हर तरफ से आई आवाज हम बचाएंगे बेटियां

Lalitpur Updated Sun, 26 Jan 2014 05:51 AM IST
ललितपुर। प्रत्येक राष्ट्र की पहचान नारी शक्ति से होती है। शास्त्रों में पुरुष से कहीं अधिक शक्तिशाली एवं राष्ट्र रक्षक नारी को माना गया है। दुर्गा, चंडी शक्ति का रूप धारण करके बेटियों ने ही नैतिक मूल्यों की सदैव रक्षा की है, इसलिए बेटी के अस्तित्व की रक्षा से ही सामाजिक मूल्यों की रक्षा होगी। यह बात नेहरू महाविद्यालय के संस्कृत विभागाध्यक्ष डा. ओमप्रकाश शास्त्री ने अमर उजाला की ‘बेटी ही बचाएगी ’ अभियान में भाग लेते हुए कही।
बेटी बचाओ दिवस पर नेहरू महाविद्यालय में आयोजित संगोष्ठी के दौरान शास्त्री ने कहा कि बेटी के अस्तित्व की रक्षा के लिए इस दिवस का आयोजन किया जाता है। अन्य वक्ताओं ने कहा कि समाज में बेटे और बेटी के बीच अंतर करना घटिया मानसिकता का परिचायक है। कटु सच्चाई यह भी है कि हर वर्ग व समाज के लोग बेटी की अपेक्षा बेटों के लिए अधिक लालायित रहते हैं। बेटियों को बेटों की अपेक्षा कम सुविधाएं दी जाती हैं, जिसकी वजह से उनको आगे बढ़ने का पर्याप्त मौका नहीं मिल पाता है। जबकि, बेटी ही समाज की धुरी है। सामाजिक चक्र का आधार उससे ही चल रहा है। कम सुविधाओं के बावजूद बेटियां नित नये आयाम हासिल कर रही हैं। ऐसे में अगर बेटियों को पर्याप्त सुविधाएं दी जाएं तो उनको मंजिल तक जाने से कोई भी नहीं रोक सकता है। इस मानसिकता को अब बदलना ही होगा। उन्होंने कहा कि अमर उजाला की अनूठी पहल ने लोगों की सोच को झकझोर दिया है। अब लोग ईमानदारी के साथ बेटी बचाने का संकल्प ले रहे हैं। इस दौरान संस्कृत विभागाध्यक्ष ने छात्र-छात्राओं को बेटी के हक में शपथ दिलवाई, साथ ही लोगों ने शपथ पत्र भी भरवाए गए। कालेज के प्राचार्य अवधेश अग्रवाल भी इस मुहिम में शामिल रहे।
इस दौरान डा. दीपक पाठक, डा. सुधाकर उपाध्याय, डा. सूबेदार यादव, प्रीति सीरौठिया, राजकुमार, मुकेश पंथ, डा. मधु समाधिया, डा. ओ पी चौधरी, मुकेश पंथ आदि मौजूद रहे। वहीं, नगर संसाधन केंद्र परिसर में शिक्षक, शिक्षिकाओं के साथ बड़ी संख्या में शिक्षा मित्र भी इस अभियान में मौजूद रहे। शिक्षकों ने कहा कि बेटी से ही समाज का अस्तित्व है। इस सच्चाई को नकारा नहीं जा सकता है। लोगों को अपनी सोच बदलने के लिए ‘बेटी ही बचाएगी’ अभियान से प्रेरणा मिली है। लोग सच्चे मन से बेटी बचाने का संकल्प ले रहे हैं। इस दौरान लोगों ने बेटी के हक में शपथ ली और शपथ पत्र भी भरे। बेटी बचाने के लिए लोगों ने जोरदार नारे लगाकर संकल्प लिया। उधर, अभिकर्ता मनीष जैन ने अमर उजाला की अनूठी पहल ‘बेटी ही बचाएगी’ अभियान को आगे बढ़ाने में अपना सराहनीय योगदान दिया। उन्होंने जैन अटा मंदिर के पास लोगों से शपथ पत्र भरवाए और बेटी के हक में शपथ भी दिलवाई।

अभियान से आया लोगों की सोच में बदलाव
बिरधा (ललितपुर)। अमर उजाला की अनूठी पहल ‘बेटी ही बचाएगी’ अभियान के कारवां में बिरधा स्थित किसान इंटर कालेज भी शामिल रहा। शुक्रवार को कालेज के शिक्षकों व छात्राओं ने बेटी के हक में शपथ ली और शपथ पत्र भरा।
बेटी के हक में शपथ लेने वालों की संख्या दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। शुक्रवार को बिरधा स्थित किसान इंटर कालेज में प्राधानाचार्य राजकुमार शर्मा ने कहा कि बेटी के विभिन्न रूपों में समाज का सार छिपा हुआ है। हर रूप में बेटी की महत्ता को कमतर नहीं किया जा सकता, फिर भी लोग बेटों और बेटियों में फर्क करते हैं। इस सोच को बदलने के लिए यह अभियान सार्थकता की ओर आगे बढ़ रहा है। बेटियों के प्रति लोगों की सोच में बदलाव आया है। यह क्रम लगातार जारी रहना चाहिए। इस अवसर पर रघुवीर सिंह बुंदेला, कृष्ण प्रताप सिंह, कमलेश सविता, डीआर निरंजन, सुनील नामदेव, जुझार कुशवाहा आदि मौजूद रहे।


लिया बेटी बचाने का संकल्प
पाली (ललितपुर)। पाली नगर पंचायत में शुक्रवार को अमर उजाला की अनूठी पहल ‘बेटी ही बचाएगी’ अभियान से सैकड़ों लोग जुड़ गए। जिला परिषद इंटर कालेज, छत्रपति शिवाजी एमएसडी कालेज व श्री महावीर इंटर कालेज में शिक्षिकों के साथ छात्र- छात्राओं ने बेटी के हक में शपथ ली।
जिला परिषद इंटर कालेज प्रधानाचार्य किशनलाल ने एक गोष्ठी आयोजित करते हुए कहा कि बेटी को समाज में सर्वोच्च स्थान मिलना चाहिए, क्योंकि बेटी ही समाज का आधार है, उसके बगैर मानव समाज का अस्तित्व ही संभव नहीं है। उन्होंने छात्राओं के साथ शिक्षकों को भी बेटी के हक में शपथ दिलाई और शपथ पत्र भी भरे। इस दौरान मोहम्मद अली, दयाराम स्वर्णकार, श्यामलाल चौरसिया, महेंद्र कुमार श्रीवास्तव, जमुना प्रसाद, अवरारुद्दीन मलिक, राजेश चौरसिया, नरेंद्र बुनकर, अमित चौरसिया, शायरा खातून, कृष्ण कुमार चौरसिया, लोकनाथ चौरसिया, अशोक कुमार, सुरेंद्र सिंह बुंदेला, संतोष नामदेव, उमाकांत मिश्र आदि मौजूद रहे। छत्रपति शिवाजी एमएसडी महाविद्यालय में भी गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस दौरान प्राचार्य डा. राजेंद्र प्रकाश ने कहा कि हर रूप में बेटी समाज को सुख देने का काम करती है, फिर भी बेटी को कमजोर आंके जाने की गलती समाज लगातार करता चला आ रहा है। अमर उजाला ने ऐसी सोच रखने वाले लोगों को हकीकत से रू-ब-रू कराया है। अब लोग अपनी सोच बदलने को विवश हो रहे हैं, यह अभियान की बड़ी सफलता है। उन्होंने शिक्षकों व छात्राओं को शपथ दिलवाई और शपथ पत्र भरवाकर बेटी बचाने का संकल्प लिया।
इस दौरान डा. सोनू श्रीवास्तव, डा. अजय कुमार श्रीवास्तव, डा. विनीत कुमार अग्निहोत्री, नरेश कुमार निरंजन, रमेश बाबू सेन, उमाशंकर चौरसिया, वर्षा साहू, आरती, करुणाकर शर्मा, नेहा नामदेव, बीना कुमारी, ममता निरंजन, राहुल चौरसिया, किरण, अमित कुमार निरंजन, नरेंद्र कुमार पटेल, गजेंद्र सिंह श्याम किशोर आदि मौजूद रहे। वहीं महावीर स्कूल में प्रधानाचार्य मुकेश परिहार ने आयोजित गोष्ठी के दौरान बेटी बचाने का लोगों को संकल्प दिलाया। इस मौके पर भगवत प्रकाश चौरसिया, भगवान सिंह, भरत राम, किशन लाल, अजय चौरसिया, प्रियशी जैन, पूनम जैन, अंकित टोटें, सोनम मिश्र, नरेंद्र परिहार, घनश्याम, महेंद्र रसिया आदि मौजूद रहे। नीलकंठेश्वर स्कूल में भी बेटी के हक में शपथ ली गई। इस दौरान लक्ष्मण पाठकार, महेंद्र, प्रदीप जैन, जयकुमार पार्षद, दीपक जैन, राजू पांडेय, आशीष, पीर अली, गुड्डू पांडेय, मनमोहन चौरसिया, कल्लू कुशवाहा, पुष्पेंद्र कुशवाहा, नितिन जैन मोदी, प्रियंक जैन, हरिओम चौरसिया आदि मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

Budaun

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

21 जनवरी 2018

Related Videos

झांसी में हारे हुए प्रत्याशी ने नवनिर्वाचित पार्षद को मारी गोली

झांसी में नवनिर्वाचित निर्दलीय प्रत्याशी अनिल सोनी को गोली मार दी गई। गोली हारने वाले निर्दलिय प्रत्याशी मोहित चौहान ने मारी है। बता दें गोली जीते हुए प्रत्याशी अनिल सोनी के सिर से छूते हुए निकली। फिलहाल अनिल सोनी की हालत स्थिर बनी हुई है।

2 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper