शासनादेश के उलट हो रही है कार्रवाई!

Lakhimpur Updated Tue, 25 Dec 2012 05:30 AM IST
वेतन रोकने के बाद शिक्षक से मांगा स्पष्टीकरण
एक अध्यापक निलंबित, तीन का वेतन काटा
सिटी रिपोर्टर
लखीमपुर खीरी। बेसिक शिक्षा विभाग में शासनादेश को ताक पर रखकर कार्रवाई की जा रही है। एक शिक्षक निलंबित और तीन का विभिन्न तरीकों से वेतन बाधित करने की कार्रवाई की गई है। जबकि हाल में जारी शासनादेश के मुताबिक किसी शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई करने से पहले जिलाधिकारी या शिक्षा निदेशक की अनुमति लेना जरूरी है।
जुलाई 2012 में शासन ने एक आदेश जारी कर बीएसए के अधिकार सीमित कर दिए थे। ताकि शिक्षकों का उत्पीड़न रोका जा सके। साथ ही लापरवाह शिक्षकों पर प्रभावी कार्रवाई हो सके। इसके बावजूद पुराने ढर्रे के मुताबिक कार्रवाई की जा रही है। जिसमें कार्रवाई के नाम पर शिक्षकों का शोषण ज्यादा होता है। हालिया मामला ब्लाक रमियाबेहड़ के प्राथमिक विद्यालय बिछुली का सामने आया है। जहां तैनात सहायक अध्यापक शरत कुमार शुक्ला को निलंबित कर दिया गया। बीएसए डॉ.अचल मिश्रा ने 13 दिसंबर 2012 को निलंबन आदेश जारी कर आरोप लगाया कि बीईओ के 19 नवंबर को किए गए निरीक्षण में शिक्षक बिना सूचना के कई दिनों से अनुपस्थित पाए गए। साथ ही हवाला दिया कि पूर्व में भी बगैर सूचना के गायब रहने पर मौखिक चेतावनी देकर छोड़ा गया था। इसके बाद बीएसए ने आरोपी शिक्षक शरत चंद शुक्ला को प्रथम दृष्टया दोषी मानते हुए निलंबित कर दिया। निलंबन अवधि में नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता दिया जाएगा और निलंबित शिक्षक को प्राथमिक विद्यालय सरपतहा में उपस्थिति दर्ज कराने के निर्देश दिए गए हैं। इस प्रकरण की जांच के लिए सदर ब्लाक के खंड शिक्षा अधिकारी केशवराम मिश्रा को जांच अधिकारी नामित किया गया है। निर्देश दिए गए कि शासनादेश के अनुसार संबंधित शिक्षक को आरोप पत्र प्राप्त कराकर जांच आख्या भेजें। इस कार्रवाई की बावत न तो जिलाधिकारी या शिक्षा निदेशक से अनुमति ली गई और न ही संबंधित अधिकारियों को कार्रवाई की सूचना दी गई।
00000
तीन शिक्षकों के वेतन पर चली कैंची
पसगवां के खंड शिक्षा अधिकारी की आख्या पर बीएसए ने प्राथमिक विद्यालय पनई के प्रधानाध्यापक सुदयभान के खिलाफ कार्रवाई करते हुए एक वार्षिक वेतन वृद्धि अस्थाई रूप से अग्रिम आदेशों तक बाधित कर दी है। आरोपी शिक्षक सुदयभान पर आरोप है कि विभागीय अधिकारियों को जानकारी दिए बगैर पनई निवासी सूरज बली को विद्यालय का सफाई कर्मी होने का प्रमाण पत्र निर्गत कर दिया था। दूसरा मामला ब्लाक कुंभी के प्राथमिक विद्यालय मूड़ामाफी का है। जहां तैनात शिक्षक अनुज मिश्रा का वेतन बाधित कर दिया गया है। इनके विरुद्ध आरोप है कि प्राथमिक विद्यालय दौलतपुर और सरैंया विलियम का चार्ज होने के दौरान किचन शेड और बाउंड्रीवाल की धनराशि आहरित कर ली गई, लेकिन निर्माण नहीं हो सका। तीसरे मामले में रमियाबेहड़ ब्लाक के उच्च प्राथमिक विद्यालय बिछुली के प्रधानाध्यापक पृथ्वीपाल का एक दिन का वेतन बाधित किया गया। इन पर आरोप है कि 19 नवंबर को बीईओ की जांच में अनुपस्थित पाए गए।
00000000
शासनादेश की प्रति नहीं मिली है। स्टेनो ने कार्रवाई तैयार कर दस्तखत कराए थे, सो मैने कर दिए। अगर कोई इस संबंध में शासनादेश जारी हुआ है, तो उसे दिखवाएंगे।
-डॉ.अचल मिश्रा, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी

Spotlight

Most Read

Varanasi

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

19 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में ‘एनकाउंटर अभियान’ के तहत एक लाख का इनामी ढेर

यूपी एसटीएफ ने एक कार्रवाई के तहत इनामी बदमाश बग्गा सिंह को ढेर किया। जानकारी के मुताबिक एसटीएफ ने कार्रवाई लखीमपुर-खीरी के पास नेपाल बॉर्डर पर की है। बात दें कि बग्गा सिंह कई मामलों में वांछित था और इसके सिर पर एक लाख रुपये का इनाम था।

18 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper