गलत मालिकाना हक बता किया जमीन का बैनामा

Mathura Updated Fri, 28 Sep 2012 12:00 PM IST
मथुरा। सदर तहसील के नवादा मौजा में बनी कर्मयोगी ग्राम कालोनी में ग्राहकों को गलत मालिकाना हक बताकर प्लाटों के बैनामा करने का आरोप लगाया गया है। इसकी शिकायत सदर तहसील के सब रजिस्ट्रार से की गई है।
सब रजिस्ट्रार से की शिकायत में मोतीकुंज निवासी अशोक कुमार ने कहा है कि नवादा मौजा के खसरा नंबर 140 की जमीन के मालिक भुल्लराम निवासी नवादा ने जमीन का कुछ हिस्सा सदर तहसील के सदर बाजार निवासी राजाराम व महावन के गांव हयातपुर निवासी गुड्डू के पक्ष में 13 जुलाई 2011 को किया था। इसमें क्रेता व विक्रेता दोनों अनुसूचित जाति के लोग हैं। उसी जमीन का कुछ अंश 24 अगस्त को कर्मयोगी होम्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा विक्रेता की हैसियत से मुख्तारनामा धारक बनकर बैनामा मोहन देवी पत्नी डा. करन सिंह निवासी गांव भरऊगढ़ पोस्ट ब्यौंही तहसील महावन के पक्ष में कर दिया। शिकायत में कहा गया है कि कर्मयोगी होम्स के लोगों ने नियम के अनुसार बैनामा करने से पूर्व धारा 157 (क) के तहत जिलाधिकारी से न तो अनुमति ली गई और न ही धारा 143 के तहत आबादी घोषित कराई और प्लाट लोगों को बेच दिए। अशोक अग्रवाल ने सब रजिस्ट्रार से उचित कार्रवाही कराने की मांग की है।

‘अशोक अग्रवाल की शिकायत मिली थी। कर्मयोगी की दोनों पार्टियों का केस दिल्ली हाइकोर्ट में चल रहा है। वहां से पहले स्टे आर्डर मिला था। बाद में स्टे ब्रेकिट हो गया। अब बैनामा करने वालों से इस बात का एफिडेविट लेकर बैनामे करने दिया जा रहा है कि उनकी जमीन पर कोई स्टे आर्डर नहीं है।’

पुष्पेंद्र कुमार यादव
सब रजिस्ट्रार प्रथम मथुरा

क्या कहता है दूसरा पक्ष...
‘1988 से 1992 तक हमने साथ में मथुरा, दिल्ली हरियाणा आदि में 20 से अधिक कालोनी साथ बनाई थी। इसके बाद उपजे मतभेदों के चलते 12 वर्ष लड़ाई लड़ी। कर्मयोगी नगर की जिस जमीन पर वे स्टे आर्डर होने की बात करते हैं उस पर 31 जुलाई 2012 को दिल्ली हाइकोर्ट की डबल बेंच ने स्टे आर्डर खारिज कर दिया था।’

दिनेश कुमार अग्रवाल
कर्मयोगी नगर कॉलोनी के दूसरे पक्षकर्ता
नक्शा स्वीकृति रुकवाने की मांग
- विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष को लिखा पत्र
अमर उजाला ब्यूरो
मथुरा। सदर तहसील के नवादा मौजा स्थित कर्मयोगी ग्राम नाम से विकसित हो रही कालोनी का कर्मयोगी ग्राम नाम से मानचित्र स्वीकृत न करने की मांग विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष से की है।
ए 22/23 मोतीकुंज निवासी अशोक कुमार अग्रवाल द्वारा भेजे पत्र में कहा है कि नवादा मौजा के खसरा नंबर 97, 99 का भाग भोवल, मोहर, जवाहर सिंह द्वारा तीन अगस्त 2011 को बुध सिंह, व रनजीत सिंह के नाम एक पंजीकृत अनुबंध पत्र व दो बैनामे निष्पादित किए गए थे। उक्त जमीन को लेकर मथुरा व हाईकोट इलाहाबाद में वाद लंबित है। पत्र में इस मामले में 20 जनवरी 2011 को अनुबंध व बैनामे न करने के लिए आदेश होना बताया गया जो अभी भी प्रभावी बताया गया है।
अशोक कुमार का कहना है इसमें एक भूमिधारी की 18 सितंबर को मौत हो जाने को लेकर कुछ लोग मृतक के आश्रितों से उक्त जमीन का बैनामा कराने का प्रयास कर रहे हैं। अग्रवाल ने उक्त जमीन का नक्शा स्वीकृ त न करने की मांग विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष से की है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: ब्रज में यूं हुआ वसंत पंचमी से रंगोत्सव का आगाज

दुनियाभर में होली भले ही एक दिन का त्योहार हो लेकिन भगवान श्रीकृष्णश की ब्रजभूमि में यह उत्सव 40 दिन तक मनाया जाता है। होली के इस खास उत्सव की शुरुआत वसंत पंचमी के दिन से ही होती है।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls