बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

किसानों का प्रशासन को 18 तक का अल्टीमेटम

Mainpuri Updated Sun, 10 Feb 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
मैनपुरी/कोसमा। नील गाय से होने वाला नुकसान एक मुद्दा बनता जा रहा है। इस समस्या को लेकर सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के संसदीय क्षेत्र के किसान लोकसभा चुनाव और पोलियो के बहिष्कार की घोषणा तो पहले ही कर चुके है, अब उन्होंने आंदोलन का बिगुल भी फूंक दिया हैं। शनिवार को भाकियू के बैनर तले एक पंचायत कर किसानों ने जिला प्रशासन को इस समस्या के समाधान के लिए 18 फरवरी तक का अल्टीमेटम दिया हैं। समाधान नहीं होने पर 19 से भूख हड़ताल और कलक्ट्रेट घेराव कर डीएम को काम नहीं करने देने की चेतावनी दी हैं।
विज्ञापन

कोसमा चौराहे के मैदान में भारतीय किसान यूनियन ने पंचायत की। इसमें 40 से अधिक गांवों के चार हजार से अधिक किसान एकत्रित हुए। किसानों ने एक स्वर में आवारा गायों और नील गायों द्वारा फसलों को चौपट किया जाने का मुद्दा उठाया और इसके निदान की मांग उठाई। इस दौरान सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव पर भी वायदा खिलाफी का आरोप लगाया। उन्होंने विधान सभा चुनाव में नील गाय से निजात दिलाने का आ्श्वासन दिया था लेकिन सरकार बनने के बाद भूल गए। दोपहर 12 बजे यूनियन के मंडल अध्यक्ष धर्मवीर सिंह यादव ने घोषणा की कि यदि अपराह्न तीन बजे तक कोई प्रशासनिक अधिकारी नहीं आता तो शाम को फर्रुखाबाद की ओर जाने वाली पैसेंजर ट्रेन को रोक दिया जाएगा।

इस चेतावनी के बाद एसडीएम सदर एनपी पांडेय इनके बीच पहुंचे और वार्ता की। उन्होंने बताया कि 13 फरवरी को डीएम, वन विभाग और पशु पालन विभाग के अधिकारियों की मौजूदगी किसानों के साथ बैठक कराकर समस्या के निराकरण का प्रयास किया जाएगा। मंडल अध्यक्ष धर्मवीर सिंह यादव ने 18 फरवरी का अल्टीमेटम देते हुए कहा कि यदि कोई ठोस पहल शुरू नहीं हुई तो 19 फरवरी को हजारों किसान मुख्यालय पहुंचकर डीएम कार्यालय का घेराव कर उन्हें कामकाज नहीं करने देंगे। 19 फरवरी से ही डीएम कार्यालय के समक्ष भूख हड़ताल शुरू कर देंगे।
सुघर सिंह यादव की अध्यक्षता में हुई पंचायत को भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष तिलक सिंह राजपूत, अजयपाल यादव, अनारचंद्र यादव, रामपाल सिंह, आदित्य चौहान, उदयवीर सिंह यादव, घनश्याम दिवाकर, साहब सिंह यादव, चरन सिंह आदि ने संबोधित किया। संचालन अजयपाल फौजी ने किया।
इन ग्रामों के किसानों ने लिया भाग
हाजीपुर नेरा, अब्दुल नवीपुर, मढ़ामई, सराय मुगलपुर, औरंगाबाद, कोसमा मुसलमीन, कोसमा हिनूद, शहीदाबाद, नगला महाराम, अटा हरैना, नवाटेढ़ा, सुनूपुर, रेढ़ापुर, भगवतीपुर, बमटापुर, नगला पूठ, नगला मांझ, कुतुबपुर, गोकुलपुर, कैरावली, चापरी, धीप, नगला मोहन, नीबरी, नगला भागीरथ, अतरौली, नगला कोरी, भैंसामई, कासगंज, गड़ारा, गढ़ी पीपरा, नगला खुशाली, फाजिलपुर, रहमतुल्लापुर, कालू खेड़ा, बलपुरा, नगला नया, सजा बागपुर, नगला फूल सहाय, नगला बरी, चिरैयापुर आदि।
-----
दो किसानों की हो चुकी मौत
पंचायत में किसानों ने बताया कि जानवरों से फसलों की सुरक्षा करने के दौरान दो किसानों की मौत हो चुकी है। ग्राम अटा हरैना में तीन जनवरी को मचान में रात काटने वाले किसान रामनाथ शाक्य की ठंड लगने से मौत हो गई थी। पिछले साल खेत की रखवाली के लिए सड़क किनारे लेटे एक किसान को किसी अज्ञात वाहन ने रोंद दिया था जिससे उसकी मौत हो गई थी।
-----
जिला वन अधिकारी ओपी गुप्ता का कहना है कि आवारा गायों और नील गायों को पकड़वाने की कोई योजना तो नहीं हैं लेकिन डीएम के आदेश पर इन्हें पकड़वाया जा सकता है। नीलगायों को जंगल में छुड़वाने की व्यवस्था की जा सकती है। जबकि आवारा गायों को पकड़ कर गौशालाओं में भेजा जा सकता है।
----
क्या है नील गाय
नील गाय मृग प्रजाति का घोड़े के जैसा जानवर है। नील घोड़ा और घड़ रोज भी इसे कहते है। 250 किलोग्राम तक इसका वजन होता है, नर के छोटे नुकीले सींग होते है। जंगल में झुंड में विचरण करते है तथा फसलों को चट कर जाते है। इनका शिकार प्रतिबंधित हैं लेकिन वन्य जीव संरक्षण अधिनियम की धारा 1972 के तहत जिलाधिकारी और एसडीएम की अनुमति से मारा जा सकता है लेकिन यह अनुमति तब ही दी जाती है, जब यह साबित हो जाता है कि नील गाय ने आवेदक की फसल को नुकसान पहुंचाया और भविष्य में भी नुकसान पहुंचा सकती है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us