विज्ञापन
विज्ञापन

सिर्फ कागजों पर सेहतमंद हो रहे बच्चे

Bareily Bureauबरेली ब्यूरो Updated Thu, 05 Dec 2019 02:09 AM IST
ख़बर सुनें
लखीमपुर खीरी। बच्चों को कुपोषण से बचाने के लिए चलाई जा रहीं योजनाएं सिर्फ कागजों तक ही सीमित है। जिले में कुपोषित और अति कुपोषित बच्चों की संख्या भले ही 50 हजार से अधिक हो। मगर, जिला अस्पताल में बना कुपोषण वार्ड खाली है। दस बेड के वार्ड में सिर्फ दो बच्चे भर्ती हैं। इनमें से एक को आरबीएसके की टीम और दूसरे को स्वयं घरवालों ने लाकर भर्ती कराया है।
विज्ञापन
जच्चा बच्चा स्वस्थ रहे इसके लिए गर्भावस्था से लेकर प्रसव तक महिलाओं की देखरेख करने की जिम्मेदारी आशा, एएनएम और आंगनबाड़ी की है। इसमें आशा का कार्य गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण कराकर बीमारियों से बचाव के लिए संपूर्ण टीकाकरण कराना, अस्पताल में प्रसव करानेे के बाद 42 दिन तक जच्चा बच्चा की निगरानी करना है। आंगनबाड़ी वर्कर का काम गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण कर उन्हे कुपोषण से बचाने के लिए पोषाहार का वितरण करना है और केंद्र पर आने वाले बच्चों में कुपोषित का शिकार बच्चे को जिला अस्पताल के एनआरसी वार्ड में भर्ती कराना है। वहीं आशाओं का काम भी कुपोषित और बीमार बच्चों को नजदीकी सरकारी अस्पताल से लेकर जिला अस्पताल के एनआरसी वार्ड में भर्ती कराना है। मगर, न तो आशा वर्कर अपना काम जिम्मेदारी से कर रहीं हैं और न ही आंगनबाडी वर्कर। ऐसे में बच्चों कुपोषण एवं लो बर्थ वेट का शिकार होकर असमय मौत का शिकार हो जा रहे हैं।
2018 में ब्लॉक वार भर्ती हुए बच्चों की संख्या
लखीमुपर- 21, बिजुआ- 13, फूलबेहड़-14, नकहा-छह, मोहम्मदी- 15, कुंभी गोला-दो, ईसानगर- 14, रमियाबेहड़-13, मितौली- चार, बेहजम- तीन, पलिया-तीन, निघासन-चार, बांकेगंज- तीन, धौरहरा- सात, पसगवां- शून्य।
नवंबर माह में भर्ती हुए 12 बच्चे
कुपोषण वार्ड प्रभारी डॉ. आरपी वर्मा ने बताया कि नवंबर माह में कुल 12 बच्चे भर्ती हुए। इसमें चार बच्चों को आंगनबाड़ी, छह को आरबीएसके (राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम) टीम ने लाकर भर्ती कराया और दो बच्चे ओपीडी से भती कराए गए।
आराधना एवं पल्लवी का हो रहा इलाज
कुपोषण वार्ड में मोहल्ला गोटैया बाग निवासी वीरेंद्र कुमार की 15 माह की बेटी आराधना एवं नकहा निवासी दाताराम की 10 माह की बेटी पल्लवी भर्ती है। इसमें आराधना को उसकी मां सुमन देवी ने लाकर भर्ती कराया। जबकि पल्लवी को आरबीएसके की टीम ने।
आशा एवं बच्चे की मां को मिलता है भत्ता
कुुपोषण का शिकार बच्चे को जिला अस्पताल के कुपोषण वार्ड में भर्ती कराने पर आशा एवं आंगनबाड़ी को प्रति बच्चा 50 रुपये की प्रोत्साहन राशि मिलती है। उसके ठीक हो जाने के बाद चार बार अस्पताल आकर परीक्षण कराने पर 100 रुपये मिलते हैं। भर्ती बच्चे की मांग को दोनो समय का खाना और रोजाना 50 रुपये का भत्ता मिलता है। वहीं वार्ड से छुट्टी होने के बाद फिर से चार बार अस्पताल लाकर दिखाने पर 100 रुपये दिए जाते हैं। आने जाने के लिए नि:शुल्क वाहन की सुविधा भी मिलती है।
कुपोषण से भर्ती हुए बच्चे
2016-216
2018-204
2019-211
कुपोषित बच्चों को 14 दिनों तक वार्ड में भर्ती रखकर डॉक्टर द्वारा निर्धारित डाइट दी जाती है। इसमें दाल, हरी सब्जी, फल, दूध अंडा आदि दिया जाता है।। मां को भी दोनो समय का भोजन मिलता है। बच्चों का रोजाना वजन किया जाता है, जिससे सुधार की स्थिति पता लग सके।
- दिव्या चतुर्वेदी, न्यूट्रीशियन
कुपोषण वार्ड
कुपोषित बच्चों के लिए दस बेड का वार्ड रिजर्व है। बच्चे के साथ उसकी मां को खाना और 50 रुपये रोजाना का भत्ता दिया जाता है। कुपोषित बच्चों को लाने की जिम्मेदारी आशा, आंगनबाड़ी की है। मगर, ये सभी लोग लाने में लापरवाही करती हैं।
-डॉ.आरपी वर्मा, बाल रोग विशेषज्ञ एवं कुपोषण वार्ड प्रभारी
विज्ञापन

Recommended

स्वास्थ्य के लिए मक्खन से ज्यादा फायदेमंद है देशी घी, जानिए कैसे
Dholpur Fresh (Advertorial)

स्वास्थ्य के लिए मक्खन से ज्यादा फायदेमंद है देशी घी, जानिए कैसे

नएवर्ष में कराएं महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का एक माह तक जलाभिषेक, होगी परिवारजनों के अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति
Astrology Services

नएवर्ष में कराएं महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का एक माह तक जलाभिषेक, होगी परिवारजनों के अच्छे स्वास्थ्य की प्राप्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Lakhimpur Kheri

पांच साल की बच्ची से छेड़छाड़, आरोपी गिरफ्तार

पांच साल की बच्ची से छेड़छाड़, आरोपी गिरफ्तार

16 दिसंबर 2019

विज्ञापन

Ind vs WI 2019 : ये रहे टीम इंडिया की हार के पांच खलनायक

वेस्टइंडीज ने रविवार को पहले वन-डे में भारत को आठ से करारी शिकस्त दी। चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में खेले गए इस मुकाबले में वेस्टइंडीज ने टॉस जीता और भारत को पहले बल्लेबाजी करने के लिए आमंत्रित किया।

16 दिसंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Safalta

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us