चार महीने बाद सात आरोपियों के खिलाफ मुकदमा

Lalitpur Updated Sat, 06 Oct 2012 12:00 PM IST
ललितपुर। महिलाओं के साथ छेड़छाड़ व मारपीट के गंभीर मामलों को लेकर भी जनपद पुलिस संजीदा नहीं है। पीड़ित को थाने पर न्याय नहीं मिलता। घटित होने वाली घटना को बार- बार व्यक्त करने के बावजूद पुलिस रिपोर्ट दर्ज करने के बजाए पीड़ितों को टरका देती है। मजबूर होकर उन्हें न्यायालय की शरण लेनी पड़ती है। ऐसे ही दो मामले संज्ञान में आने पर मुख्य न्यायायिक मजिस्ट्रेट ने संबंधित थानों की पुलिस को एफआईआर के आदेश दिए।

केस नंबर एक
मारपीट में गर्भस्थ शिशु की मौत का मामला
नेहरू नगर में आरामशीन के निकट रहने वाली विमला पत्नी खुमान ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष प्रार्थना पत्र प्रस्तुत करके बताया कि सत्ताइस जून को उसकी पुत्री हेमलता घर के बाहर स्थित नाली का कचरा साफ कर रही थी, तभी पड़ोस में रहने वाले कुछ लोग गाली गलौज करते हुए अपने घरों से बाहर निकल आए और हेमलता को पीटने लगे। पुत्री की पुकार सुनकर वह बाहर निकलकर बीच बचाव करने लगी, इतने में आरोपियों ने उसे धक्का देकर नीचे पटक दिया और लात घूसों से पिटाई शुरू कर दी, जबकि उसके पेट में आठ माह का गर्भ था। मारपीट के बाद उसकी हालत बिगड़ गई, दो दिन बाद उसने मृत बालिका को जन्म दिया। विमला ने न्यायालय में बताया कि इस घटना के संबंध में उसने कोतवाली पुलिस के अलावा आला अफसरों को भी प्रार्थना पत्र दिए, लेकिन उसकी कहीं सुनवाई नहीं हुई। पीड़िता के आरोपों को गंभीरता से लेते हुए न्यायाधीश ने कोतवाली प्रभारी को एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए, जिसके अनुपालन में पुलिस ने लखन, जूजू, राजाराम, रामप्रसाद, नेनू समेत सात लोगों के खिलाफ धारा 147, 323, 504, 506 व 314 के तहत मामला दर्ज कर लिया।

केस नंबर दो
चार महीने बाद लिखी गई रिपोर्ट
ललितपुर। तालबेहट क्षेत्र अंतर्गत ग्राम दौलता में चार महीने पूर्व पंद्रह वर्षीय किशोरी के साथ बलात्कार का प्रयास किए जाने के मामले में तालबेहट पुलिस ने न्यायालय के आदेश पर रिपोर्ट दर्ज कर ली है।
ग्राम दौलता निवासी पीड़िता की मां ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष प्रार्थना पत्र प्रस्तुत करते हुए बताया कि उसके पति की मृत्यु काफी समय पूर्व हो चुकी है, तभी से वह किसी तरह मेहनत मजदूरी करके अपने परिवार का भरण पोषण कर रही है। गत तेरह जून की रात्रि उसकी पंद्रह वर्षीय पुत्री कमरे में सो रही थी, तभी गांव का एक व्यक्ति उसकी पुत्री के कमरे में घुस आया और उसके साथ बलात्कार का प्रयास करने लगा। पुत्री की पुकार सुनकर वह उसके कमरे में पहुंची तो आरोपी उन्हें जान से मारने की धमकी देकर भाग गया। इसके बाद कोतवाली पुलिस के साथ आला अफसरों को प्रार्थना पत्र दिए गए, लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हुई, इसके बाद उसे न्यायालय की शरण लेनी पड़ी। आरोपों को गंभीरता से लेते हुए न्यायाधीश ने तालबेहट पुलिस को एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए, जिसके अनुपालन में पुलिस ने आरोपी मेघराज के खिलाफ धारा 376, 452, 506, 511 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

बवाना कांड पर सियासत शुरू, भाजपा मेयर बोलीं- सीएम केजरीवाल को मांगनी चाहिए माफी

दिल्ली के औद्योगिक इलाके बवाना में शनिवार देर शाम अवैध पटाखा गोदाम में आग लगने से 17 लोगों की मौत के बाद अब इस पर सियासत शुरू हो गई है।

21 जनवरी 2018

Related Videos

झांसी में हारे हुए प्रत्याशी ने नवनिर्वाचित पार्षद को मारी गोली

झांसी में नवनिर्वाचित निर्दलीय प्रत्याशी अनिल सोनी को गोली मार दी गई। गोली हारने वाले निर्दलिय प्रत्याशी मोहित चौहान ने मारी है। बता दें गोली जीते हुए प्रत्याशी अनिल सोनी के सिर से छूते हुए निकली। फिलहाल अनिल सोनी की हालत स्थिर बनी हुई है।

2 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper