बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

हकीकत का आईना दिखाया तो हरियाली प्रोजेक्ट याद आया

ब्यूरो, अमर उजाला मैनपुरी Updated Sat, 04 Apr 2015 11:31 PM IST
विज्ञापन
Remembered the greening project reflects reality show

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
मैनपुरी/किशनी। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट हरियाली को हरा-भरा करने की वन विभाग को सुध आ गई। शनिवार को ‘अमर उजाला’ में प्रोजेक्ट की बदहाली की खबर प्रकाशित होने के बाद हरकत में आए वन विभाग ने शनिवार को आनन-फानन पौधों की सिंचाई का काम शुरू करा दिया। वहीं सूख चुके पौधों के स्थान पर नए पौधे लगाने की भी तैयारी शुरू कर दी गई है।
विज्ञापन

सीएम के ड्रीम प्रोजेक्ट हरियाली के तहत दो वर्ष पूर्व रोपे गए 25 हजार पौधों में से 65 फीसदी पौधे देखरेख और सिंचाई के अभाव में सूख चुके हैं। शेष पौधे भी सूखकर नष्ट होने की कगार पर हैं। ‘अमर उजाला’ द्वारा खबर प्रकाशित किए जाने के बाद वन विभाग ने रोपे गए पौधों को बचाने के लिए कवायद शुरू कर दी है। शनिवार को सुबह से ही वन विभाग के अधिकारी पहुंचने शुरू हो गए। आनन-फानन में पंपसेट की व्यवस्था कर सिंचाई का कार्य शुरू करा दिया गया। वन विभाग के कर्मचारियों ने बताया कि सूख चुके पौधों को हटाकर नए पौधे लगाने को कहा गया है। जल्द ही हरियाली प्रोजेक्ट के तहत नए पौधे लगाने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

शनिवार को हरियाली प्रोजेक्ट की सुरक्षा खाई को भी ठीक कराने की तैयारी शुरू करा दी गई। वन विभाग के कर्मचारी गायों को भगाते नजर आए। कई स्थानों पर कंटीली झाड़ियों को लगाकर पौधों को सुरक्षित करने की कवायद शुरू कर दी गई। जिला वन अधिकारी संजीव कुमार ने बताया कि हरियाली प्रोजेक्ट को संरक्षित और सुरक्षित किया जा रहा है। ऐसी व्यवस्थाएं की जा रहीं हैं कि कोई पौधा सूखने न पाए। नीलगाय और आवारा गाएं प्रोजेक्ट के अंदर न आने पाएं इसके भी पर्याप्त इंतजाम किए जा रहे हैं।

किशनी क्षेत्र में ऊसरीली भूमि अधिक है और पेड़ पौधों की काफी कमी है। ऐसे में हरियाली प्रोजेक्ट क्षेत्र के लिए बेहद उपयोगी है। प्रोजेक्ट के तहत रोपे गए पौधों की पर्याप्त देखभाल की व्यवस्था की जानी चाहिए ताकि क्षेत्र हरा भरा हो सके ।
                                                  प्रवेश कुमार

पूर्व में वन विभाग ने हरियाली प्रोजेक्ट पर ध्यान नहीं दिया। इसी का नतीजा है कि हरियाली प्रोजेक्ट की यह दुर्दशा हुई है। अभी भी देर नहीं हुई है प्रोजेक्ट को हरा-भरा करने के लिए वन विभाग को गंभीर प्रयास करने चाहिए।
                                                        अवधेश यादव

मुख्यमंत्री ने हरियाली प्रोजेक्ट का शुभारंभ कर कहा था कि इसे और विस्तारित किया जाएगा। वन विभाग की यहां 85 हेक्टेयर भूमि है। पूरी भूमि में पौधे रोपकर उनकी देखभाल की व्यवस्था की जानी चाहिए।
                                                       ब्रजभूषण यादव

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us