बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

शवों को नहीं ले जा सके तो बाघ की मूंछ के बाल काट ले गए शिकारी

Bareily Bureau बरेली ब्यूरो
Updated Tue, 02 Mar 2021 12:27 AM IST
विज्ञापन
बाघ के शव को देखते वन विभाग और पुलिस के अफसर।
बाघ के शव को देखते वन विभाग और पुलिस के अफसर। - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो, बरेली

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
मोहम्मदी रेंज में शिकारियों के लगाए बिजली के तारों की चपेट में आकर बाघ की मौत का मामला
विज्ञापन

बांकेगंज/भीखमपुर। तराई के जंगलों में शातिर शिकारियों की सक्रियता से जंगल के दुर्लभ वन्यजीव ही नहीं, बल्कि बाघ और तेंदुए भी सुरक्षित नहीं हैं। सोमवार को मोहम्मदी रेंज में शिकारियों के बिछाए हाईवोल्टेज प्रवाहित तार की चपेट में आने से एक बाघ और एक जंगली सुअर की मौत से वन विभाग सकते में है। हालांकि वन विभाग का कहना है कि शिकारियों ने जंगली सुअर का शिकार करने के लिए तार बिछाए थे, जिसकी चपेट में आने से एक जंगली सुअर तो मारा ही गया और एक बाघ की भी मौत हो गई। यही नहीं बाघ की मूंछों के बाल भी गायब मिले हैं।
दक्षिण खीरी वन प्रभाग की मोहम्मदी रेंज के आंवला बीट के जंगल से करीब डेढ़ किलोमीटर दूर डोकरपुर गांव के निकट खेत में एक बाघ और एक जंगली सुअर का शव बरामद हुआ है। घटना की सूचना मिलते ही वन विभाग के आला हाकिम मौके पर पहुंच गए और छानबीन शुरू कर दी। दोनों शवों की जांच करने पर यह बात सामने आई कि बाघ और जंगली सुअर की मौत करंट लगने से हुई।

वनाधिकारियों को मौके पर बिजली के नंगे तार भी मिले हैं। अफसरों का अनुमान है कि जंगली सुअर का शिकार करने के लिए शिकारियों ने हाईवोल्टेज करंट प्रवाहित तार बिछाए थे, जिसकी चपेट में बाघ और जंगली सुअर दोनों ही आ गए और उनकी मौत हो गई। शिकारी दोनों शवों को ले नहीं जा सके।
शिकारी बाघ की मूंछ के बाल उखाड़ ले गए हैं। इससे यह बात पूरी तरह साफ है कि इस वारदात को शिकारियों ने ही अंजाम दिया है, जिस जगह बाघ की मौत हुई है उस जगह कटीले तारों की बाड़ भी लगी है, जिसमें फंसकर बाघ की गर्दन में घाव हुए हैं।
घटना की सूचना मिलते ही मुख्य वन संरक्षक (लखनऊ मंडल) आरके सिंह, अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक (प्रोजेक्ट टाइगर) कमलेश कुमार गुप्ता, दुधवा टाइगर रिजर्व के मुख्य वन संरक्षक / फील्ड निदेशक संजय पाठक, दुधवा टाइगर रिजर्व बफरजोन उपनिदेशक डॉ. अनिल कुमार पटेल, डीएफओ साउथ समीर कुमार समेत वन विभाग का पूरा अमला मौके पर पहुंचा और छानबीन शुरू कर दी। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए आईवीआरआई बरेली भेजने की तैयारी की जा रही है।

एक साल के अंदर संदिग्ध हालात में मर चुके हैं कई बाघ

कुछ दिन पहले दुधवा टाइगर रिजर्व बफरजोन के मैलानी रेंज की जटपुरा बीट जंगल से सटे हरदुआ गांव के पास खेत में बाघिन का शव मिला था, जिसके गले में नायलॉन रस्सी का फंदा फंसा हुआ था। इसके कुछ ही दिनों बाद दुधवा नेशनल पार्क की किशनपुर सेंक्चुरी में दो शिकारी पकड़े गए थे जिनके पास से नायलॉन रस्सी और शिकार के उपकरण बरामद हुए थे।
बाद में जंगल में लगे कैमरों में से एक कैमरे में एक ऐसे बाघ की तस्वीर ट्रैप हुई, जिसकी गर्दन में नायलॉन रस्सी का फंदा पड़ा हुआ था। इस बाघ की गर्दन से अब तक फंदा नहीं निकाला जा सका है। इससे पहले भी कई बार नहरों से बाघों के शव बरामद हुए हैं। अब एक और बाघ की मौत के बाद यह बात पूरी तरह साफ हो गई है कि तराई के जंगलों में शिकारी सक्रिय हैं और उनके निशाने पर बाघ और दूसरे दुर्लभ वन्यजीव हैं।

बाघों की सुरक्षा के वन विभाग के दावे फेल

एक तरफ जहां अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बाघों के संरक्षण, सुरक्षा और संवर्धन के लिए अनेक परियोजनाएं चलाई जा रहीं हैं और इस मद में अरबों रुपये खर्च हो रहे हैं, वहीं तराई के जंगलों में बाघों का शिकार थमने का नाम नहीं ले रहा है।
मोहम्मदी वन क्षेत्र में 12 बाघ जंगल के अंदर तो इतने ही जंगल से सटे खेतों में
मोहम्मदी रेंज में करीब छह हजार हेक्टेयर वन क्षेत्र है, जिसमें 12 बाघ कैमरों में ट्रैप हो चुके हैं, जबकि इतने ही बाघ जंगल से सटे खेतों में चहलकदमी करते दिखाई देते हैं। खेतों में प्रवास करने वाले बाघों की वन विभाग गणना नहीं करता है। ग्रामीणों का अनुमान है कि इस जंगल में बाघों की संख्या इससे कई गुना ज्यादा है। कई टुकड़ों में बंटे इस वन क्षेत्र की भौगोलिक संरचना कुछ ऐसी है कि कठिना नदी जंगल से बिल्कुल सटकर बहती है। यह इलाका बाघों के लिए बेहद अनुकूल प्राकृतवास माना जाता है। जंगल से सटे हुए खेतों में किसान गन्ने की फसल उगाते हैं। गन्ने के खेत वन्यजीवों को जंगल सरीखे लगने से यहां जंगल से निकलकर जंगली सुअर, हिरन, पाड़ा चीतल, नीलगाय आदि भी पहुंच जाते हैं, जहां मौजूद बाघ भोजन के रूप में इन वन्यजीवों का शिकार करते हैं और कठिना नदी का पानी पीकर अपनी प्यास बुझाते हैं। बाघों की आवाजाही खेतों तक होने के कारण मानव-वन्यजीव संघर्ष की घटनाएं भी आए दिन होती रहती हैं।

मोहम्मदी रेंज की आंवला बीट जंगल से करीब डेढ़ किलोमीटर दूर डोकरपुर गांव से सटे खेत में करंट लगने से एक बाघ की मौत हुई है। प्रथम दृष्टया यह शिकारियों की करतूत प्रतीत होती है। मामले की छानबीन की जा रही है।- समीर कुमार, डीएफओ, दक्षिण खीरी वन प्रभाग

बोरी में मिला कच्चा तार

भीखमपुर। अधिकारियों समेत क्षेत्र के लोगों को 11 हजार लाइन के नीचे बोरी में कच्चा तार पड़ा मिला है, जिसे वन विभाग ने कब्जे में ले लिया है। जंगल क्षेत्र के इलाके में ग्रामीण और किसान कम जा पाते हैं। वन विभाग के आला अधिकारी भी समझ नहीं पा रहे थे कि इससे 250 किलो के बाघ की मौत हो सकती है।

वन्य जीव प्रेमी ने मुख्यमंत्री को भेजा पत्र

गोला गोकर्णनाथ। वन्य जीव प्रेमी, पर्यावरण एवं जन कल्याण समिति के अशोक कुमार मुन्ना ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजे पत्र में जांच की मांग कर कठोर कार्रवाई की मांग की है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us