धौरहरा के 60 गांव बाढ़ की चपेट में

Lakhimpur Updated Wed, 26 Sep 2012 12:00 PM IST
सड़कों पर पानी आने से दर्जनों गांवों का संपर्क कटा
मोटेबाबा गांव के एक दर्जन और घर घाघरा में समाए
धौरहरा। शारदा ओर घाघरा का जलस्तर घटने के बावजूद धौरहरा तहसील क्षेत्र के करीब साठ गांव बाढ़ की चपेट में हैं। इनमें से करीब दो दर्जन गांव ऐसे हैं जिनका संपर्क दूसरे गांवों से कट गया है। सड़कों पर पानी भरा हुआ है और लोग नाव से आवागमन कर रहे हैं। कई गांवों में अब तक लोग परिवार समेत छतों और छप्परों पर बैठ कर समय गुजार रहे हैं। इन गांवों का रास्ता बंद होने से राहत भी नहीं पहुंच पा रही है।
क्षेत्र के ग्राम चहमलपुर, दूल्हामऊ, समरदहा, रैनी, गुदरिया, महराजनगर, संवादुर खुर्द, सरगड़ा, बम्हौरी, पसियनपुरवा, विहारी पुरवा, जंगल नंबर तीन, गौढ़ी मिलिक लुधौनी, सेमरिया, चिंतापुरवा समेत करीब 60 गांवों में पानी भरा हुआ है। इन गांवों के लोगों ने अपना घर बार छोड़कर ऊंचे स्थानों पर शरण ले रखी है।
बाढ़ प्रभावित इलाकों में सैकड़ों हेक्टेयर लहलहाती धान और गन्ने की फसलें पानी में डूब कर तबाह हो गई हैं इससे करोड़ाें रुपये की संपत्ति का नुकसान का अनुमान है। किसान अपनी आंखों के सामने अपनी फसल की बर्बादी देखने को मजबूर हैं।
उधर मोटेबाबा गांव में करीब एक दर्जन मकान और कट कर घाघरा नदी में समा गए। इस गांव का करीब आधा हिस्सा नदी में कट चुका है। घाघरा एक-एक कर गांव के घरों को निगलती जा रही है। ग्रामीण कटान के डर से तिनका-तिनका जोड़कर बनाए घरों को अपने ही हाथों उजाड़ कर मलबा सुरक्षित स्थानों पर ले जा रहे हैं।
000000
जीना हुआ मुहाल, लोग बेहाल
बाढ़ के पानी से फसलों का सड़ना तय, बीमारियों ने डाला घेरा
पलियाकलां। बाढ़ से लोगों ने जैसे-तैसे निपट लिया पर अब उससे पैदा हुईं दुश्वारियों से उनका पीछा नहीं छूट पा रहा है। दिन पर दिन बीमारियां बढ़ रहीं हैं तो वहीं बाढ़ के पानी की चपेट में आई फसलों का सड़ना तय माना जा रहा है। इस आर्थिक चोट के खतरे से किसानों के माथे पर बल पड़े हुए हैं।
हर साल की तरह इस बार भी आई बाढ़ चली तो गई लेकिन अपने पीछे छोड़ गई तमाम दुश्वारियां। इनमें सबसे बड़ी दुश्वारी तरह-तरह की बीमारियां हैं जो एक साथ पैदा हुई है और घर के घर इसकी चपेट में हैं। किसी घर के चार तो किसी घर के तीन सदस्य इन बीमारियों से जूझ रहे हैं। इसमें सबसे खतरनाक बुखार है जो लोगों का पीछा नहीं छोड़ रहा है। स्वास्थ्य महकमा क्लोरीन की गोलियां बांट कर इन बीमारियों से लोगों को निजात दिलाने की कोशिश कर रहा है। वहीं बाढ़ की भयानक चपेट में आई सैकड़ों एकड़ विभिन्न फसलों के सड़ने की आशंका बढ़ती ही जा रही है जिससे किसान परेशान हैं।
बता दें कि पहले से ही क्षेत्र के अधिकतर किसान कृषि के कर्जों से लदे हुए हैं और उस पर यह मार दोहरी हो गई है। इसके साथ ही बाढ़ से कई और नुकसान हुए है जिनमें तमाम रास्तों का बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो जाना प्रमुख है। इन रास्तों के अब जल्दी बन पाने की उम्मीद नहीं है इससे लोगों को आवागमन में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
0000
जलस्तर कम होते ही शुरू हुआ कटान
शारदा नदी से प्रभावित जंगल नंबर सात में नदी का जलस्तर कम होते ही कटान शुरू हो गया है और दिन पर दिन कटान की गति बढ़ती जा रही है। इधर नार्थ खीरी वन प्रभाग की लगदाहन बीट में भी शारदा नदी ने कटान शुरू कर दिया है।
00000
पशुओं का टीकाकरण
संपूर्णानगर। क्षेत्र के बाढ़ग्रस्त गांवों में पशुओं को बीमारियों से बचाने के लिए टीकाकरण किया जा रहा है। घोला ग्राम पंचायत के मजरा निषादनगर एवं श्रवणनगर में पशुधन प्रसार अधिकारी एमपी सिंह के नेतृत्व में करीब 150 पशुओं का टीकारण कर दवाएं वितरित की गईं।
00000
मगरमच्छ ने कुत्ते को निवाला बनाया
संपूर्णानगर। कृष्णानगर गांव के कुंडे से निकला एक मगरमच्छ गांव में घुस आया और रास्ते पर बैठे एक कुत्ते को अपना निवाला बना लिया। इससे लोगों में दहशत है।
00000
लगदाहन, बाजपुर में राहत नहीं
मंहगापुर। बाढ़ग्रस्त गांव लगदाहन और बाजपुर में अब तक प्रशासन के कोई राहत मुहैया न करासे लोगों में गुस्सा है। बाढ़ पीड़ितों का आरोप है कि यहां कोई भी प्रशासनिक नुमाइंदा नहीं आया।

Spotlight

Most Read

Lucknow

ब्राइटलैंड स्कूल में छात्र को चाकू मारने वाली छात्रा को मिली जमानत

ब्राइटलैंड स्कूल में कक्षा एक के छात्र रितिक शर्मा को चाकू से गोदने की आरोपी छात्रा को जेजे बोर्ड ने 31 जनवरी तक के लिए शुक्रवार को अंतरिम जमानत दे दी।

19 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में ‘एनकाउंटर अभियान’ के तहत एक लाख का इनामी ढेर

यूपी एसटीएफ ने एक कार्रवाई के तहत इनामी बदमाश बग्गा सिंह को ढेर किया। जानकारी के मुताबिक एसटीएफ ने कार्रवाई लखीमपुर-खीरी के पास नेपाल बॉर्डर पर की है। बात दें कि बग्गा सिंह कई मामलों में वांछित था और इसके सिर पर एक लाख रुपये का इनाम था।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper