विज्ञापन
विज्ञापन

गुलदार मचा रहा है रानीनगर में आतंक!

Lakhimpur Updated Tue, 28 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
वन्यजीव सलाहकार परिषद सदस्य के वाहन के सामने आया
विज्ञापन
विज्ञापन
पलियाकलां। संपूर्णानगर परिक्षेत्र के गांव रानीनगर और मिर्चिया गांवों में आतंक मचाने वाला जानवर बाघिन है या गुलदार इसको लेकर एक नई बहस छिड़ गई है। फिलहाल जानकार इसे गुलदार बता रहे हैं। रविवार की रात वन्यजीव सलाहकार परिषद सदस्य के वाहन के आगे भी गुलदार ही आया था।
गौरतलब है कि संपूर्णानगर परिक्षेत्र के गांव रानीनगर और मिर्चिया में एक बाघिन अपने शावकों के साथ देखी जा रही थी। ग्रामीणों पर इसने हमले भी किए थे, जिसके चलते यह क्षेत्र में खूंखार मानी जाने लगी। इसकी पकड़-धकड़ की शुरुआत भी न हो पाई थी कि एक नई बहस छिड़ गई। ग्रामीण जिसे बाघिन बता रहे हैं जबकि विशेषज्ञ और वनाधिकारी गुलदार बता रहे हैं। जानकारों का कहना है कि पगमार्क गुलदार के हैं और यह गुलदार का इलाका भी बताया जा रहा है। जानकारों का मानना है कि लोग गलतफहमी में हैं। यहां जो भी लक्षण मिल रहे हैं वह गुलदार के ही हैं।
रविवार की रात स्थिति का जायजा लेने के लिए आए वन्यजीव सलाहकार परिषद सदस्य डॉ. वीपी सिंह के वाहन के सामने भी एक गुलदार आया था। हालांकि वह उसको कैमरे में कैद नहीं कर पाए। इस दौरान उनके साथ वनक्षेत्राधिकारी जेएन सिंह भी साथ थे। इस नई बहस ने लोगों को हैरत में डाल दिया है। इधर कुछ लोगों का यह भी मानना है कि बाघिन और गुलदार दोनाें हो सकते हैं और इस संभावना से लोगों में फैला खौफ और भी बढ़ गया है।
00000
पकड़ने के लिए लगाए गए तीन पिंजडे़
रानीनगर और मिर्चिया में आतंक मचाने वाले जीव को पकड़ने के लिए तीन पिंजड़े लगाए गए हैं। पहले यहां संदीप सिंह के घर के पास एक पिंजड़ा लगाया गया था और उसमें बकरी भी बांधी गई थी लेकिन हमलावर जीव उसमें नहीं आया। महकमे ने अब यहां दो और पिंजड़े लगवाए हैं।
00000
जनजागरण अभियान भी
वन्यजीव सलाहकार परिषद सदस्य डॉ. वीपी सिंह ने दहशतजदा गांवों में गुस्से में आकर दुर्लभ जीव को नुकसान न पहुंचाने की अपील की है। इसके तहत उन्होंने वहां बच्चों की रैली भी निकाली। डॉ. सिंह कहते हैं कि यह जीव भटक कर यहां आए हैं और चले भी जाएंगे। यह किसी के दुश्मन नहीं हैं। इन्हें बचाने में लोगों की सहभागिता होनी चाहिए।
00000
जुगराज भी बोले, बाघिन नहीं गुलदार
संपूर्णानगर। वन क्षेत्राधिकारी संपूर्णानगर दिलीप श्रीवास्तव के साथ प्रमुख फार्मर जुगराज सिंह शिकारी बाबू ने भी आतंक मचाने वाले जीव को गुलदार बताया है। कुत्ते का शिकार गुलदार ही कर सकता है। बाघिन पालतू छोटे पशुओं का शिकार नहीं करती है। गुलदार के पैरों के निशान छोटे होते हैं जो कि यहां भी पाए गए हैं। चीनी मिल के पूर्व डायरेक्टर जगदेव सिंह के फार्म पर सुबह चार बजे एक गुलदार को देखा गया है। उधर हमले में दस दिन पहले जख्मी हुए पड्डे की मौत हो गई है। उसका पोस्टमार्टम कराया गया है।

Recommended

UP Board Results देखने के लिए आज ही 8929470909 नंबर पर मिस्ड कॉल करें और फोन पर पाएं परिणाम
UP Board 2019

UP Board Results देखने के लिए आज ही 8929470909 नंबर पर मिस्ड कॉल करें और फोन पर पाएं परिणाम

कब और कैसे मिलेगी सरकारी नौकरी ?
ज्योतिष समाधान

कब और कैसे मिलेगी सरकारी नौकरी ?

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Bareilly

खीरी पहुंचे राहुल गांधी, बोले- कांग्रेस सरकार बनी तो अलग से पेश होगा किसान बजट

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को खीरी लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी जफर अली नकवी के समर्थन में शहर के राजकीय इंटर कॉलेज के मैदान पर जनसभा को संबोधित करेंगे।

24 अप्रैल 2019

विज्ञापन

वाराणसी में पीएम का रोड शो, शुक्रवार को करेंगे नामांकन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का वाराणसी से नामांकन से पहले गुरुवार को रोड शो है। वहीं दशाश्वमेध घाट पर गंगा आरती में भी पीएम मोदी शामिल होंगे।

25 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election