विज्ञापन
विज्ञापन

आल्हा-ऊदल के पराक्रम की याद दिलाता है कजली मेला

Mahoba Updated Sun, 29 Jul 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
महोबा। उत्तर भारत का आठ सदी पुराना ऐतिहासिक कजली मेला आल्हा ऊदल के शौर्य, स्वाभिमान व मातृभूमि प्रेम का अनूठा उदाहरण है। विंध्य पर्वत श्रृंखलाआें, सुरम्य सरोवराें और मोहक नैसर्गिक छटाआें से परिपूर्ण बुंदेलखंड की देवभूमि अपनी ऐतिहासिक, सांस्कृतिक व लोक साहित्य की विविधता तथा लोक उत्सवाें के लिए जानी जाती है। कजली मेला यहां के लोक जीवन में संगीत, संस्कृति और सांप्रदायिक तालमेल का जीता जागता दर्पण है।
विज्ञापन
विज्ञापन
वीरगाथा काल के प्रसिद्ध कवि जगनिक द्वारा रचित परमाल रासो के नायक आल्हा और ऊदल के पराक्रम से जुड़ा महोबा का ऐतिहासिक कजली मेला लोगाें को त्याग और बलिदान की याद दिलाता है। आल्हा और ऊदल के शौर्य, स्वाभिमान की अनूठी मिसाल संजोए ऐतिहासिक मेला 3 अगस्त से शुरू होगा। 831 साल पहले महोबा के चंदेल राजा परमाल के शासन से कजली मेला जुड़ा है। राजा परमाल की पुत्री चंद्रावलि अपनी 14 सखियाें के साथ भुजरियां विसर्जित करने कीरत सागर जा रही थीं। रास्ते में पृथ्वीराज चौहान के सेनापति चामुंडा राय ने आक्रमण कर दिया। पृथ्वीराज चौहान की योजना चंद्रावलि का अपहरण कर उसका विवाह अपने बेटे सूरज सिंह से कराने की थी। उस समय कन्नौज में रह रहे आल्हा और ऊदल को जब इसकी जानकारी मिली तो वे चचेरे भाई मलखान के साथ महोबा पहुुंच गए और राजा परमाल के पुत्र रंजीत के नेतृत्व में चंदेल सेना ने पृथ्वीराज चौहान की सेना पर आक्रमण कर दिया। 24 घंटे चली लड़ाई में पृथ्वीराज का बेटा सूरज सिंह मारा गया। युद्ध में पृथ्वीराज चौहान को पराजय का सामना करना पड़ा। इस युद्ध में चंदेल योद्धा अभई व रंजीत भी मारे गए। युद्ध के बाद राजा परमाल की पत्नी रानी मल्हना, राजकुमारी चंद्रावलि व उसकी सखियाें ने कीरत सागर में भुजरियां विसर्जित कीं। इसके बाद पूरे राज्य में रक्षाबंधन का त्योहार मनाया गया। तभी से महोबा क्षेत्र के ग्रामीण रक्षाबंधन के एक दिन बाद अर्थात भादों मास की परीवा को कीरत सागर के तट से लौटने के बाद ही बहनाें से राखी बंधवाते हैं।
पृथ्वीराज चौहान पर मिली विजय से उत्साहित रानी मल्हना ने अगले दिन गोरखागिरि के एक शिलाखंड पर उत्कीर्ण विशालतम गजांतक शिव प्रतिमा के सामने आराधना कर उत्सव मनाया था। तब से गोरखागिरि पर्वत पर दूसरे दिन कजली मेला आयोजित किया जाता है। आल्हा-ऊदल की इस वीरभूमि में आठ सदी बीतने के बाद भी लाखाें लोग कजली मेले में आते हैं। इसके बावजूद इस कजली मेले को आज तक राष्ट्रीय मेला घोषित नहीं किया जा सका। पहले इस मेले का आयोजन स्वयंसेवी संस्थाएं कराती थीं और अब पालिका तथा प्रशासन की देखरेख में मेले का आयोजन किया जाता है।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा,  पाएं पूरा समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
ज्योतिष समाधान

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा, पाएं पूरा समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Mahoba

डीआईजी और डीएम ने लिया स्ट्रांग रूम का जायजा

चित्रकूटधाम परिक्षेत्र मंडल बांदा के पुलिस उप महानिरीक्षक एके राय, जिला निर्वाचन अधिकारी सहदेव और पुलिस अधीक्षक स्वामीनाथ सहित तमाम अधिकारियों ने मंगलवार को

21 मई 2019

विज्ञापन

कांग्रेस का सीएम त्रिवेंद्र पर बड़ा हमला, दिखाई करीबी के स्टिंग की वीडियो

मंगलवार को कांग्रेस ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत पर सीधा और बड़ा हमला किया। कांग्रेस ने व्यवसायी संजय गुप्ता और सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के करीबी रिश्तों का जिक्र किया और दोनों को बिजनेस पार्टनर बताया।

21 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election