आपसी गुटबाजी से जूझ रही है कांग्रेस

Lakhimpur Updated Thu, 30 Aug 2012 12:00 PM IST
विधानसभा चुनाव के बाद पार्टी में बढ़ी खींचतान
लखीमपुर खीरी। विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के सदमे से कांग्रेस अब तक उभर नहीं पाई है। चुनाव के बाद पार्टी में शुरू हुई आपसी खींचतान ने पार्टी को और ज्यादा कमजोर कर दिया है। यहां कांग्रेस कार्यकर्ता स्पष्ट रूप से दो खेमों में बंटे नजर आ रहे हैं। खास बात यह है कि इस गुटबाजी को पार्टी के बड़े नेता ही बढ़ावा दे रहे हैं। कांग्रेस जिलाध्यक्ष बदलने के बाद यह गुटबाजी और तेज हो गई है। ऐसे में मिशन 2014 पार्टी के लिए एक बड़ी चुनौती बन गई है।
वर्ष 2009 में हुए लोकसभा चुनावों में जिले की दोनों लोकसभा सीटों पर कांग्रेस उम्मीदवार विजयी रहे थे। खीरी से जफर अली नकवी सांसद बने तो धौरहरा से जितिन प्रसाद चुनाव जीते। इस सफलता से कांग्रेस में उत्साह का संचार हुआ लेकिन विधानसभा चुनावों ने इस उत्साह पर पानी फेर दिया। विधानसभा चुनाव के बाद नगर पालिका के चुनावों में भी कांग्रेस को बड़ी शिकस्त झेलनी पड़ी।
लोकसभा चुनाव के बाद जिले के दानों सांसदों के बीच दूरियां बढ़ने लगीं। संगठन हाशिए पर आता चला गया। विधानसभा चुनाव के तुरंत बाद कांग्रेस जिलाध्यक्ष बदल दिए गए। इससे गुटबाजी में और इजाफा हुआ। संगठन लगातार निष्क्रिय होता गया। आज हालत यह है कि पार्टी की बैठकों और कार्यक्रमों में गिने-चुने लोग ही दिखाई देते है। जिले में हो रही खींचतान से प्रदेश नेतृत्व भी अनजान नहीं है।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए खीरी के सांसद जफर अली नकवी और धौरहरा से सांसद केंद्रीय सड़क परिवहन राज्यमंत्री जितिन प्रसाद दोनों के नाम प्रमुखता से चल रहे थे। आपसी खींचतान के चलते यह दोनों ही इस दौड़ में पिछड़ गए। इससे जिले की कांग्रेस राजनीति को एक बड़ा धक्का लगा है।
सबसे बड़ी बात यह है कि आने वाले लोकसभा चुनावों के लिए पार्टी ने खीरी से जो उम्मीदें लगा रखीं थी वह धूमिल होती नजर आ रहीं हैं। नए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के सामने भी खीरी जिले में पार्टी को संगठित और मजबूत करना एक बड़ी चुनौती साबित होगा।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में ‘एनकाउंटर अभियान’ के तहत एक लाख का इनामी ढेर

यूपी एसटीएफ ने एक कार्रवाई के तहत इनामी बदमाश बग्गा सिंह को ढेर किया। जानकारी के मुताबिक एसटीएफ ने कार्रवाई लखीमपुर-खीरी के पास नेपाल बॉर्डर पर की है। बात दें कि बग्गा सिंह कई मामलों में वांछित था और इसके सिर पर एक लाख रुपये का इनाम था।

18 जनवरी 2018