शराबी ने दुधमुंहे बेटे को पटककर मार डाला

Lakhimpur Updated Sat, 22 Sep 2012 12:00 PM IST
भागते युवक को पिता ने बंधक बनाया, गिरफ्तार
जमीन के बंटवारे को लेकर पिता-पुत्र में हुई थी झड़प
भीखमपुर/मैगलगंज (खीरी)। मैगलगंज थाना क्षेत्र के गांव भावदा ग्रंट में शराब के नशे में धुत एक युवक ने अपने 18 दिन के दुधमुंहे बेटे की नल के चबूतरे पर पटककर हत्या कर दी। जमीन के लिए पिता से लड़ रहा यह युवक सिर्फ इस बात से आगबबूला था कि पिता ने जमीन पोते के नाम करने की धमकी दी थी।
भावदा ग्रंट निवासी गंगाराम की पत्नी नीलम ने गत तीन सितंबर को पहली संतान के रूप में बेटे को जन्म दिया था। परिवार की खुशियों पर गंगाराम की शराब की लत ग्रहण लगा गई। पिता रामकुमार शराब पीने पर बेटे गंगाराम का विरोध करते रहते हैं। इस कारण दोनों के बीच तनाव इतना बढ़ गया कि नौबत बंटवारे तक आ गई।
पुलिस के अनुसार गुरुवार की शाम करीब छह बजे गंगाराम शराब के नशे में धुत होकर घर लौटा। पिता-पुत्र के बीच जमीन को लेकर विवाद होने लगा तो रामकुमार ने पोते के नाम जमीन करने की धमकी दी। इससे आगबबूला गंगाराम ने पत्नी की गोद से दुधमुंहे बेटे को छीनकर नल के चबूतरे पर पटक दिया, जिससे बच्चे ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। इसके बाद भागने की कोशिश कर रहे गंगाराम को रामकुमार ने बंधक बना लिया और पुलिस को सूचना दी। पुलिस की चुस्ती का हाल यह कि वह शुक्रवार को दोपहर बाद घटनास्थल पर पहुंची। रामकुमार की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी गंगाराम के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।
00000
भावदाग्रंट को कच्ची शराब का अभिशाप
मोहम्मदी/भीखमपुर। कठिना नदी की तलहटी में बसे गांव भावदाग्रंट के बाशिंदो का जीवनयापन जंगल तथा कच्ची दारू के व्यापार पर निर्भर है। यहां के लोग न केवल दारू बेचकर अपनी गुजर बसर करते हैं वरन खुद पीकर नारकीय जिंदगी जीने को विवश हैं।
थारेन्टन स्मिथ गांव के दलित बाहुल्य दो मजरे भावदाग्रंट बड़े तथा छोटे गांव कच्ची दारू के लिए मशहूर हैं यहां के जंगल इनके लिए अभयारण्य बने हुए हैं। तकरीबन 50-60 परिवारों में बसे मजरे में शिक्षा की रोशनी के लिए मात्र एक प्राथमिक स्कूल है। पुरानी पीढ़ी के लोग सभी अशिक्षित हैं। चुनाव के दौरान इनकी मंडी में खूब रौनक रहती है। हजारों रुपये की दारू की बिक्री हो जाती है। इस काम में बूढ़े से लेकर जवान सभी लोग शामिल हैं। ट्यूब में भरकर दारू सप्लाई की जाती है।
सबसे दिलचस्प बात है कि यह गांव मोहम्मदी, हैदराबाद, मितौली व मैगलगंज थानों के बार्डर पर स्थित होने के कारण से भी सुरक्षित है, इसके अलावा आने-जाने के साधन भी नहीं हैं जिससे पुलिस यहां दबिश देने में भी कतराती है।
दारू पीकर कई लोग यहां जिंदगी से हाथ धो बैठे हैं। वर्ष 2010 में 30 वर्षीय लालाराम भार्गव की मौत दारू पीकर हुई थी तथा 2011 में जसवीर सिंह कच्ची पीकर जीवन गवां बैठे।
0000
बेटे की मौत के साथ ही उजड़ी दुनिया
मासूम बच्चे की क्या खता हो सकती है, जो उसे बेरहमी से उसकेपिता ने ही मौत के घाट उतार दिया। यह लोगों के जेहन में सवाल बनकर घूम रहा है। वहीं इस घटना के बाद से नीलम की दुनिया ही उजड़ गई है। उसने मासूम बच्चे की किलकारियां खोने के बाद पति का प्यार भी खो दिया है, जो अब जेल की सलाखों के पीछे पहुंच गया है।

Spotlight

Related Videos

यूपी में ‘एनकाउंटर अभियान’ के तहत एक लाख का इनामी ढेर

यूपी एसटीएफ ने एक कार्रवाई के तहत इनामी बदमाश बग्गा सिंह को ढेर किया। जानकारी के मुताबिक एसटीएफ ने कार्रवाई लखीमपुर-खीरी के पास नेपाल बॉर्डर पर की है। बात दें कि बग्गा सिंह कई मामलों में वांछित था और इसके सिर पर एक लाख रुपये का इनाम था।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper