बाछेपारा गांव में घाघरा ने मचाई तबाही, 64 परिवार हुए बेघर

Bareily Bureau बरेली ब्यूरो
Updated Thu, 05 Aug 2021 12:19 AM IST
Ghaghra created havoc in Bachepara village
विज्ञापन
ख़बर सुनें
धौरहरा। तहसील क्षेत्र के रमियाबेहड़, धौरहरा, ईसानगर क्षेत्र में घाघरा और शारदा नदियों की तबाही से कई गांवों का अस्तित्व खतरे में है। घाघरा नदी ने बीते एक माह से तबाही मचाते हुए बाछेपारा गांव के करीब 64 परिवारों को बेघर कर दिया है। कटान पीड़ित सरकारी विद्यालयों में अपना ठिकाना बनाए हुए हैं।
विज्ञापन

तहसील प्रशासन कटान पीड़ितों को बसाने के लिए भूमि की तलाश कर रहा है। वहीं रमियाबेहड़ के गोडियन पुरवा, बाछेपारा, बिंजहा में करीब सौ परिवार घाघरा नदी के निशाने पर हैं, जो कभी भी घाघरा नदी में समा सकते हैं। ग्रामीण खुद अपने हाथों से अपने घरों को उजाड़ रहे हैं और सुरक्षित स्थान पर पलायन करने को मजबूर हैं।

ईसानगर के मिलिक, कैरातीपुरवा में भी घाघरा नदी ने कटान शुरू कर दिया है। कैरातीपुरवा के तुलसीराम, काशीराम, लेखराम, शिवबलक, भारत, आशाराम आदि के घर नदी की जद में हैं। घाघरा नदी का कटान रुकने का नाम नहीं ले रहा है। अब तक सैकड़ों बीघा फसल लगी भूमि को निगलकर नदी तेजी से भू कटान कर रही है।
वहीं शारदा नदी ईसानगर के जमदरी, खनवापुर, खड़वा, धौरहरा के रैनी, समदहा में बचाव के लिए शुरू की गई परियोजना को काटने पर तुली है। रैनी में बने बंधे को करीब 70 मीटर काट चुकी है।
धीरे-धीरे नदी गांव को काटते हुए आगे बढ़ रही है, जिससे आसपास के गांवों पर भी अब खतरा मंडराने लगा है। वहीं बाढ़ खंड कटान रोकने के कोई ठोस कदम नहीं उठा रहा है। बोरियों में ईंटा रोड़ा भरकर कटान को रोका जा रहा है।
कटान पीड़ितों को स्कूल में ठहराया गया है। नदी के किनारे के ग्रामीणों को घर खाली करने को कहा गया है। बाढ़ खंड द्वारा बचाव कार्य किया जा रहा है, जलस्तर ज्यादा होने के चलते बचाव कार्य में दिक्कत आ रही है।
-रेनू, एसडीएम धौरहरा

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00