विज्ञापन
विज्ञापन

मोहाना बदल रही है भारत-नेपाल सीमा का भूगोल

Lakhimpur Updated Thu, 30 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
भारत के करीब 25 वर्ग किमी क्षेत्र को लील चुकी नदी
विज्ञापन
विज्ञापन
सीमा के आधा किलोमीटर भीतर तक कर चुकी घुसपैठ
प्रशासनिक आंकड़ों में कटान को कम आंका जा रहा
विनोद भारद्वाज
लखीमपुर खीरी। भारत-नेपाल सीमा का भूगोल बदल रहा है। यह काम इन देशों की सरकार नहीं बल्कि मोहाना नदी कर रही है। जिले में करीब 55 किलोमीटर लंबी अंतर्राष्ट्रीय सीमा का विभाजन करने वाली यह नदी कटान करते हुए भारतीय सीमा में कई जगह आधा किलोमीटर भीतर तक घुसपैठ कर चुकी है। यानी उस तरफ की इतनी भूमि नेपाल के अधीन चली गई है। एक अनुमान के अनुसार भारत का करीब 25 वर्ग किलोमीटर रकबा नेपाली क्षेत्र में जा चुका है।
मोहाना नदी पलिया तहसील के गौरीफंटा से निघासन तहसील के मझरापूरब तक भारत-नेपाल सीमा का विभाजन करती है। यहां से यह घाघरा में मिल जाती है। नेपाल की पहाड़ियों से निकलने वाली इस नदी का प्रवाह तेजी से बदल रहा है। हालत यह है कि पिछले चार-पांच साल में ही यह नदी भारतीय क्षेत्र में कई जगह आधा किमी भीतर आ चुकी है।
जिले के थारू जनजाति वाले इस इलाके में मोहाना के कटान और जलभराव से खेतीबाड़ी नष्ट हो चुकी है। दुधवा वन क्षेत्र की जमीन को भी भारी क्षति हुई है। निघासन तहसील में पिछले वर्ष चार गांवों नई बस्ती, बंदरैया, कश्यपनगर और अनूप नगर का वजूद खत्म कर चुकी यह नदी इस साल भी 80 हेक्टयर से अधिक भूमि निगल चुकी है। मोहाना के प्रवाह को उस पार छोड़े गए फाट में ले जाने के लिए थारू जनजाति के लोगों ने पिछले साल बिना किसी सरकारी सहायता के करीब 300 मीटर नाला खोदा था। उस समय धारा मुड़ गई लेकिन बाद में सिल्ट जमा होने के कारण नाला फिर पट गया।
इस सबके बावजूद सरकारी रिकार्ड सही तस्वीर पेश नहीं कर रहे हैं। पलिया में केवल बंदरबरारी क्षेत्र में 0.809 हेक्टेयर जमीन कटने का रिकार्ड है। हकीकत में इससे कई गुना अधिक खेतीहर जमीन नदी में समा चुकी है। निघासन क्षेत्र में गांव सूरतनगर के प्रधान रामकरन, जसनगर के प्रधान कामता और पलिया ब्लाक के पूर्व प्रमुख प्रदीप मेमरो का कहना है कि सरकारी रिकार्ड में जितनी जमीन नदी से कटी दिखाई जा रही है, उससे कहीं अधिक कटान हो रहा है। मोहाना का भारतीय भूमि पर आक्रमण जारी है।

वर्जन---
‘मोहना का रुख बदलता रहता है। यह कभी नेपाल की सीमा में पहुंच जाती है तो कभी भारत की सीमा में आ जाती है।क्षेत्र के राजस्व कर्मियों से कटान का आकलन कराकर हर वर्ष रिपोर्ट शासन को भेजी जाती है।’ -सुरेंद्र विक्रम सिंह, प्रभारी जिलाधिकारी, लखीमपुर खीरी।

अभी फाइलाें में हैं पांच कार्य योजनाएं
बाढ़ खंड के एक्सईएन एमओ सिद्दीकी का कहना है कि करीब 55 किमी भारतीय सीमा से लगी मोहना नदी के रुख बदलने से नुकसान हो रहा है। भू-कटाव रोकने के लिए उन्होंने निघासन तहसील के तिकुनिया, सूरतनगर और इंद्रनगर तथा पलिया के तेनहा, बंदरभरारी में सुरक्षा उपायों की पांच कार्ययोजनाएं तैयार की हैं।

Recommended

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
UP Board 2019

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

क्या आप जीवन में किसी चिंता से परेशान है? ज्योतिष शास्त्र द्वारा अपने प्रश्न का उत्तर जानिए
ज्योतिष समाधान

क्या आप जीवन में किसी चिंता से परेशान है? ज्योतिष शास्त्र द्वारा अपने प्रश्न का उत्तर जानिए

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Bareilly

राहुल गांधी आज लखीमपुर खीरी में करेंगे जनसभा को संबोधित, सिंधिया भी होंगे साथ

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को खीरी लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी जफर अली नकवी के समर्थन में शहर के राजकीय इंटर कॉलेज के मैदान पर जनसभा को संबोधित करेंगे।

24 अप्रैल 2019

विज्ञापन

अलीगढ़ के रोडवेज दफ्तर में छलके जाम, वीडियो वायरल

उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के अलीगढ़ डिपो में कर्मचारियों के शराब पीने का वीडियो हुआ वायरल। देखें वीडियो।

21 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election