विज्ञापन

दुधवा नेशनल पार्क में काटी जा रही बेसकीमती साखू की लकड़ी

Bareily Bureauबरेली ब्यूरो Updated Sat, 15 Feb 2020 02:56 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
निघासन। दुधवा टाइगर रिजर्व जोन के बेलरायां रेंज के लवधरिया वनबीट में बेशकीमती साखू की लकड़ी का कटान जारी है। जिसे बीट के कुछ स्टाफ कर्मियों की मिलीभगत के चलते घास-फूंस के बीच रखकर जंगल से बाहर ले जाया जा रहा है। हाल ही में पुलिस और वन विभाग ने भी कार्रवाई की थी लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकला। इस मामले में रेंजर ने मामले की जांच करने की बात कही है।
विज्ञापन
इंडो नेपाल बॉर्डर स्थित तराई का यह इलाका जंगल से घिरा हुआ है। जहां साखू, सागौन, आम, नीम, सेमल, जंगल जलेबी, अर्जुन समेत तमाम पेड़ की हरियाली को बयां कर रहे हैं। वन विभाग के सूत्रों का कहना है कि चंद पैसों के लालच में वन विभाग के कुछ लोग हरे जंगलों को काटकर बेचने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक इन दिनों जंगल में घास-फूंस का ठेका हुआ है। ऐसे में किसान डनलप, ट्रैक्टर-ट्रॉली आदि में घास फूंस भरकर अपना आशियाना बनाने के लिए लेकर जाते हैं। सबसे अधिक घास-फूंस का कटान बेलरायां के पार्क रेंज लवधरिया वनबीट में चल रहा है। यहां पर साखू के पेड़ों को काटकर नीचे फूंस, सेंठा और बीच में लकड़ी फिर उसके ऊपर फूंस आदि लादकर आसानी से बाहर ले जाया जा रहा है।
जलौनी लकड़ी के नाम पर भी हो रहा है कटान
जंगल में जलौनी लकड़ी के नाम पर भी पेड़ों का कटान किया जा रहा है। जलौनी लकड़ी को लुधौरी, बेलरायां पार्क और नार्थ के अलावा मझगई रेंज से भी पेड़ों का कटान करके लोग साइकिल पर लादकर खुले आम बेचते हैं। टाटर गंज, लुधौरी, मझगई रेंज में साफ हो गए जंगल
संपूर्णानगर के टाटरगंज में जंगल के पेड़ों का सफाया हो रहा है। इस मामले में करीब तीन साल पहले तत्कालीन डीएफओ, रेंजर समेत 11 लोगों का स्टाफ सस्पेंड किया गया था। लखनऊ से आई जांच टीम को करीब सौ पेड़ काटे हुए मिले थे। लुधौरी के मुंशीगढ़, मदनापुर, लालबोझी, मझगई आदि स्थानों पर लगे हरे पेड़ों का नामोनिशान मिट गया है। जिससे अब दूर दूर तक एक भी पेड़ नहीं दिखाई देता है।
मामलों में पहले भी नहीं हुई थी कार्रवाई
वन विभाग के एक दरोगा ने पूर्वांचल स्थित अपने घर पर एक पिकअप लकड़ी 11 फरवरी को भिजवाई थी। इस मामले में शिकायत होने के बाद भी अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई थी। करीब चार साल पहले तैनात एक सीओ ने साखू की लकड़ी अपने सरकारी आवास में मशीन लगवाकर कटवा रहे थे। मामला सुर्खियों में आने के बाद सीओ ने मैलानी से पीछे की तारीख की रसीद कटवाकर अपनी जान बचाई थी।

जंगल से लकड़ी काटने की जानकारी नहीं हैं। मामले में जांचकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल फूस काटने से लेकर ले जाते समय तक वहां पर वन विभाग की टीम तैनात रहती है।
-चंद्रभाल रेंजर, पार्क रेंज बेलरायां
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us