये केंद्र सरकार को देने थे जबकि शेष धनराशि राज्य सरकार अथवा उसके उपक्रमों को वहन करनी थी। योजना में केंद्र सरकार ने तो अपने 32 करोड़ का अंशदान दे दिया।
राज्य के अंशदान के रूप में एमवीडीए को शेष राशि के भुगतान के आदेश दिए गए। एमवीडीए ने इसमें से करीब 11 करोड़ रुपये जलनिगम को दिए। इससे नए एसटीपी प्लांट का निर्माण शुरू किया गया लेकिन जल्दबाजी दिखाते हुए पुराने एसटीपी प्लांट को ध्वस्त करा दिया गया। जब तक बजट उपलब्ध रहा तब तक कार्य चलता रहा। इसके बाद जलनिगम ने हाथ खड़े कर दिए और विप्रा से अवशेष धनराशि की मांग कर डाली। एमवीडीए ने बजट उपलब्ध न होने की बात कहकर धनराशि देने से इंकार कर दिया। यही नहीं अवशेष बजट के लिए शासन से दिशा निर्देश मांगने की बात कहकर पल्ला झाड़ लिया।

सीवर लाइन बनी वृंदावन के लिए अभिशाप
सौ शैया अस्पताल कालीदह के पास बनने जा रहे आठ एमएलडी क्षमता वाले एसटीपी प्लांट के साथ वृंदावन में सीवर लाइन पड़नी थी। सीवर लाइन डालने का काम तो पूरा हो चुका है लेकिन इसके लिए खोदी गई सड़कों को ठीक से भरा नहीं गया। इसके चलते सड़कें जगह-जगह धंस रही हैं। कई स्थानों पर सड़क में गड्ढे हो गए हैं। यही नहीं अब तक कनेक्शन न होने के चलते सीवर भी उफन रहे हैं।

यमुना एक्शन प्लान की बैठक में उठा मुद्दा
यमुना एक्शन प्लान की बैठक में हिंदूवादी नेता गोपेश्वरनाथ चतुर्वेदी ने इस मामले को उठाते हुए नोडल अफसर एवं एडीएम प्रशासन से कालीदह एसटीपी प्लांट को पूर्ण कराने की मांग की। उन्होंने कहा कि पुराने प्लांट को ध्वस्त करने तथा नए को अधूरा छोड़ने से वृंदावन के साथ छह नए बने नालों का गंदा पानी सीधे यमुना में गिर रहा है।

एसटीपी प्लांट के लिए एमवीडीए ने करीब 11 करोड़ रुपये अंशदान के रूप में दिए थे। इसके अलावा छह करोड़ रुपये रुक्मिणी विहार परियोजना के लिए अलग से दिए थे। अब जलनिगम और पैसा मांग रहा है। इस मामले में शासन से निर्देश मांगे जा रहे हैं।
- अवधेश तिवारी
सचिव एमवीडीए

Spotlight

Most Read

Lucknow

अखिलेश यादव का तंज, ...ताकि पकौड़ा तलने को नौकरी के बराबर मानें लोग

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह पर निशाना साधा और कहा कि भाजपा देश की सोच को अवैज्ञानिक बताना चाहती है।

22 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में बदमाश बेखौफ, मथुरा में खेत में गई महिला की हत्या

यूपी पुलिस इन दिनों एक के बाद एक एनकाउंटर कर रही है लेकिन इसका डर बदमाशों में नहीं दिख रहा है। बदमाश बेखौफ है जिसका नतीजा शुक्रवार को मथुरा में देखने को मिला। खेत में गई महिला को लूटेरों ने पहले लूटा और फिर हत्या कर दी।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper