कांकर घाट पर पुल बनवाने को जुटे ग्रामीण

Lakhimpur Updated Mon, 28 Jan 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
दर्जनों गांवों के सैकड़ों ग्रामीण जुटे
विज्ञापन

बरवर। गोमती नदी के कांकर घाट पर क्षेत्र के कई गांव के सैकड़ों लोगों ने धरना प्रदर्शन कर पुल बनवाने की मांग की।
क्षेत्र के गांव सेमरा जानीपुर, गलरई, बरवर, भौनापुर, ककराही, दुल्हापुर चौबे, दुल्हापुर किसान, पतवन, मुल्लापुर, अभानपुर, बढ़वारी, मकसूदपुर, चंदिला, घाघपुर आदि के सैकड़ों लोग कांकर घाट पर इकट्ठे हुए और धरना प्रदर्शन किया। ग्रामीणों की मांग है कि यहां पुल का निर्माण करवाया जाए। मालूम हो कि कई साल पहले सावन की अमावस्या को भगवान शंकर बाबा टेढ़ेनाथ के दर्शन के लिए जा रहे पांच नागरिकों की नाव पलट जाने से मौत हो गई थी। तभी से लोगों ने इस घाट पर पुल बनवाने की मांग की थी, लेकिन अब तक केवल कागजी खानापूर्ति के अलावा कुछ नहीं हुआ। इस मौके पर फत्ते सिंह, हरेंद्र सिंह, नरेश सिंह, रामसिंह, परसादी लाल, अनूप सिंह, बहादुरलाल, मोतीचंद्र, रवींद्र मिश्रा, मशरूर खां, इशहाक खां, क्रांति कुमार सिंह और आशाराम आदि मौजूद रहे।
000
पुल बनने से तहसील मुख्यालय पहुंचना होगा आसान
लखीमपुर/बरवर। गोमती नदी के कांकर घाट पर पुल बनाने की मांग अर्से से चली आ रही है, लेकिन अभी तक किसी जनप्रतिनिधि ने सुधि नहीं ली है। जबकि पुल के बन जाने से करीब 100 ग्राम पंचायतों को प्रत्यक्ष तौर पर आवागमन में लाभ होगा। अगर पुल निर्माण हो जाए, तो ग्रामीणों को सीधे तहसील मोहम्मदी पहुंचना आसान हो जाएगा, तो जिला मुख्यालय से भी जुड़ सकेंगे। आवागमन सुलभ होने से ही क्षेत्र में विकास की गति को नया आयाम मिल सकेगा।

कांकर घाट क्षेत्र के आसपास बसे गांव सेमरा जानीपुर, गलरई, बरवर, भौनापुर, ककराही, दुल्हापुर चौबे, दुल्हापुर किसान, पतवन, मुल्लापुर, अभभनापुर, बढ़वारी, मकसूदपुर, चंदिला, घाघपुर आदि के बाशिंदों को तहसील मोहम्मदी जाने के लिए फत्तेपुर, औरंगाबाद होकर जाना पड़ता है, जिससे करीब 25 किमी का ज्यादा सफर तय करना पड़ता है। जिला मुख्यालय पर पहुंचने के लिए भी कुछ ऐसी ही कवायद करनी पड़ रही है। प्रसिद्ध टेढ़ेनाथ मंदिर जाने के लिए कांवरियों को जोखिम का सामना करना पड़ता है, लेकिन पुल के बन जाने से दूरी कम हो जाएगी और जोखिम भी कम हो जाएगा। तहसील और जिला मुख्यालय के लिए सीधा रास्ता न होने के कारण शिक्षा और स्वास्थ्य-चिकित्सा में इलाका काफी पिछड़ गया है। पुल के निर्माण से इन गांवों के लोग वाया अमीरनगर-लाल्हनगंज गुरुद्वारा होते हुए सीधे मोहम्मदी और लखीमपुर जा सकेंगे। पुल बनाने की मांग करीब 35 वर्षों से चली आ रही है, लेकिन शासन-प्रशासन ने कोई सुधि नहीं ली। तो इस बार ग्रामीणों ने गणतंत्र दिवस के मौके पर आंदोलन-प्रदर्शन कर बिगुल फूंक दिया है। मांग संबंधी ज्ञापन एसडीएम मोहम्मदी को सौपा गया है।
000
...और नहीं पहुंचे माननीय
आंदोलनकारियों ने कांकर घाट पर प्रदर्शन से पूर्व मोहम्मदी से बसपा विधायक बाला प्रसाद अवस्थी और गोला विधानसभा के सपा विधायक विनय तिवारी को आमंत्रित किया था। इसके पीछे आंदोलनकारियों की मंशा यही थी कि उनकी बात आसानी से शासन तक पहुंचेगी और जनप्रतिनिधि भी उनकी आवश्यकता को महसूस करेंगे। इसके बावजूद प्रदर्शन के समय कोई माननीय नहीं पहुंचा, जिससे लोगों को मायूसी होना पड़ा है। भाकपा माले सदस्य क्रांति कुमार सिंह ने बताया कि दोनों विधायकों का क्षेत्र प्रभावित गांवों में लगता है। इसलिए ग्रामीणों ने उन्हें आमंत्रित किया था।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X