विज्ञापन
विज्ञापन

खुले आसमान में जिंदगी बसर करता है चंदेल सहरिया

lalitpur Updated Sun, 09 Dec 2018 01:08 AM IST
shariya community lalitpur
shariya community lalitpur - फोटो : demo
ख़बर सुनें
सरकार भले ही गरीबों को आशियाना देने के दावे करती रहे पर महरौनी तहसील के मजरा दिगवार गांव का निवासी चंदेल आदिवासी आज भी खुले आसमान के नीचे जिंदगी गुजारने को मजबूर है। उसे एक छोटी सा जमीन का टुकड़ा सरकार ने शौचालय बनाने के लिए दिया था। इसी शौचालय के अंदर वह अपना जरूरी सामान रखे रहता है, जबकि बनाने व खाने का काम इसके पास बाहर पड़ी जमीन पर करता है। बारिश व सर्दी के दिनों में जब मौसम अपने चरम पर होता है तो चंदेल को इसी शौचालय के अंदर घुसकर किसी तरह अपना बसेरा करना पड़ता है।  
विज्ञापन
विज्ञापन
 शौचालय में आटा रखने के लिए एक डिब्बा, सब्जी बनाने के लिए एक डेकची और चम्मच, मसाले रखने के लिए एक डलिया में छोटे-छोटे प्लास्टिक के डब्बे, आटा गूंथने के लिए एक परात और खाना खाने के लिए एक थाली और इसके बाहर खुले आसमान में खाना बनाने के लिए ईटों से बना चूल्हा है। ज्यादा ठंड या हवा चलने पर शौचालय में ही ऊकड़ू होकर सो जाता है। जंगल से लकड़ी एकत्रित करके जीवन यापन करता है। उसके पास न तो सर छिपाने के लिए छत है और न ही मनरेगा में काम करने के लिए गारंटी वाला जॉबकार्ड। भले ही सरकारें अंतिम आदमी तक योजनाएं और विकास पहुंचाने का दावा करती हों लेकिन दिगवार का चंदेल सहरिया सरकार के दावों की पोल खोलने के लिए काफी हैं। मजेदार बात तो यह हैं कि वर्ष 2013-14 दिगवार गांव लोहिया समग्र विकास गांव रह चुका है, उस समय तो चंदेल सहरिया सड़क किनारे अपना जीवन यापन कर रहा था, बावजूद इसके किसी का भी ध्यान इस ओर नहीं गया। दिगवार गांव का चंदेल सहरिया बताता है कि शौचालय बनने से पहले वह सड़क किनारे रहता था, उसके माता पिता की जिंदगी भी सड़क किनारे ही निकल गई। बरसात होने पर सड़क किनारे ही छोटी सी बरसाती डालकर रहते थे । कुछ वर्ष पूर्व तत्कालीन एसडीएम के मौखिक आदेश पर उसे ग्राम सभा की जमीन पर छोटा सा टुकड़ा रहने के लिए दिया गया था। आर्थिक स्थिति खराब होने के चलते उस पर झोपड़ी तक बनाने में सक्षम नहीं था। हाल ही में शौचालय का निर्माण हुआ तो ठंड के चलते उसी को आवास के रूप में उपयोग कर रहा हैं। आगे उसने बताया कि पात्र गृहस्थी के तहत ढ़ाई किलो चावल और ढ़ाई किलो गेहुं मिलता हैं। इसके अलावा वह जंगल से लकड़ी एकत्रित कर बेचकर उदरपूर्ति करता हैं। कई बार जॉबकार्ड बनाने के लिए भी जनप्रतिनिधि को कहा लेकिन उसका जॉबकार्ड नहीं बनाया जा रहा हैं। उसने आवास एवं जॉबकार्ड के लिए उच्चाधिकारी का ध्यान आकृष्ट कराया है।

 इस संबंध में ग्राम प्रधान मुकेश निरंजन का कहना हैं कि चंदेल सहरिया का नाम 2011 की सूची में नहीं होने के कारण उसे आवास नहीं मिल सका है। उसका नाम आवास आवंटन के लिए लिख लिया गया हैं। जहां तक जॉबकार्ड बनाने की बात हैं तो तत्कालीन सीडीओ(प्रवीण लक्षकार) ने जॉबकार्ड निर्गत करने पर रोक लगा दी थी तभी से जॉबकार्ड नहीं बनाए गए हैं। इस वजह से उसे जॉबकार्ड जारी नहीं किया जा रहा है।  

मामला संज्ञान में नहीं हैं
खंड विकास अधिकारी महरौनी डा. अजय शर्मा का कहना हैं कि शौचालय में निवास कर रहा हैं ऐसा मामला मेरे संज्ञान में नहीं हैं। क्रमानुसार आवास का आवंटन हो रहा हैं। क्रम आते ही उसका आवास बन जाएगा। सोमवार को जांच कर जॉबकार्ड बनवाया जाएगा।

Recommended

HP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
HP Board 2019

HP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019
ज्योतिष समाधान

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Lalitpur

दो दिन से लापता बालक का शव कुएं में उतराता मिला

दो दिन से लापता बालक का शव कुएं में उतराता मिला

19 अप्रैल 2019

विज्ञापन

फैक्टरी में अमोनिया गैस का रिसाव, दो दर्जन से ज्यादा लोग पहुंच गए अस्पताल

मथुरा में एक आइस फैक्ट्री में अमोनिया गैस का रिसाव हो गया। घटना के बाद लोगों में अफरातफरी मच गई। हादसे में दो दर्जन लोग प्रभावित हुए। जिसके बाद उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया।

20 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election