आटो के पहिए रहे जाम, भटकती रहीं सवारियां

Lalitpur Updated Thu, 20 Sep 2012 12:00 PM IST
ललितपुर। डीजल मूल्य वृद्धि समेत अन्य मांगों को लेकर बुधवार को आटो चालक व संचालक हड़ताल पर रहे। दिनभर टैक्सियों के पहिए जाम रहने से यात्रियों को आवागमन में खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। आंदोलनकारियों ने तुवन मंदिर प्रांगण में बैठक करने के बाद प्रदर्शन किया।
तुवन मंदिर प्रांगण में आयोजित बैठक में टैक्सी एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने कहा कि डीजल और पेट्रोल के दाम पिछले कुछ वर्षों में कई बार बढ़ाए जा चुके हैं, जबकि शासन ने किराया एक बार भी नहीं बढ़ाया। इन हालातों में ऋण लेकर टैक्सी चलाने वाले गाड़ी मालिक बैंक की किश्तें भी अदा नहीं कर पा रहे हैं, उनके समक्ष परिवार के भरण पोषण का संकट खड़ा हो गया है। वक्ताओं ने कहा कि सहायक संभागीय परिवहन कार्यालय में भ्रष्टाचार का बोलबाला है। सुविधा शुल्क के बगैर कोई काम नहीं होता। फिटनेश, रोड टैक्स को लेकर चालकों व संचालकों का उत्पीड़न किया जाता है, यही नहीं पांच साल का टैक्स एक मुश्त वसूलने का नियम बनाकर अफसरों ने उनके समक्ष नया संकट खड़ा कर दिया है। वक्ताओं ने कहा कि बिना मीटर की टैक्सियों की फिटनेश करने में विभाग आनाकानी करता है, जबकि छोटा शहर होने के कारण टैक्सी के अनफिट होने का सवाल ही पैदा नहीं होता। वक्ताओं ने नई टैक्सियों को परमिट देने पर भी एतराज जताया।
बैठक के दौरान तय किया गया कि समस्याओं का निस्तारण न होने पर आगामी पच्चीस सितंबर से फिर से हड़ताल की जाएगी। इसके पश्चात जुलूस की शक्ल में नारेबाजी करते हुए सभी लोग कलेक्ट्रेट पहुंचे और मुख्यमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी रणवीर प्रसाद को सौंपा। इस मौके पर अध्यक्ष लाखन सिंह परिहार, महामंत्री दीनदयाल साहू, फिरोज खां, इशरत खान, विनोद पंथ, देवेंद्र साहू, शरीफ खान, रफीक, दीनदयाल शर्मा, कादिर, जयराम आदि मौजूद रहे। टैक्सियां न चलने की वजह से किसी ने तांगे पर सवार होकर तो किसी ने रिक्शे की सवारी करके अपने गंतव्य तक का सफर पूरा किया।


खूब दौड़े तांगे
ललितपुर। टैक्सियों के पहिए जाम रहने की वजह से दिनभर नगर की सड़कों पर तांगे दौड़ते रहे। रोजाना आटो व टैंपों की सवारी करने वाले लोग भी तांगे पर सवार होकर गंतव्य तक पहुंचे।


स्कूलों के बच्चे हुए परेशान
ललितपुर। टैक्सी की हड़ताल से स्कूली बच्चे भी परेशान रहे। जिन अभिभावकों के पास अपने निजी वाहन हैं, वे तो अपने बच्चों को लेने स्कूल पहुंच गए, पर जोरोज टैक्सी से आते जाते हैं उन बच्चों को चिलचिलाती धूप में पैदल चलकर घर आना पड़ा।

महिलाएं भी हुईं प्रभावित
ललितपुर। टैक्सियों के पहिए जाम रहने से सबसे अधिक महिलाएं प्रभावित हुईं। बस स्टैंड व रेलवे स्टेशन पर उतरने के पश्चात सड़क पर पैदल जाती महिलाएं कभी अपने बच्चों को संभालते हुए दिखाईं दीं तो कभी रुककर थकान मिटाती हुईं। सामान का बोझ जब हाथ से नहीं उठाया गया तो उसे सिर पर रखकर वे गंतव्य की ओर रवाना हुईं।


मरीजों को हुई दिक्कत
ललितपुर। टैक्सी चालकों व संचालकों की एक दिवसीय हड़ताल से मरीज व तीमारदार भी परेशान रहे। अचानक बीमार होने पर कई मरीजों को उनके परिजन गोद में उठाकर जिला संयुक्त चिकित्सालय लेकर पहुंचे। वहीं, अस्पताल से डिस्टार्ज हुए तमाम रोगियों को दिनभर घर जाने के लिए वाहन नहीं मिल सके। ऐसे में रोगियों और तीमारदारों को घर तक पैदल जाना पड़ा। कई प्रसूताओं को भी पैदल चलकर अस्पताल से घर जाना पड़ा।


रिक्शा चालकों की रही चांदी
ललितपुर। बुधवार को रिक्शा चालकों की भी खूब चांदी रही। टैक्सियां न चलने के कारण उन्हें खूब सवारियां मिलने के साथ- साथ मुंह मांगे पैसे भी मिले। रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड पर रिक्शे में सवार होने के लिए यात्रियों में होड़ मची रही, देर रात तक यही स्थितियां बनी रहीं।

अभिभावक रहे तैयार
ललितपुर। टैक्सी हड़ताल की घोषणा को देखते हुए तमाम अभिभावकों ने पहले से ही बच्चों को स्कूल छोड़ने और वापस घर ले जाने की तैयारी कर रखी थी। स्कूलों की छुट्टी होते ही तमाम महिलाएं व पुरुष अपने- अपने बच्चों को लेने के लिए स्कूल पहुंच गए थे।


मानकों की अनदेखी कर बढ़ाया किराया
ललितपुर। डीजल मूल्य वृद्धि की आड़ में टैक्सी संचालकों द्वारा मनमाने तरीके से किराये में बढ़ोत्तरी कर दी है। किराये को लेकर सहायक संभागीय परिवहन विभाग द्वारा निर्धारित मानकों का भी पालन नहीं किया गया। इसके बाद भी महकमा आम आदमी के आर्थिक शोषण को मूक दर्शक बनकर देख रहा है।
सहायक संभागीय परिवहन विभाग की तय दरों के मुताबिक यदि कोई यात्री दो किलोमीटर की यात्रा टैक्सी से करता है तो उसे पहले किलोमीटर का पांच रुपये चालीस पैसे और दूसरे का पांच रुपये बीस पैसे किराया अदा करना होगा, इस तरह दो किलोमीटर के एवज में टैक्सी चालक को दस रुपये साठ पैसे ही लेने चाहिए। ठीक इसी तरह आटो से दो किलोमीटर की यात्रा के दौरान पहले किलोमीटर का पांच रुपये पैंतालीस पैसे और दूसरे का पांच रुपये बीस पैसे किराया विभाग ने निर्धारित कर रखा है। दो किलोमीटर की यात्रा के एवज में यात्री से आटो चालक को दस रुपये पैंसठ पैसे ही लेने चाहिए। यह किराया आटो व टैंपों की फुल बुकिंग पर लागू माना जाता है। बावजूद इसके नगर के टैक्सी चालकों व संचालकों ने डीजल के दाम बढ़ने की आड़ में किराए में मनमानी बढ़ोत्तरी कर दी। रेलवे स्टेशन से बस स्टैंड तक प्रति यात्री दस रुपये किराया निर्धारित कर दिया है, अब टैक्सी चालक छह सवारियां बिठाने के बाद दो किलोमीटर की यात्रा के एवज में सभी से दस- दस रुपये वसूल करेंगे। नगर क्षेत्र में टैक्सी से महज सौ मीटर का सफर तय करने पर यात्री से पांच रुपये वसूलने की परंपरा पिछले कई वर्षों से चली आ रही है।

Spotlight

Most Read

Varanasi

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

19 जनवरी 2018

Related Videos

झांसी में हारे हुए प्रत्याशी ने नवनिर्वाचित पार्षद को मारी गोली

झांसी में नवनिर्वाचित निर्दलीय प्रत्याशी अनिल सोनी को गोली मार दी गई। गोली हारने वाले निर्दलिय प्रत्याशी मोहित चौहान ने मारी है। बता दें गोली जीते हुए प्रत्याशी अनिल सोनी के सिर से छूते हुए निकली। फिलहाल अनिल सोनी की हालत स्थिर बनी हुई है।

2 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper