बुंदेलखंड में ‘तड़प’ रही कृषि विभाग की ‘आत्मा’

Lalitpur Updated Mon, 17 Sep 2012 12:00 PM IST
ललितपुर। आधुनिक ढंग से किसानों को खेतीबाड़ी के गुर सिखाने के लिए संचालित एग्रीकल्चर टेक्नालॉजी मैनेजमेंट एजेंसी (आत्मा) बुंदेलखंड समेत सूबे के कई जिलों में घालमेल का शिकार हो गई है। हालातों का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि विभागीय अफसर योजना के तहत खर्च किए गए करोड़ों रुपये का हिसाब नहीं दे पा रहे हैं। बारह करोड़ रुपये खर्च के बिल बाउचर नहीं मिलने पर योजना के प्रदेश प्रभारी ने विभिन्न जिलों के उप निदेशक कृषि से स्पष्टीकरण तलब किया है।
किसानों को आधुनिक खेती से जोड़ने के लिए आत्मा योजना के तहत फसल प्रदर्शन, विभिन्न जनपदों व राज्यों में भ्रमण, प्रशिक्षण, फार्म स्कूल संचालन, प्रचार- प्रसार आदि कराए जाते हैं। लेकिन, अफसरों ने इस योजना में जमकर मनमानी की। यहां तक कि धनराशि व्यय करने के बाद उसका हिसाब - किताब तक नहीं रखा। सीए आडिट के दौरान खुलासा हुआ कि वित्तीय वर्ष 2011-12 तक विभाग को आत्मा के तहत दी गई धनराशि के खर्च को लेखाजोखा उपलब्ध नहीं है। जनपदवार देखें तो मैनपुरी में 20,96,459 रुपये, हाथरस में 13,47,253 रुपये, इलाहाबाद में 11,67,976 रुपये, फतेहपुर 30,47,689 रुपये, बलिया में 82,76,886 रुपये, शाहजहांपुर में 17,24,565 रुपये, सुल्तानपुर में 30,40,774 रुपये, ललितपुर में 21,68,628 रुपये, जालौन में 49,30,084 रुपये, झांसी में 29,38,857 रुपये, बांदा में 49,39,230 रुपये एवं चित्रकूट में 17,00,517 रुपये का ब्योरा विभागीय अधिकारियों को खोजे नहीं मिल रहा है। हालांकि आडिट आपत्तियों के निस्तारण के लिए उपरोक्त जिलों के उप कृषि निदेशकों को मौका दिया गया था, लेकिन उन्होंने इसमें रुचि नहीं दिखाई। इसे गंभीरता से लेते हुए राज्य कृषि प्रबंध संस्थान लखनऊ के निदेशक एवं आत्मा के प्रभारी विनय प्रकाश श्रीवास्तव ने उप निदेशक कृषि से स्पष्टीकरण तलब किया है। यह भी कहा गया है कि आडिट आपत्तियां दूर कराने और जवाब नहीं देने की स्थिति में जिम्मेदार अफसरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। जानकार सूत्रों का कहना है कि अब अफसर बिल- बाउचर तलाश कर हिसाब - किताब दुरुस्त करने में जुट गए हैं।

बुंदेलखंड में आत्मा की स्थिति
जिले का नाम धनराशि (2011-12 तक) व्यय धन नहीं मिल रहे बिल
जालौन 1,50,76,059 94,43,565 49,30,084
झांसी 1,09,69,599 80,30,742 29,38,857
ललितपुर 85,13,550 60,45,231 21,68,628
बांदा 1,11,01,816 61,62,586 49,39,230
चित्रकूट 67,02,185 50,01,668 17,00,517
हमीरपुर 84,49,086 70,05,057 32,159
महोबा 56,91,147 45,14,912 11,76,235




इन जिलों ने दूर कर दी आपत्ति
आडिट के दौरान आगरा, फिरोजाबाद, अलीगढ़, एटा, कांशीराम नगर, मऊ, कन्नौज, हमीरपुर रमाबाईनगर, संत रविदास नगर, बुलंदशहर, उन्नाव, लखीमपुर खीरी, सोनभद्र, मुरादाबाद, इटावा, गौतमबुद्धनगर व बागपत जिलों में खर्च हुई राशि को लेकर भी आपत्तियां लगाई गई थीं। लेकिन, वहां के अफसरों ने आपत्तियां दूर कर दी हैं।

Spotlight

Most Read

Lucknow

ताबड़तोड़ डकैतियों से हिली सरकार, प्रमुख सचिव ने अधिकारियों को किया तलब

राजधानी में एक हफ्ते के अंदर हुई ताबड़तोड़ डकैती की वारदातों ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

झांसी में हारे हुए प्रत्याशी ने नवनिर्वाचित पार्षद को मारी गोली

झांसी में नवनिर्वाचित निर्दलीय प्रत्याशी अनिल सोनी को गोली मार दी गई। गोली हारने वाले निर्दलिय प्रत्याशी मोहित चौहान ने मारी है। बता दें गोली जीते हुए प्रत्याशी अनिल सोनी के सिर से छूते हुए निकली। फिलहाल अनिल सोनी की हालत स्थिर बनी हुई है।

2 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper