टांडा का शव लेने से मां का इंकार

Lakhimpur Updated Wed, 31 Oct 2012 12:00 PM IST
लखीमपुर खीरी। रविवार को पुलिस मुठभेड़ में मारे गए कुख्यात अपराधी सुमित सिंह टांडा के शव को लेने के लिए मंगलवार तक परिवार वाले नहीं पहुंचे। बल्कि उसकी मां मुन्नी देवी ने एसपी कार्यालय को फैक्स भेजकर शव लेने से इंकार कर दिया। उसने फैक्स में कहा कि अपराधी बेटे से कोई वास्ता नहीं है।
कुशीनगर जिले के थाना अहिरौली के गांव बरवा बाबू निवासी सुमित टांडा के परिवार में उसकी मां मुन्नी देवी के अलावा एक भाई अमित और पिता रमेश हैं। पिता मानसिक रूप से बीमार हैं। अमित (छोटा भाई) भी गलत सोहबत के चलते स्मैक का लती है। बेटे के कारनामों से आहत मां को उसके मारे जाने की खबर पुलिस ने दी और शव लेने के लिए कहा। जिस पर मां ने दिल पर पत्थर रखते हुए बेटे के शव को लेने से इंकार कर दिया। कोतवाल नरेंद्र सिंह राणा ने बताया कि मां के इंकार के बाद ग्राम प्रधान जितेंद्र कुमार शाही ने उसके चाचा दिनेश के आने की सूचना दी है। जो यहां आकर अंतिम संस्कार करेंगे। उनके आने का इंतजार देर रात तक होता रहा। उधर, एसपी दलवीर सिंह यादव ने बताया कि निश्चित समयावधि में उसके चाचा के न आने पर शव का अंतिम संस्कार करा दिया जाएगा।
0000
काल डिटेल खंगालने में जुटी पुलिस
लखीमपुर खीरी। कुख्यात अपराधी सुमित टांडा के पास से पुलिस को मोबाइल फोन के दो सिम मिले। जिनकी काल डिटेल खंगाली जा रही है। वहीं उसके पास से एक फोन डायरी, एटीएम कार्ड, विजिटिंग कार्ड और 5500 रुपये बरामद हुए। इससे पुलिस को उसके लोकल कनेक्शन के बारे में जानकारी हासिल होने की उम्मीद है।
0000
टांडा था कई बड़े अपराधियों के संपर्क में
लखीमपुर खीरी। कुख्यात अपराधी सुमित सिंह टांडा के मारे जाने के बाद अपराधिक इतिहास के बारे में और जानकारियां निकलकर सामने आ रहीं हैं। कोतवाल नरेंद्र सिंह राणा के मुताबिक टांडा के संपर्क में कई बड़े अपराधी भी थे। करीब चार माह पूर्व टांडा ने गोरखपुर के तिवारीपुर थाने में एक कार लूटने का मुकदमा दर्ज किया गया था। जिसमें उसके साथ पंजाब के भी अपराधी शामिल थे।
00000
कई वर्ष से घर नहीं गया था टांडा
लखीमपुर खीरी। पुलिस मुठभेड़ में मारे गए कुख्यात अपराधी सुमित सिंह टांडा की मां ने एसपी को भेजे फैक्स में कहा कि वह कई वर्षों से घर नहीं आया था। लोगों के जरिए उसे खराब चल रही पारिवारिक स्थिति बताकर सुधर जाने के संदेश भेजती थी, लेकिन उसने कोई बात नहीं मानी। ऐसे में उसका (टांडा) का अंतिम संस्कार भी नहीं करना चाहती हैं।
0000
आठ वर्षीय पुत्र ने दी सिपाही को मुखाग्नि
लखीमपुर खीरी। कुख्यात अपराधी सुमित टांडा की गोली से मारे गए सिपाही उमेश कुमार का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ सोमवार की रात को कर दिया गया। गमगीन माहौल में शहीद सिपाही के पुत्र आठ वर्षीय दीपक ने मुखाग्नि दी। इस दौरान कोतवाली का पुलिस स्टाफ मौजूद रहा।
अंतिम संस्कार से पहले शहीद सिपाही के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए पुलिस लाइंस में लाया गया था, जहां डीआईजी, एसपी समेत पुलिस स्टाफ ने राजकीय सम्मान के साथ सलामी दी। इसके बाद पार्थिव शरीर को मोहल्ला कमलापुर स्थित आवास पर लाया गया, जहां मौजूद रिश्तेदारों में कोहराम मच गया। इसके बाद परिजनों की सहमति से ही रात करीब आठ बजे शहीद सिपाही का अंतिम संस्कार कर दिया गया। अंतिम संस्कार के समय कोतवाल नरेंद्र सिंह राणा, एसएसआई आरके शर्मा, संकटा देवी चौकी इंचार्ज जेपी यादव समेत पुलिस स्टाफ समेत गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

Spotlight

Most Read

Hapur

अब जिले में नहीं कटेंगे बूढ़े हो चुके फलदार वृक्ष

अब जिले में नहीं कटेंगे बूढ़े हो चुके फलदार वृक्ष

22 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में ‘एनकाउंटर अभियान’ के तहत एक लाख का इनामी ढेर

यूपी एसटीएफ ने एक कार्रवाई के तहत इनामी बदमाश बग्गा सिंह को ढेर किया। जानकारी के मुताबिक एसटीएफ ने कार्रवाई लखीमपुर-खीरी के पास नेपाल बॉर्डर पर की है। बात दें कि बग्गा सिंह कई मामलों में वांछित था और इसके सिर पर एक लाख रुपये का इनाम था।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper