संदर्भदाता बनकर रह गए एबीआरसी

Lalitpur Updated Thu, 06 Dec 2012 05:30 AM IST
ललितपुर। ब्लाक संसाधन केंद्रों पर शैक्षिक सपोर्ट को नियुक्त किए गए सह समन्वयक प्रशिक्षणों के संदर्भदाता ही बनकर रह गए हैं। स्थिति यह है कि प्रशिक्षणों की व्यस्तता के चलते विद्यालयों का ठीक तरीके से शैक्षिक अनुश्रवण तक नहीं हो पा रहा है। इस वजह से शासन प्रशासन की मंशा पर पानी फिरता दिख रहा है।
सह समन्वयक शैक्षिक अनुश्रवण के स्थान पर प्रशिक्षणाें में संदर्भदाता की भूमिका तक ही सीमित हैं। पहले संवाद दो, शिक्षा मित्रों के द्विवर्षीय प्रशिक्षण के संदर्भदाता बने रहे, अब जीवन कौशल कार्यक्रम, सतत एवं व्यापक मूल्यांकन व विद्यालय प्रबंध समिति के प्रशिक्षण के संदर्भदाता बन गए हैं। इसके चलते परिषदीय शिक्षकों को शैक्षिक सपोर्ट नहीं मिल पा रहा है। शिक्षा की गुणवत्ता सुधरना तो दूर परिषदीय विद्यालयों में पुराने ढर्रे पर उबाऊ शिक्षण कार्य धड़ल्ले से हो रहा है। ऐसी तमाम कमियां विद्यालयों में निरीक्षण के दौरान अफसरों को मिल रही हैं। जिलाधिकारी रणवीर प्रसाद को भी नगर के समीपवर्ती पूर्व माध्यमिक विद्यालय पटौराकलां शिक्षण कार्य गड़बड़ मिला था। यहां एक छात्रा प्रेमचंद के पाठ का ठीक तरह से वाचन नहीं कर पाई थी। यही नहीं, छात्रवृत्ति वितरण के सत्यापन के दौरान भी कई विद्यालयों में उन्हें शैक्षिक गुणवत्ता निम्न मिली थी। यह बात और है कि इसके बाद भी विभागीय अफसर हकीकत से मुंह मोड़ते नजर आ रहे हैं।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

झांसी में हारे हुए प्रत्याशी ने नवनिर्वाचित पार्षद को मारी गोली

झांसी में नवनिर्वाचित निर्दलीय प्रत्याशी अनिल सोनी को गोली मार दी गई। गोली हारने वाले निर्दलिय प्रत्याशी मोहित चौहान ने मारी है। बता दें गोली जीते हुए प्रत्याशी अनिल सोनी के सिर से छूते हुए निकली। फिलहाल अनिल सोनी की हालत स्थिर बनी हुई है।

2 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls