...और नहीं हो सका मतदान

Lakhimpur Updated Wed, 26 Sep 2012 12:00 PM IST
जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव
एसीजेएम अस्वस्थ, अब 18 अक्तूबर को होगा फैसला
लखीमपुर खीरी। बसपा सांसद जुगुल किशोर की पत्नी एवं जिला पंचायत अध्यक्ष दमयंती किशोर के खिलाफ सपा की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर मंगलवार को होने वाला मतदान एसीजेएम अच्छेलाल की अस्वस्थता के कारण स्थगित हो गया। मतदान के लिए अगली बैठक अब 18 अक्तूबर को होगी।
सपा नेता 29 जिला पंचायत सदस्यों के शपथ पत्र के साथ चार सितंबर को जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश कराने में कामयाब हो गए थे। 25 सितंबर को तय तिथि पर मतदान के लिए होने वाली बैठक की अध्यक्षता के लिए जिला जज छोटेलाल ने एसीजेएम अच्छेलाल को नियुक्त किया था। सुबह दस बजे जिलाधिकारी मनीष चौहान व पुलिस अधीक्षक दलबीर सिंह यादव ने जिला पंचायत पहुंचकर वहां की व्यवस्था का जायजा लिया।
बैठक 11.30 बजे से शुरू होनी थी। करीब 12.30 बजे डीपीआरओ योगेंद्र कटियार ने वहां मौजूद सदस्यों को बताया कि एसीजेएम अस्वस्थता के कारण बैठक में भाग नहीं ले सकेंगे। उन्होंने बैठक स्थगित कर दी है। योगेंद्र कटियार ने बताया कि अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान के लिए 18 अक्तूबर की तिथि निर्धारित की गई है।
0000
बसपा विधायकों से धक्का-मुक्की
विरोध में एमएलए धरने पर बैठे
बैठक में जाने से रोकने पर बवाल
सिटी रिपोर्टर
लखीमपुर खीरी। अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान में अपने खेमे की जीत का दावा कर रहे बसपा विधायक रोमी साहनी, बाला प्रसाद अवस्थी और शमशेर बहादुर सिंह उर्फ शेरू सुबह करीब 10.30 बजे ही जिला पंचायत कार्यालय गेट पर पहुंच गए। 11.00 बजे जिला पंचायत अध्यक्ष दमयंती किशोर कार्यालय गेट पर पहुंची तो उनके साथ तीनों विधायक भी अंदर जाने का प्रयास करने लगे। गोला के कोतवाल एके सिंह ने बसपा विधायकों को गेट पर ही रोक लिया। पुलिस और विधायकों के बीच धक्का-मुक्की भी हुई। इससे खफा तीनों विधायक गेट के सामने धरने पर बैठ गए। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और सीओ धौरहरा सुरेंद्र द्विवेदी ने किसी तरह विधायकों को समझाकर धरने से उठाया।
00000
चप्पे-चप्पे पर तैनात रहा पुलिस बल
लखीमपुर खीरी। जिला पंचायत अध्यक्ष दमयंती किशोर के विरुद्ध लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर मंगलवार को होने वाले मतदान को लेकर जहां खासी गहमा-गहमी रही वहीं मतदान स्थल से लेकर पूरे शहर के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बल तैनात रहा। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के अलावा कई थानों का पुलिस बल, एक प्लाटून पीएसी और खुफिया विभाग के अधिकारी गेट पर तैनात रहे। शहर के सभी प्रमुख चौराहों पर भी भारी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा। जिला पंचायत कार्यालय रोड पर दुपहर तक बड़े वाहनों का आवागमन भी रोके रखा गया।
0000
राहत तो मिली, भय कम नहीं
लखीमपुर खीरी। जिला पंचायत अध्यक्ष दमयंती किशोर ने मतदान स्थगित होने के बाद मीडिया से यह तो कहा कि बहुमत आज भी उनके पक्ष में है लेकिन आशंका जताई कि तिथि बढ़ जाने के बाद सपाई सत्ता का दुरुपयोग कर उनके पक्ष के सदस्यों को तोड़ने का प्रयास कर सकते हैं।
0000
बसपाइयों ने लगाए नारे, सपाई भी खुश
जिला पंचायत अध्यक्ष के ऊपर छाए संकट के बादल अभी पूरी तरह नहीं छंटे
लखीमपुर खीरी। जिला पंचायत अध्यक्ष दमयंती किशोर पर छाए संकट के बादल पूरी तरह छंट भी नहीं सके हैं, इसके बावजूद बसपाइयों ने अपनी जीत के अंदाज में नारे बुलंद किए। उधर मतदान स्थगित होने की सूचना मिलते ही सपाइयों ने भी खुशियां मनाईं।
शुरू से ही आधे से अधिक जिला पंचायत सदस्यों के अपने साथ होने का दावा करने वाले बसपाइयों को भय था कि अगर वह अपने खेमे के जिला पंचायत सदस्यों को मतदान के लिए लाते हैं तो सपाई उनमे से कुछ को शासन सत्ता के दबाव में अपने पक्ष में तोड़ सकते हैं। लिहाजा वह अपने पक्ष के सदस्यों से बैठक का बहिष्कार करा इस अविश्वास प्रस्ताव को गिराने की रणनीति बनाए हुए थे। सपाई किसी तरह की गड़बड़ी न कर सकें इसके लिए बसपा विधायक रोमी साहनी, शमशेर बहादुर सिंह उर्फ शेरू तथा बाला प्रसाद अवस्थी के अलावा पूर्व मंत्री अब्दुल मन्नान, पूर्व सांसद दाउद अहमद, पूर्व जिलाध्यक्ष रामकुमार चौधरी, जिलाध्यक्ष प्रदीप गौतम, मकसूद अली गुड्डू, जाकिर अंसारी, प्रेम प्रकाश अग्निहोत्री उर्फ पंचम, धौरहरा लोकसभा प्रत्याशी अरुण वर्मा, केहर, मनमोहन मौर्या सहित तमाम बसपाई गेट पर डटे रहे। जैसे ही बैठक स्थगित होने की सूचना बाहर आई बसपाइयों ने समझा कि अविश्वास प्रस्ताव कोरम अभाव में गिर गया। इस पर बसपाई जुगुल किशोर-मायावती जिंदाबाद के नारे लगाने लगे।
गेट के दूसरे किनारे पर खड़े सपाइयों के खेमे में इस वजह से कुछ देर के सन्नाटा सा छा गया, लेकिन इसी बीच सपा जिलाध्यक्ष शशांक यादव ने बताया कि एसीजेएम के अस्वस्थ हो जाने के कारण अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान फिलहाल स्थगित हुआ है। इस पर सपाई भी खुशी में नारेबाजी करने लगे। सपाई खेमे की ओर से खास कर जिलाध्यक्ष शशांक यादव, जिला महामंत्री क्यूम खां, मोहम्मद सिद्दीक, विधायक राम सरन, विधायक विनय तिवारी, सयुस नेता अनुराग पटेल, सईद मुन्नन, इस्तियाक अहमद खां आदि मौजूद रहे।
00000
आत्मविश्वास से लबरेज दिखीं दमयंती
लखीमपुर खीरी। जिला पंचायत अध्यक्ष दमयंती किशोर के माथे पर तनिक भी शिकन नहीं दिखाई दी। आत्मविश्वास से लबरेज दमयंती किशोर मतदान स्थल जिला पंचायत कार्यालय बसपा खेमे में सबसे पहले करीब 11.00 बजे पहुंच गई। बसपाइयों की रणनीति के मुताबिक उनके खेमे के अन्य सदस्य बैठक में नियत समय तक नहीं पहुंचे। सपा खेमे से अस्वस्थता के बावजूद जिला पंचायत सदस्य राजीव गुप्ता सबसे पहले करीब 12.10 बजे जिला पंचायत कार्यालय पहुंचे। इसके कुछ देर बाद सपा खेमे के करीब डेढ़ दर्जन अन्य जिला पंचायत सदस्य एक साथ जिला पंचायत कार्यालय पहुंचे।
00000
जुगुल की गैर मौजूदगी बनी रही चर्चा का विषय
लखीमपुर खीरी। जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर मंगलवार को प्रस्तावित मतदान की कार्रवाई में दमयंती किशोर के पति एवं बसपा सांसद जुगुल किशोर की गैर मौैजूदगी चर्चा का विषय बनी रही। कहा जा रहा है कि बसपा सांसद जुगुल किशोर अपने ऊपर एक दिन पहले दर्ज किए गए अपहरण के मुकदमे के कारण मौके पर नहीं पहुंचे।
0000
किस नेता ने क्या कहा
-------------
सपाइयों के पास कोरम पूरा करने भर के जिला पंचायत सदस्य नहीं है। मतदान होता तो स्थिति साफ हो जाती। शासन-सत्ता के किए जा रहे दुरुपयोग से वह घबराएंगे नहीं। ईंट का जवाब पत्थर से देंगे। 18 को भी अविश्वास प्रस्ताव हर हाल में गिरेगा। जन समर्थन जिसके साथ होता है जीत उसी की होती है। जनसमर्थन व संख्याबल उनके साथ है। इस लिहाज से वह जीते हैं। इसके लिए जिले की जनता धन्यवाद की पात्र है जो उनकी गैर मौजूदगी में भी डटी रही। -जुगुल किशोर, बसपा सांसद एवं जिपं अध्यक्ष पति
--
सपाइयों ने खुलकर शासन, सत्ता का दुरुपयोग किया। जिला पंचायत सदस्यों को तरह-तरह से धमकाया। दमयंती किशोर के पक्ष में आज भी 34 सदस्य हैं। बसपा हर हाल में मुकाबला करने को तैयार है।
रोमी साहनी, विधायक बसपा
----
जिला पंचायत सदस्यों ने जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था। सपा ने उन्हें अपना नैतिक समर्थन दिया है। अधिकांश सदस्य अब भी जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ हैं। इस लिए अविश्वास प्रस्ताव हर हाल में पास होगा।-
-शशांक यादव, जिलाध्यक्ष सपा
0000
सपा की रणनीति कमजोर!
सिटी रिपोर्टर
लखीमपुर खीरी। जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर पहले चरण में खीरी के सपाइयों की कमजोर रणनीति सामने आई है। उनमें एकजुटता का अभाव दिखा जबकि विपक्षी दल के लोग मंगलवार को संगठित और लामबंद नजर आए।
सपा खेमे में सुबह से ही कार्यकर्ताओं का हुजूम उमड़ने लगा था। सेनापति के तौर पर सपा जिलाध्यक्ष शशांक यादव अविश्वास प्रस्ताव के जरिए बसपा के किले पर फतह करने की तैयारी में जुटे थे, लेकिन उनके कुछ महारथी नदारद थे। सूत्र बताते हैं कि सपा नेताओं की कमजोर रणनीति के चलते कुछ जिला पंचायत सदस्य छिटककर दूर चले गए, जिससे बहुमत हासिल करने के लिए जरूरी संख्या सपाइयों के लिए परेशानी का सबब बनी हुई थी। हालांकि प्रिजाइडिंग अफसर की तबियत खराब होने से अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान टल गया और इससे सपा को फौरी राहत मिल गई लेकिन 18 अक्तूबर को उसके सामने फिर अपनी रणनीति को परखने की परीक्षा होगी।
0000
हमारी तैयारी पूरी थी: शशांक
सपा जिलाध्यक्ष शशांक यादव ने कहा कि हमारी तैयारी पूरी थी। बहुमत के लिए आवश्यक सदस्य मौजूद थे, लेकिन प्रिजाइडिंग अफसर की तबियत खराब होने के कारण डेट आगे बढ़ गई है। समय आने पर बहुमत साबित कर देंगे।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी कैबिनेट ने एक जिला एक उत्पाद नीति पर लगाई मुहर, लिए गए 12 फैसले

यूपी कैबिनेट ने कुल 12 फैसलों को मंजूरी दे दी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई बैठक में एक जिला एक उत्पाद नीति पर मुहर लग गई।

23 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में ‘एनकाउंटर अभियान’ के तहत एक लाख का इनामी ढेर

यूपी एसटीएफ ने एक कार्रवाई के तहत इनामी बदमाश बग्गा सिंह को ढेर किया। जानकारी के मुताबिक एसटीएफ ने कार्रवाई लखीमपुर-खीरी के पास नेपाल बॉर्डर पर की है। बात दें कि बग्गा सिंह कई मामलों में वांछित था और इसके सिर पर एक लाख रुपये का इनाम था।

18 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper