विद्या धन से वंचित छात्राओं ने लगाया जाम

Lalitpur Updated Fri, 28 Sep 2012 12:00 PM IST
ललितपुर। कन्या विद्या धन योजना की चयन प्रक्रिया में मानकों की अनदेखी से नाराज छात्राओं ने घंटाघर स्थित मुख्य मार्ग पर चक्काजाम कर दिया। इस दौरान यातायात व्यवस्था बहाल कराने को लेकर पुलिस की आंदोलन कर रही छात्राओं से तीखी नोकझोंक हो गई। एसडीएम के आश्वासन के बाद जाम खोल दिया गया, लेकिन, धरना जारी रखा।
बृहस्पतिवार को सुबह करीब ग्यारह बजे दो दर्जन बालिकाएं जिलाधिकारी को एक शिकायती पत्र देने कलेक्ट्रेट पहुंची। यहां डीएम की गैरमौजूदगी में उन्होंने लिपिक को शिकायती पत्र दे दिया। इसके बाद उन्होंने तहसील सदर की ओर रुख किया। यहां उन्होंने नायब तहसीलदार अवधेश निगम से मनमाने आय प्रमाण पत्र बनाए जाने की शिकायत की। इसके पश्चात उन्होंने घंटाघर पर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। एसडीएम सदर आनंद स्वरूप सूचना े पाकर मौके पर पहुंच गए। शिकायती पत्र में आरोप लगाते हुए कहा गया कि राजस्व कर्मियों ने नियमों को ताक पर रख मनमाने तरीके से बारह हजार रुपये से लेकर तीस हजार रुपये तक के आय प्रमाण पत्र बना दिए। इसके चलते सामान्य, पिछड़ा वर्ग में बाइस हजार रुपये आय वाली लड़कियां ही चयनित हो पाई, इसमें कई अपात्रों को योजना में घुसपैठ करने का मौका मिल गया। वहीं, तमाम पात्रता की श्रेणी में होने के बाद भी योजना से वंचित रह गईं। इस पर एसडीएम ने ऐसे प्रमाण पत्रों की जांच कराने का आश्वासन दिया। लेकिन, वे अपने नाम योजना में शामिल कराने को अड़ी रहीं। प्रशासनिक अफसरों ने उनकी मांग पर ध्यान नहीं दिया तो आक्रोशित छात्राओं ने सड़क पर बैठकर यातायात बाधित कर दिया। उन्होंने जोरदार नारेबाजी की। इसके बाद प्रशासन व पुलिस के हाथ पैर फूल गए। मौके पर पहुंचे कोतवाली प्रभारी निरीक्षक उदयभान सिंह ने आंदोलनकारी छात्राओं को हटाने का प्रयास किया तो उनकी तीखी नोकझोंक हो गई। इस दौरान पुलिस कर्मियों ने मीडिया कर्मियों को जमकर कोसा। इस बीच महिला पुलिस को बुलाया गया और कुछ ही देर में एसडीएम सदर भी पहुंच गए, उनके आश्वासन पर छात्राओं ने जाम खोल दिया लेकिन घंटाघर प्रांगण में धरना जारी रखा। इस मौके पर प्रियंका विश्वकर्मा, ज्योति कुशवाहा, आरती कुशवाहा, अंजली यादव, अनुराधा राठौर, प्राची राठौर, वंदन यादव, सवाना आजमी, सीता, भारती रैकवार, ज्योति यादव, रिंकी रैकवार, नेहा बानो, निशा वानो, सादिमा, सुरभि यादव, प्रतिभा राज सेन, शबनम बानो, जैवन निशा, क्रांति कुशवाहा आदि शामिल रहे। इधर, प्रशासन ने आंदोलनकारी छात्राओं की सूची तैयार कराना प्रारंभ कर दिया है।


ये है विवाद की जड़
ललितपुर। प्रदेश सरकार ने उच्च शिक्षा के प्रति बालिकाओं को आकर्षित करने के लिए कन्या विद्या धन योजना की शुरूआत की है। इस योजना में तीस हजार रुपये की सकल आय वाले परिवार की बालिका को पात्रता की श्रेणी में रखा गया है। चूंकि शासन ने मौजूदा समय में लक्ष्य कम रखा है, इस वजह से आय को आरोही क्रम में रखते हुए 776 छात्राओं का चयन किया गया है। इस तरह करीब 1600 बालिकाएं योजना में शामिल नहीं हो सकीं। यहीं से विवाद की स्थिति उत्पन्न हो गई।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

झांसी में हारे हुए प्रत्याशी ने नवनिर्वाचित पार्षद को मारी गोली

झांसी में नवनिर्वाचित निर्दलीय प्रत्याशी अनिल सोनी को गोली मार दी गई। गोली हारने वाले निर्दलिय प्रत्याशी मोहित चौहान ने मारी है। बता दें गोली जीते हुए प्रत्याशी अनिल सोनी के सिर से छूते हुए निकली। फिलहाल अनिल सोनी की हालत स्थिर बनी हुई है।

2 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls