चार अरबन हेल्थ पोस्ट स्वीकृत, एक ही संचालित

Lalitpur Updated Fri, 23 Nov 2012 12:00 PM IST
ललितपुर। नगर की मलिन बस्तियों में रहने वाले लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। सरकार ने नगर की चार मलिन बस्तियों में अरबन हेल्थ पोस्ट स्वीकृत किए हैं, लेकिन स्वास्थ्य विभाग के अफसरों की बेरुखी से महज एक ही हेल्थ पोस्ट संचालित है।
वर्ष 2011 के जनसंख्या सर्वे के अनुसार जनपद ललितपुर की कुल आबादी 12,18002 थी, जिसमें नगरीय क्षेत्र की आबादी 1,75095 आंकी गई थी। आबादी के लिहाज से नगरीय क्षेत्र में चार अरबन हेल्थ पोस्ट स्वीकृत हैं, जिसके सापेक्ष एक हेल्थ पोस्ट नेहरू नगर में संचालित किया जा रहा है। नगर पालिका परिषद के रिकार्ड में मुहल्ला नारायणपुरा, सिद्धनपुरा, नेहरूनगर, रामनगर, हरदीला एवं रावतयाना को मलिन बस्ती के रूप में दर्ज हैं। कुछ वर्ष पूर्व मुहल्ला नेहरूनगर में अरबन हेल्थ पोस्ट की स्थापना की जा चुकी है, लेकिन शेष बस्तियों की ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया है, जबकि इन इलाकों में रहने वाले दलित, अल्पसंख्यक बुनियादी सुविधाओं के लिए जूझ रहे हैं। विशेषकर नारायनपुरा, रामनगर व रावतयाना क्षेत्र हालात दयनीय हैं। यहां रहने वाले लोगों को इलाज कराने के लिए तीन किलोमीटर चलकर जिला अस्पताल जाना पड़ता है। यहां के वासिंदों का कहना है कि स्थानीय स्तर पर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध न होने की वजह से उन्हें मजबूरी में निजी अस्पतालों का सहारा लेना पड़ रहा है।
--



गंदगी का डंप स्थल बने मुहल्ले
ललितपुर। नगर की अधिकांश मलिन बस्तियां गंदगी का डंप स्थल बनकर रह गई हैं। यहां के वासिंदे बदबू भरे माहौल में जीने को विवश हैं। जगह जगह लगे गंदगी के ढेर तमाम बीमारियां फैला रहे हैं।
मलिन बस्ती नारायणपुरा के वासिंदों का कहना है कि गरीबों की ओर कोई ध्यान नहीं देता है, यही कारण है कि मुहल्लों में सफाई के नाम पर खाना पूर्ति की जाती है। दो तीन दिनों में नगर पालिका के सफाई कर्मचारी आते हैं और झाड़ू लगाने का दिखावा कर चले जाते हैं। कई दिनों तक कचरे का उठान नहीं होता है। नालियों के हालात तो और भी खराब हैं। बजबजाती नालियां रोगों को जन्म दे रहीं हैं। लोग मच्छरों से होने वाले रोगों की चपेट में आ रहे हैं। नालियों या गंदे स्थानों पर दवाइयों का छिड़काव नहीं किया जाता है। कूड़ाघर के हाल यह हैं कि यहां की गंदगी को आवारा जानवर सड़कों पर फैला देते हैं। इसी गंदगी के बीच लोगों का आवागमन होता है। मुहल्ले के लोगों का कहना है कि नालियों की सफाई व कीटनाशक छिड़काव करने के लिए प्रार्थनापत्र तो दिए जाते हैं, लेकिन उन पर कोई कार्रवाई नहीं होती है।
--



-बोले मलिन बस्ती के वासिंदे
मच्छरों का है साम्राज्य
‘नालियों की सफाई न होने से गंदगी से भरी हुईं हैं। कीटनाशक दवाओं का छिड़काव नहीं होने से वार्ड में मच्छरों का साम्राज्य है। लोग संक्रामक रोगों की चपेट में आ रहे हैं।’
-महेंद्र बरार, नारायणपुरा


--
तीन किमी दूर है सरकारी अस्पताल
‘मुहल्ला वासियों को इलाज के लिए तीन किमी दूर संयुक्त जिला चिकित्सालय जाना पड़ता हैं। रात में परिवार के सदस्य यदि बीमार हो जाये तो काफी परेशानी होती है।’
-पार्वती बरार, नारायणपुरा


--
हेल्थ पोस्ट की है दरकार
‘सरकारी अस्पताल की दूरी अधिक होने के कारण अधिकतर लोग इलाज के लिए नहीं पहुंच पाते हैं। यहां पर हेल्थ पोस्ट खुल जाने से लोगों की परेशानी खत्म हो जाएगी।’
-धर्मदास बरार, नारायणपुरा
--


लेनी पड़ रही निजी डाक्टरों की शरण
‘वार्ड में नालियों एवं कचरा घर से कूड़ा नहीं उठाया जाता है। इस कारण यहां के लोग बीमार होते रहते हैं। मजबूरी में प्राइवेट डाक्टरों का सहारा लेना पड़ता है।’
-नाथूराम गंगेले, नारायणपुरा

--
अरबन हेल्थ पोस्ट बनाने को मांगे प्रस्ताव
ललितपुर। भारत सरकार ने सूबे के नगरीय इलाकों में स्थित मलिन बस्तियों में स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने के उद्देश्य से सौ नए अरबन हेल्थ पोस्ट स्थापित करने के लिए स्वीकृति दे दी है, जिस पर अमलीजामा पहनाने के लिए एनआरएचएम निदेशक ने नगर के मलिन, अल्पसंख्यक एवं दलित बाहुल्य बस्तियों में नये अरबन हेल्थ पोस्ट स्थापित करने के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी से प्रस्ताव मांगे हैं।
नगर में नये हेल्थ पोस्ट बनाने के लिए एनआरएचएम मिशन निदेशक ने सीएमओ को पत्र भेजकर प्रस्ताव मांगे हैं। नये अरबन हेल्थ पोस्ट के प्रस्ताव के लिए जिलाधिकारी, प्रभारी अधिकारी स्थानीय निकाय, परियोजना निदेशक डूडा की अध्यक्षता में बैठक कर कार्ययोजना तैयार करने के बाद उसे जिला स्वास्थ्य समिति के अनुमोदन से राज्य स्तर तक पहुंचाने के लिए कहा गया है। नगरीय क्षेत्र में स्थापित होने वाले अरबन हेल्थ पोस्ट में संविदा के आधार पर एक एमबीबीएस चिकित्साधिकारी, स्टाफ नर्स, एएनएम एवं स्वीपर कम चौकीदार की नियुक्ति की जाएगी। उनके लिए दिए जाने वाले मानदेय के भुगतान की स्वीकृति भी दे दी गई है।

Spotlight

Most Read

Lakhimpur Kheri

हिंदुस्तान बना नौटंकी, कलाकार है पक्ष-विपक्ष

हिंदुस्तान बना नौटंकी, कलाकार है पक्ष-विपक्ष

22 जनवरी 2018

Related Videos

झांसी में हारे हुए प्रत्याशी ने नवनिर्वाचित पार्षद को मारी गोली

झांसी में नवनिर्वाचित निर्दलीय प्रत्याशी अनिल सोनी को गोली मार दी गई। गोली हारने वाले निर्दलिय प्रत्याशी मोहित चौहान ने मारी है। बता दें गोली जीते हुए प्रत्याशी अनिल सोनी के सिर से छूते हुए निकली। फिलहाल अनिल सोनी की हालत स्थिर बनी हुई है।

2 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper