बालक की मौत पर डाक्टर से स्पष्टीकरण तलब

Lalitpur Updated Fri, 14 Dec 2012 05:30 AM IST
ललितपुर। बस स्टैंड पर झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले तीन वर्षीय बालक की उल्टी व दस्त के कारण संयुक्त जिला चिकित्सालय में उपचार के दौरान मौत हो गई। करीब पांच घंटे भर्ती रहने के बाद भी अस्पताल में पदस्थ बाल रोग विशेषज्ञ ने बालक का परीक्षण नहीं किया। इस पर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ने चिकित्सक से स्पष्टीकरण तलब कर लिया है।
मूलत: नागपुर में रहने वाले राजा का परिवार मौजूदा समय में बस स्टैण्ड पर झुग्गी झोपड़ी में रहकर प्लास्टिक आदि कबाड़ बीनकर जिंदगी बसर कर रहा है। बीते रोज बीमारी के चलते राजा को जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया था। बुधवार शाम तीन वर्षीय राजा को अचानक उल्टी व दस्त शुरू हो गए। शाम लगभग सात बजे परिजन उसे लेकर संयुक्त जिला चिकित्सालय पहुंचे, जहां इमरजेंसी में मौजूद चिकित्सकों ने उसे भर्ती कर उपचार शुरू कर दिया। रात से सुबह तक उल्टी व दस्त के चलते बच्चे की हालत काफी बिगड़ गई, करीब एक घंटे इमरजेंसी में उपचार के बाद चिकित्सकों ने उसे बाल रोग विशेषज्ञ की देखरेख में उपचार के लिए बच्चा वार्ड में भेज दिया, जहां दोपहर बारह बजे उसकी मौत हो गई। महत्वपूर्ण बात यह रही कि गंभीर रूप से बीमार बच्चे को भर्ती किए जाने से लेकर उसकी मौत तक इस मासूम को बाल रोग विशेषज्ञ का उपचार नसीब नहीं हो सका। हालांकि, इस संबंध में बाल रोग विशेषज्ञ का कहना है कि वार्ड में राउंड के दौरान उन्हें बच्चा नहीं मिला था और न ही भर्ती के कागज उनके सामने लाए गए। काफी देर बाद में उन्हें बालक के भर्ती होने की जानकारी दी गई, जिस पर उन्होंने उसे तत्काल इमरजेंसी भेजकर ऑक्सीजन लगाने की सलाह दी थी। बाल रोग विशेषज्ञ का यह भी कहना है कि यदि बच्चे की हालत काफी नाजुक थी तो उसे वार्ड में शिफ्ट ही नहीं किया जाना चाहिए था। वहीं, बालक की मौत का यह मामला संज्ञान में आने पर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. आर के सक्सेना ने बाल रोग विशेषज्ञ से स्पष्टीकरण तलब कर लिया है। सीएमएस ने यह भी कहा कि इसके पूर्व भी कार्य के प्रति उदासीनता उजागर होने पर चिकित्सक से जवाब मांगा गया था। उन्होंने दावा किया है कि चिकित्सालय में आने वाले मरीजों को शासन की मंशा के अनुरूप स्वास्थ्य सेवाएं दी जा रही हैं, इस कार्य में किसी भी स्तर पर लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

14 साल के इस बच्चे ने कराई चार कैदियों की रिहाई, दान में दी प्राइज मनी

14 साल के आयुष किशोर ने चार कैदियों की रिहाई के लिए दान कर दी राष्ट्रपति से मिली प्राइज मनी।

22 जनवरी 2018

Related Videos

झांसी में हारे हुए प्रत्याशी ने नवनिर्वाचित पार्षद को मारी गोली

झांसी में नवनिर्वाचित निर्दलीय प्रत्याशी अनिल सोनी को गोली मार दी गई। गोली हारने वाले निर्दलिय प्रत्याशी मोहित चौहान ने मारी है। बता दें गोली जीते हुए प्रत्याशी अनिल सोनी के सिर से छूते हुए निकली। फिलहाल अनिल सोनी की हालत स्थिर बनी हुई है।

2 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper