पत्रकारों से आरपीएफ कर्मियों ने की अभद्रता

Lalitpur Updated Mon, 15 Oct 2012 12:00 PM IST
ललितपुर। आरपीएफ सिपाहियों ने रविवार शाम कवरेज को आए पत्रकारों के साथ जमकर अभद्रता की। विरोध करने पर सिपाहियों ने गुंडई दिखाते हुए तीन पत्रकारों को लॉकअप में डाल दिया, जिससे सभी पत्रकारों में आक्रोश फैल गया। उन्होंने आरपीएफ थाने में डेरा डालकर पुलिस एवं प्रशासन के उच्चाधिकारियों को घटना की जानकारी दी। अफसरों के दखल के बाद पत्रकारों को रिहा किया गया, इधर पत्रकारों ने आरपीएफ सिपाहियों के खिलाफ कोतवाली में तहरीर सौंपी है।
जानकारी के मुताबिक आरपीएफ ललितपुर थाना पुलिस ने बिजली के तार काटने वाले एक बदमाश को बंदी बनाया था। इस संबंध में विवरण लेने गए एक दैनिक समाचार पत्र के संवाददाता की आरपीएफ थाना परिसर में मौजूद सिपाहियों के साथ कहासुनी हो गई। सिपाहियों ने संवाददाता को हिसारत में ले लिया। घटनाक्रम की सूचना पाकर उक्त समाचार पत्र के दो और वरिष्ठ संवाददाता आरपीएफ थाने पहुंच गए। कवरेज करने को लेकर उनकी भी थाने में मौजूद सुरक्षा कर्मियों से तीखी नोकझोंक हो गई। देखते ही देखते विवाद बढ़ गया और आरपीएफ कर्मियों ने तीनों संवाददाताओं के साथ अभद्रता व मारपीट की और लॉकअप में बंद कर दिया। जानकारी पाकर अन्य पत्रकार मौके पर पहुंच गए और विरोध जताया। तब जाकर तीनों संवाददाताओं को लॉकअप से बाहर निकाला गया। मौके पर पहुंचे क्षेत्राधिकारी सदर एसके शुक्ल व नायब तहसीलदार अवधेश निगम ने मामले की छानबीन की तथा तीनों संवाददाताओं को लेकर कोतवाली सदर गए। कोतवाली सदर में तीनों संवाददाताओं ने तहरीर देकर आरोप लगाया कि आरसीएफ कर्मी जीएल यादव, संतोष कुमार भगत, उमेश यादव व 15 अज्ञात कर्मियों ने उन पर रायफल के कुंदों से हमला किया और चेन व मोबाइल फोन लूट लिए। कोतवाली पुलिस ने तीनों संवाददाताओं को चिकित्सीय परीक्षण के लिए जिला संयुक्त चिकित्सालय भेजकर मामले की पड़ताल शुरू कर दी है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

झांसी में हारे हुए प्रत्याशी ने नवनिर्वाचित पार्षद को मारी गोली

झांसी में नवनिर्वाचित निर्दलीय प्रत्याशी अनिल सोनी को गोली मार दी गई। गोली हारने वाले निर्दलिय प्रत्याशी मोहित चौहान ने मारी है। बता दें गोली जीते हुए प्रत्याशी अनिल सोनी के सिर से छूते हुए निकली। फिलहाल अनिल सोनी की हालत स्थिर बनी हुई है।

2 दिसंबर 2017