दारोगा के परिजनों को गांव से खदेड़ा

Lalitpur Updated Mon, 29 Oct 2012 12:00 PM IST
ललितपुर। तालबेहट अंतर्गत ग्राम हर्षपुर के मजरा चीमना में रंजिश के चलते मध्य प्रदेश पुलिस सेवा में पदस्थ एक उपनिरीक्षक के परिजनों को विपक्षियों ने गांव छोड़ने को विवश कर दिया। बाद में उनके मकानों में तोड़फोड़ कर दरवाजे खिड़कियां खींचकर बेच दी। गांव के हालात यह हैं कि दबंगों के आंतक के कारण और भी कई परिवारों को पलायन को विवश होना पड़ा है।
मध्य प्रदेश के खंडवा थाने में पदस्थ उपनिरीक्षक हरदेव सिंह गौर ने का कहना है कि उनके पैत्रिक गांव हर्षपुरा के मजरा चीमना में उसके भाई इंद्रपाल सिंह के साथ वृद्ध पिता हीरा सिंह रहते थे, जिन्हें कुछ महीने पूर्व विपक्षियों ने पुरानी रंजिश के चलते हमला करके गांव से भगा दिया। आरोपियों ने उसके पैत्रिक मकान के खिड़की व दरवाजे खींचकर भी बेच दिए। विपक्षियों के आतंक के कारण उसके परिवार के अलावा लाखन सिंह, सोबरन सिंह, लक्ष्मन सिंह, दुर्गपाल सिंह, गोविंद सिंह, पंचम सिंह, पार्वती, कुसुम एवं भूरे सिंह आदि को पलायन के लिए विवश होना पड़ा है। चीमना निवासी दुर्ग सिंह का आरोप है कि विपक्षियों ने एक वर्ष पूर्व उसके पिता हम्मीर सिंह की हत्या करके शव को पेड़ पर लटका दिया था, जिसके बाद आरोपियों ने उसे गांव से भगा दिया। पुलिस ने यह मामला आत्महत्या के लिए प्रेरित करने की धाराओं में दर्ज किया था। पैत्रिक गांव में खेतीबाड़ी न कर पाने की वजह से वह बांसी में किराये के मकान में रह रहा है तथा बस पर कंडक्टरी करके पांच पुत्रियों का भरण पोषण कर रहा है। ऐसा नहीं है कि इस जुल्मोसितम की शिकायत भुक्तभोगियों ने पुलिस से नहीं की हो। पीड़ितों का कहना है कि उन्होंने इस संबंध में तत्कालीन तेरई फाटक चौकी इंचार्ज के अलावा कोतवाली प्रभारी तालबेहट एवं पुलिस अधीक्षक को भी शिकायती पत्र दिए थे, लेकिन आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई न होने की वजह से उन्हें इधर-उधर पनाह लेने को विवश होना पड़ रहा है।


यह है रंजिश,
डेढ़ वर्ष पूर्व मजरा चीमना निवासी रतन सिंह पर जानलेवा हमले से गांव में रंजिश की शुरूआत हुई थी, जिसके बाद राजेंद्र सिंह एवं हम्मीर सिंह की रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई। इसके बाद एक दूसरे से रंजिश भुनाने का दौर शुरू हो गया, जिसके चलते अनेक परिवारों ने गांव छोड़ दिया।


जान से मारने का भेजा गया पैग़ाम
ग्राम हर्षपुर के मजरा चीमना से कुछ ही दूरी पर स्थित कस्बा बड्डे वरन के लोग भी दबंगों के शिकार हैं। इस गांव के शीतल सिंह का कहना है कि दबंगों ने मजरा चीमना में स्थित उसकी तीन एकड़ भूमि पर कब्जा कर लिया है तथा उस पर खेती के लिए दूसरे व्यक्ति को ठेके पर दे दिया है। दो दिन पूर्व दबंगों ने खेत की ओर रुख करने पर उसे जान से खत्म करने का पैगाम भेजा है।


महिला से की थी अभद्रता
कस्बा बड्डेवरन निवासी एक परिवार की महिला के साथ भी दबंगों ने दिन दहाड़े घर में घुसकर अभद्रता की थी, जिसका विरोध करने पर आरोपियों ने महिला का हाथ तोड़ दिया था। ग्रामीणों का कहना है कि आरोपियों की सक्रियता के चलते गांव के लोग दहशत के साये में जी रहे हैं। दबंगों द्वारा आए दिन बेकुसूर लोगों के साथ मारपीट की जाती है।

इनका कहना है
‘हाल ही में रंजिश के चलते पलायन की बात संज्ञान में आई है। तेरई फाटक चौकी इंचार्ज रणविजय सिंह को मौके पर भेज हालातों का पता लगाया गया है। पीड़ित उपनिरीक्षक हरदेव सिंह आदि से शिकायती पर आरोपियों के खिलाफ जल्द ही आवश्यक कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। बेकुसूर ग्रामीणों के साथ दबंगई करने वालों को किसी भी दशा में बख्शा नहीं जाएगा’।
रामबदन सिंह
क्षेत्राधिकारी तालबेहट।

Spotlight

Most Read

National

पाकिस्तान की तबाही के दो वीडियो जारी, तेल डिपो समेत हथियार भंडार नेस्तनाबूद

सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। भारत के जवाबी हमले में पाकिस्तान की कई फायरिंग पोजिशन, आयुध भंडार और फ्यूल डिपो को बीएसएफ ने उड़ा दिया है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

झांसी में हारे हुए प्रत्याशी ने नवनिर्वाचित पार्षद को मारी गोली

झांसी में नवनिर्वाचित निर्दलीय प्रत्याशी अनिल सोनी को गोली मार दी गई। गोली हारने वाले निर्दलिय प्रत्याशी मोहित चौहान ने मारी है। बता दें गोली जीते हुए प्रत्याशी अनिल सोनी के सिर से छूते हुए निकली। फिलहाल अनिल सोनी की हालत स्थिर बनी हुई है।

2 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper