बुलंद हुई या हुसैन या हुसैन की सदाएं

Mahoba Updated Mon, 26 Nov 2012 12:00 PM IST
dlअमर उजाला ब्यूरो
महोबा। मोहर्रम पर जिले में ताजिया जुलूस निकाला गया, जो परंपरागत मार्गों से होता हुआ काजीपुरा मैदान में पहुंचा। जहां पर देर रात तक जलसा होता रहा। ताजिया जुलूस दौरान जगह-जगह लंगर लुटाया गया। ताजियाें के पीछे लोग मर्सिए पढ़ते हुए चल रहे थे।
मोहर्रम की नौवीं को रात्रि करीब 11 बजे शहर के मोहल्ला मकनियापुरा से ताजिए निकाले गए। जो बड़ीहाट, दरियापुरा होते हुए कसौरा तिराहे पर पहुंचा। जहां पर या हुसैन, या हुसैन की सदाएं बुलंद करते हुए लोगाें ने 40 मिनट तक मातम किया। यहां पर कसौरा और मकनियापुरा के ताजिए के बीच काफी देर तक जलसा हुआ। जहां पर महताबाें की रोशनी की गई। इसके बाद ताजिए भीतरकोट मैदान में पहुंचे। जहां पर कसौरापुरा और भीतरकोट के ताजिए के बीच जलसा हुआ। सभी ताजिए कतारबद्ध तरीके से मुख्य मार्गों से होते हुए काजीपुरा मैदान पहुंचे।
उधर, मिलकीपुरा, दरियापुरा, चौसियापुरा, मनिहारपुरा सहित एक दर्जन मोहल्लाें के ताजिए कतारबद्ध तरीके से परंपरागत मार्गों से होते हुए काजीपुरा मैदान पहुंचे। जहां पर सभी ताजिए रखे गए और जलसा हुआ। काजीपुरा मैदान में नवयुवकाें द्वारा पटाबनैती और लाठी डंडाें से करतब दिखाए गए। काजीपुरा मैदान में भारी भीड़ जुटी। जिसके चलते इस स्थान पर मेले जैसा दृश्य दिखाई दिया। तमाम छोटी-छोटी दुकानें भी लगी हुई थीं। जहां पर लोगाें ने खान-पान की वस्तुआें की खरीददारी की। काजीपुरा इमाम चौक पर अकीदत मंदाें ने इमाम हुसैन की याद में मर्सिए पढ़े। चाराें तरफ से हसन हुसैन, हसन हुसैन.. की सदाएं बुलंद करते हुए लोग ताजियाें के साथ काजीपुरा परिसर पहुंच गए। मोहर्रम की दसवीं पर भी शाम करीब 4 बजे शहर के विभिन्न स्थानाें से ताजिया जुलूस निकाला गया। श्रीनगर प्रतिनिधि के अनुसार कस्बे के बाजार से मुस्लिम भाइयाें ने ताजिए निकाले। बेलाताल प्रतिनिधि के अनुसार कस्बे के जमींदारी इमामबाड़े से ताजिए निकाले गए। सभी ताजिए जुगयाना, बजरिया, शीश महल और ड्योढ़ीपुरा होते हुए पुलिस चौकी पहुंचकर एकत्र हुए। जहां करीब चार घंटे तक जलसा हुआ। ताजियाें के साथ-साथ निकाली गईं ढाल सवारियां भी आकर्षण का केंद्र रहीं। सुरक्षा व्यवस्था के लिए नायब तहसीलदार और पुलिस महकमा जुटा रहा। खन्ना प्रतिनिधि के अनुसार इमाम चौक में ताजियाें का मिलाप हुआ। ताजिए बजरंग चौक, पुराना अलाव स्थल होते हुए थाना परिसर स्थित मसजिद पहुंचे। इस दौरान अकीदतमंदाें ने खूब लंगर लुटाया। अजनर प्रतिनिधि के अनुसार सगुनिया और अजनर के ताजिए जामा नूरी मसजिद के पास एकत्र हुए। कबरई प्रतिनिधि के अनुसार गांधी नगर पुरानी बाजार से ताजिए निकाले गए। ताजिए कबरई बस्ती, मेन मार्केट और छंगा तिराहा होते हुए निकाले गए। जगह-जगह जलसा हुआ। कुलपहाड़ प्रतिनिधि के अनुसार कस्बे के मोहल्ला टिलवापुरा से ताजिए निकाले गए। सभी ताजिए तहसील होते हुए बाजार की गल्ला मंडी मैदान में पहुंचे। जहां पर ताजियाें का मिलाप हुआ और मर्सिए पढ़े गए। ताजिया जुलूस में मुस्लिम भाइयाें के साथ-साथ हिंदुआें ने भी शिरकत की। चरखारी प्रतिनिधि के अनुसार कस्बे के सभी इमामबाड़ाें से ताजिए शनिवार की रात को ड्योढ़ी परिसर पहुंचे। जहां पर हसन हुसैन, हसन हुसैन की सदाआें के बीच जलसा हुआ। सभी ताजिए रावबाग महल पहुंचे। मोहर्रम की दसवीं को शियाआें का ताजिया असगर अब्बास के इमामबाड़े से निकाला गया।
इनसेट
अजादारों ने अंगारे उछालकर खेला अलाव
dlअमर उजाला ब्यूरो
महोबा। पैगंबर-ए-इस्लाम हजरत मोहम्मद साहब के नवासे इमाम हुसैन की याद में शहर के आधा दर्जन से ज्यादा स्थानाें पर अजादारों ने अलाव खेला और ढाल सवारियां निकलीं। ढोल नगाड़ों की धुन पर अलाव खेलने वाले नवयुवक साथ में चल रहे थे।
शनिवार की रात को शहर के मोहल्ला हवेली दरवाजा, पशु बाजार, चौसियापुरा, काजीपुरा सहित आधा दर्जन से ज्यादा स्थानाें पर इमाम हुसैन के दीवानाें ने जलते हुए आग के अंगाराें में कूदकर हाथों से फूलाें की तरह अंगारे उछालकर खरीजे अकीदत पेश की। दूल्हा, दूल्हा की सदाआें के बीच दहकते अंगाराें में कूदकर आग उछालने पर लोग दांताें तले अंगुली दबाने को मजबूर हो गए। अलाव देखने के लिए भारी भीड़ जुटी। अलाव स्थल पर और ताजिया जुलूस में सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस बल तैनात कर दिए गए थे। जिससे कहीं पर किसी भी तरह की कोई घटना नहीं घट सकी। रात्रि करीब 11 बजे शहर के विभिन्न स्थानाें पर अलाव खेलने की शुरुआत की गई। श्रीनगर प्रतिनिधि के अनुसार कसबे के बाजार प्रांगण में इमाम हुसैन के दीवानाें ने अलाव खेला। उधर, चरखारी कसबे में गोलाघाट और नयापुरा में अलाव खेला गया। कबरई प्रतिनिधि के अनुसार शेख जब्बार के आवासीय परिसर में अलाव खेला गया। खन्ना प्रतिनिधि के अनुसार खन्ना कसबे में मेन बाजार और तकिया मोहाल में अलाव खेलने के लिए अकीदत मंदाें ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया। अलाव देखने के लिए भारी भीड़ जुटी। शनिवार को विभिन्न इमामबाड़ों से ढाल सवारियां निकाली गईं, जो हवेली दरवाजा, नैकानापुरा, भीतरकोट होते हुए पीर मुबारक शाह की दरगाह पहुंचीं।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी में नौकरियों का रास्ता खुला, अधीनस्‍थ सेवा चयन आयोग का हुआ गठन

सीएम योगी की मंजूरी के बाद सोमवार को मुख्यसचिव राजीव कुमार ने अधीनस्‍थ सेवा चयन बोर्ड का गठन कर दिया।

22 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper