शारदा खतरे के निशान से ऊपर

Lakhimpur Published by: Updated Tue, 09 Jul 2013 05:32 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
गांवों में फैला बाढ़ का खौफ
विज्ञापन

पलियाकलां। इलाके व पहाड़ों पर हो रही बारिश से शारदा नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। रविवार को दोपहर में नदी खतरे के निशान से करीब 46 सेमी ऊपर जा पहुंची। इससे समीपवर्ती गांवों में बाढ़ का खौफ फैल गया है।
इलाके व पहाड़ों पर हो रही बारिश से शारदा नदी का जलस्तर लगातार बढ़ता जा रहा है। इससे नदी खतरे के निशान को पार कर दोपहर तीन बजे 154.080 पर बहने लगी। यह खतरे के निशान से करीब 46 सेंटीमीटर ऊपर है। शारदा के बढ़े जलस्तर से समीपवर्ती गांवों का फसली इलाका एक बार फिर उसके उफान के पानी की चपेट में आ गया है। निचले भागों में बाढ़ का पानी भरा हुआ है। शारदा का बढ़ता जलस्तर लोगों के खौफ का कारण बनता जा रहा है। पिछली बाढ़ में फंसे लोग बुरी तरह परेशान हैैं। जलस्तर ऐसे ही बढ़ता रहा तो बाढ़ का आना तय माना जा रहा है। इधर बनबसा बैराज से रविवार को दोपहर तीन बजे अतिरिक्त पानी की रिलीजिंग करीब 84 हजार क्यूसेक रही। यह बढ़ेगी या घटेगी इस पर कोई कुछ नहीं कह पा रहा है। रिलीजिंग बढ़ी तो खतरा तय है।

0000
शारदा में बह गया भैंसा
उफना रही शारदा नदी में श्रीनगर निवासी चौथी राम का एक भैंसा बह गया जो कि शाम तक तलाश के बाद भी न मिल सका। इससे पहले भी यहां कई पशु बह चुके हैं जिनका अभी तक कोई पता नहीं है।
000000000
शारदा कटान से
किसान परेशान
इमिलिया फार्म जाने वाले मार्ग पर भरा पानी
पलियाकलां। तहसील क्षेत्र की ग्राम सभा सूरजपुर के जंगल नं. सात में लगातार कटान कर रही शारदा नदी ने किसानों के होश उड़ा दिए हैं। उधर इमिलिया फार्म जाने वाले मार्ग पर काफी पानी भरा होने से ग्रामीणों को आने-जाने मे काफी दिक्कत हो रही है।
जंगल नं. सात निवासी रामजी, राकेश कुमार, कंधई लाल, बच्चू सिंह, कृपाल सिंह, मिलाप सिंह आदि के खेतों में शारदा नदी से इन दिनाें कटान हो रहा है, इससे किसान काफी परेशान हैं। प्रशासन की ओर से उन्हें कोई राहत नहीं मिल पा रही है। उधर पूरे वर्ष गहरी नींद सोते रहे सिंचाई विभाग की ओर से भी कोई कारगर उपाय नहीं किए जा रहे हैं। निकटवर्ती जंगल में कटान होने से बड़े-बड़े पेड़ धराशाई होकर नदी में बह गए हैं इससे वन विभाग को भी काफी नुकसान हुआ है। खास बात यह है कि शारदा नदी में पानी बढ़ा होने के बावजूद यहां कटान थमने का नाम नहीं ले रहा है।
0000
कई गांवों में कहर ढा रही मोहाना
पलियाकलां। नेपाल की पहाड़ियों से बहकर आई मोहाना नदी थारू ग्राम नझोटा, बिरिया, ढखिया एवं बंदरभरारी में काफी नुकसान कर रही है। नझोटा ग्राम के तो करीब आधा दर्जन ग्रामीण घर व खेत कट जाने से दूसरी जगह जाकर बस गए हैं। ग्रामवासी अर्जुनलाल राना ने बताया कि प्रशासन की ओर से कटान पीड़ितों को कोई राहत नहीं दी गई है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X