कई जरूरतमंदों के नहीं बन सके स्मार्ट कार्ड

Lakhimpur Updated Sat, 01 Dec 2012 12:00 PM IST
3.43 लाख परिवारों में 90 हजार को मिले थे कार्ड
सिर्फ 117 पात्रों को मिल सका था इलाज
अब आज से फिर बनेंगे स्मार्ट कार्ड
सिटी रिपोर्टर
लखीमपुर खीरी। बीपीएल परिवारों के इलाज को शुरू की गई राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना महज ‘औपचारिकता’ बनकर रह गई है। कई जरूरतमंदों को स्मार्ट कार्ड मिल ही नहीं सके। जिन लोगों को कार्ड मिले भी तो उन्हें इलाज की सुविधा नहीं मिली।
जिले के 3.43 लाख बीपीएल परिवारों के मुकाबले महज 90,110 परिवारों को ही स्मार्ट कार्ड मुहैया कराए गए थे। जिसमें केवल 117 स्मार्ट कार्डधारकों को ही इलाज की सुविधा मिल सकी। 22 मार्च 2012 को स्मार्ट कार्ड की वैधता समाप्त होने के बाद से गरीबों के इलाज की सुविधा बंद है। अब एक दिसंबर 2012 से ब्लाकवार स्मार्ट कार्ड जारी करने का काम शुरू कराया जाएगा, जो मार्च 2013 तक पूरा करना होगा।
बता दें कि जिले के ग्रामीण क्षेत्र में 3.17 लाख और नगरीय क्षेत्र में 26 हजार बीपीएल परिवारों को स्मार्ट कार्ड मुहैया कराने का जिम्मा वर्ष 2011 में ओरियंटल इंश्योरेंस कंपनी को मिला था। जनवरी 2011 से काम शुरू होना था, लेकिन 15 फरवरी से शुरू हुआ था। कार्यदायी संस्था ओरियंटल इंश्योरेंस ने सितंबर 2011 तक 90,110 बीपीएल परिवारों को स्मार्ट कार्ड जारी किए थे। जबकि 2,52,890 बीपीएल परिवारों को स्मार्ट कार्ड ही नहीं मिल सके। जिससे स्वास्थ्य सेवा के लाभ से वह वंचित रह गए थे। इन स्मार्ट कार्ड की वैधता 22 मार्च 2012 को खत्म हो गई थी, तब तक केवल 117 स्मार्ट कार्डधारकों को लाभ मिल सका। इसके बाद से योजना का क्रियान्वयन बंद है। हालांकि अप्रैल 2012 से नए स्मार्ट कार्ड इश्यू किए जाने थे, जिसका जिम्मा आईसीआईसीआई लोम्बार्ड को मिला है। अब हालात यह है कि वित्तीय वर्ष 2012-13 बीतने को है, लेकिन कार्ड जारी करने का काम शुरू नहीं हो सका है।
00000
एक दिसंबर से शुरू होगा कार्य
स्मार्ट कार्ड बनाने का कार्य एक दिसंबर 2012 से शुरू होकर मार्च 2013 तक चलेगा। दिसंबर में बेहजम और रमियाबेहड़ ब्लाक का चयन किया गया है, जहां आईसीआईसी लोम्बार्ड स्मार्ट कार्ड बनाना शुरू करेगी। उम्मीद है कि इस बार अधिक से अधिक बीपीएल परिवारों को स्मार्ट कार्ड मुहैया कराएं जा सकेंगे।
-डॉ.एनके बनौधा, नोडल अधिकारी/डिप्टी सीएमओ
00000
स्मार्ट कार्ड के लाभ
स्मार्ट कार्डधारक को एक साल में तीस हजार रुपये तक का इलाज चिह्नित अस्पतालों में मुफ्त करने का प्रावधान है। कार्डधारक के अलावा उसके परिवार के तीन सदस्यों को भी इलाज की सुविधा है। इसमें गंभीर रोगों की जांच, इलाज आदि शामिल है। अस्पताल तक आने-जाने का खर्च एक हजार रुपये तक देने का प्रावधान है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में ‘एनकाउंटर अभियान’ के तहत एक लाख का इनामी ढेर

यूपी एसटीएफ ने एक कार्रवाई के तहत इनामी बदमाश बग्गा सिंह को ढेर किया। जानकारी के मुताबिक एसटीएफ ने कार्रवाई लखीमपुर-खीरी के पास नेपाल बॉर्डर पर की है। बात दें कि बग्गा सिंह कई मामलों में वांछित था और इसके सिर पर एक लाख रुपये का इनाम था।

18 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls