विज्ञापन

प्रतिष्ठित प्रतिमाएं विराजमान, हुआ कलशारोहण

lalitpur Updated Sun, 02 Dec 2018 01:51 AM IST
प्रशासन
प्रशासन - फोटो : sample
ख़बर सुनें
ललितपुर। आचार्यश्री विद्यासागर महाराज ससंघ के सान्निध्य में दयोदय गोशाला परिसर में स्थित मुनिसुव्रतनाथ जिनालय और मानस्तंभ में पंचकल्याणक में प्रतिष्ठित प्रतिमाओं को विधि-विधान के साथ विराजमान किया गया। सुबह श्रद्घालुओं को अमृत वचन देने के बाद आचार्यश्री विद्यासागर महाराज का दोपहर में अचानक पाली की ओर विहार हो गया।  
विज्ञापन
विज्ञापन
पंचकल्याणक में प्रतिष्ठित हुई प्रतिमाओं को विधि विधान के साथ विराजमान करने के साथ ही जिनालय पर कलशारोहण और ध्वजारोहण भी उत्साह के साथ किया गया। इस अवसर पर आचार्य विद्यासागर महाराज ने अपने अमृतमयी वचनों से कहा कि योग निग्रह के बाद भगवान ऋषभ देव कैलाश पर्वत से मुक्त हो गए। जिस कैलाश पर्वत से ऋषभ देव मोक्ष को प्राप्त हुए वहां अभी तक कोई नहीं पहुंच पाया है। हम यहीं से उनकी वंदना करते हैं। उन्होंने भरत चक्रवर्ती का उदाहरण देते हुए कहा कि जब ऋषभ देव का मोक्ष हो गया तो उनकी आंखों में आंसू आ गए। वह शोक में डूब गए। वह इसलिए कि अब धर्मामृत पान करने का अवसर नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि तीर्थंकर के समवशरण में बैठना बहुत दुर्लभ होता है। आचार्यश्री ने कहा कि पंचकल्याणक में प्रतिष्ठित होने के बाद भगवान अपने स्थान पर बैठ गए, आप लोग क्या खड़े ही रहोगे? आप लोग भी भगवान जैसा बनने की भवनाएं भाएं। यह संसार तो फीका-फीका है और फीका ही रहेगा। कहां से आए हैं कहां जाना है, पता ही नहीं, भटक रहे हैं। सच्चा सुख तो मोक्ष है। हमें भगवान ने जो स्वरूप प्राप्त किया है वह प्राप्त करने की दिशा में अपने कदम बढ़ाना चाहिए। भगवान की वाणी का अनुसरण कर अपना आत्मकल्याण करें। आप लोगों ने आयोजन को सानंद संपन्न कर अहिंसा धर्म की प्रभावना की है। यहां लोगों ने आदर्श काम किया है। सुबह प्रवचन से पूर्व पदमचंद्र जैन परिवार और सुरेश जैन परिवार को आचार्यश्री के पाद प्रक्षालन का अवसर प्राप्त हुआ। मंदिर पर कलशारोहण करने का अवसर जिनेंद्र जैन पंसारी परिवार और नरेंद्र कड़ंकी परिवार को प्राप्त हुआ। मंदिर पर ध्वजारोहण करने का अवसर सुरेश जैन, विकास जैन परिवार को मिला। छत्र चढ़ाने का सौभाग्य अखिलेश जैन गदयाना परिवार को और चंवर चढ़ाने का अवसर शीलचंद्र जैन बल्लू बछरावनी परिवार को प्राप्त हुआ। मंदिर में घंटा समर्पित करने का पुण्यार्जन नरेन्द्र कड़ंकी, डा. संजीव कड़ंकी, सुरेंद्र, राकेश कड़ंकी परिवार ने किया।  विधिनायक पर छत्र अनिल रसिया पाली और विधिनायक का सिंहासन स्थापित करने का अवसर बाबूलाल जैन, जिनेंद्र जैन चढ़रऊ परिवार को प्राप्त हुआ। संचालन विनय भैया ने किया।
इस अवसर पर ललितपुर में शीतकालीन वाचना के लिए समस्त पदाधिकारियों ने आचार्यश्री को श्रीफल समर्पित किए, जबकि अन्य जनपदों से आअ समाज के लोगों ने भी आचार्यश्री को उनके यहां पधारने के निवेदन के साथ श्रीफल समर्पित किए। इस अवसर पर नगर के होनहार कलाकार समय नामदेव द्वारा अपने हाथ से बनाई गई आचार्यश्री की मनमोहक छवि की पेंटिंग का भी विमोचन किया गया। इसे प्राप्त करने का अवसर डा. संजीव कड़ंकी, सार्थक कड़ंकी परिवार  को प्राप्त हुआ। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु और समाज श्रेष्ठी उपस्थिति रहे। इसके बाद दोपहर दो बजे अचानक आचार्य विद्यासागर महाराज ससंघ का विहार पाली की ओर हो गया है। संभावित दिशा पुरातत्व के भंडार देवगढ़ होने की संभावना की जा रही है। जैसे ही लोगों को विहार की भनक लगी हजारों श्रद्धालु गोशाला की ओर चल दिए। यह माना जा रहा था कि शायद इतनी जल्दी आचार्यश्री विहार नहीं करेंगे, लेकिन आचार्यश्री विहार कर गए।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Jhansi

तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवार दंपती को कुचला, एक की मौत, दूसरा गंभीर रूप से घायल

ललितपुर में सोमवार को हुए एक सड़क हादसे में ट्रक ने बाइक सवार दंपती को कुचल दिया। इस घटना में पत्नी की जहां मौके पर ही मौत हो गई वहीं पति गंभीर रूप से घायल हो गया।

17 दिसंबर 2018

विज्ञापन

आगरा के भव्य राधास्वामी मंदिर की इन विशेष बातों को नहीं जानते होंगे आप

आगरा यूं तो ताजमहल के लिए विश्व प्रसिद्ध है पर अब इसकी एक और पहचान विश्व पटल पर उभर रही है और वो है राधास्वामी मंदिर। दयालबाग में बने इस भव्य राधास्वामी मंदिर के इतिहास और विशेषताओं के बारे में आपको इस रिपोर्ट में बताते हैं।

19 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree