सूरत बदली, नहीं बदला ‘सूरतेहाल’

Lakhimpur Updated Sun, 19 Aug 2012 12:00 PM IST
सरकार बदलने के बाद भी सरकारी महकमों की कार्यप्रणाली जस की तस
लखीमपुर खीरी। प्रदेश में सरकार बदली तो जिले के तमाम महकमों के ‘हाकिम’ भी बदल गए, पर महकमों के कार्य का ढर्रा आज तक नहीं बदला। तमाम ऐसे पीड़ित लोग हैं जो पिछली सरकार से लेकर आज तक संघर्ष कर रहे हैं, लेकिन न्याय नहीं मिल पा रहा है। तमाम ऐसे भी फरियादी हैं जिन्हें पिछली सरकार और इस सरकार की कार्यप्रणाली में कोई फर्क ही नज़र नहीं आ रहा।
0000
केस-1
दो साल से नहीं मिला चार्ज
कन्या पूर्व माध्यमिक विद्यालय छाउछ में तैनात इंचार्ज अध्यापिका जाहिदा बेगम के सेवानिवृत्त होने के बाद सदर ब्लाक के कन्या पूर्व माध्यमिक विद्यालय डिम्हौरा में तैनात सहायक अध्यापिका अंजुमआरा सिद्दीकी को यहां इंचार्ज अध्यापक के रूप में तैनात किया गया था। जाहिदा बेगम चार्ज छोड़ते समय अपना कार्यभार छाउछ में तैनात सहायक अध्यापिका गीतारानी को सौंप गईं थीं। अंजुमआरा सिद्दीकी को चार्ज देने के लिए कई बार अधिकारियों ने लिखा, लेकिन बसपा शासनकाल में अपनी मजबूत पकड़ के कारण श्रीमती सिद्दीकी को चार्ज नहीं मिल सका। इस बाबत हाईकोर्ट के भी आदेश हुए तथा एडी बेसिक ने भी श्रीमती सिद्दीकी को चार्ज देने के आदेश दिए, लेकिन चार्ज आज तक नहीं मिल सका। वर्तमान बीएसए आरके जायसवाल भी गीतारानी से श्रीमती सिद्दीकी को चार्ज देने के आदेश दे चुके हैं, लेकिन नतीजा ढाक के तीन पात ही रहा है।
000000
केस-2
लुटी, पिटी महिला को नहीं मिला न्याय
थाना पलिया के बेहनन पुरवा मजरा पलिया खुर्द निवासी साजिदा खातून पत्नी मोहम्मद हुसैन के साथ स्वतंत्रता दिवस के दिन ज्यादती हुई। महिला के मुताबिक 15 अगस्त की शाम करीब 7 बजे वह अपनी छत पर थीं कि इसी बीच गांव के ही कुछ लोग छत पर चढ़ गए। उसे मारा-पीटा तथा कथित तौर पर उसके जेवर आदि लूट लिए। घटना के समय घर में कोई पुरुष सदस्य नहीं था। महिला का कहना है कि जब उसका पुत्र रिपोर्ट लिखाने थाने पहुंचा तो पुलिस ने एनसीआर दर्ज कर टरका दिया। थाने पर नहीं सुनी गई तो महिला शनिवार को एसपी दफ्तर फरियाद लेकर पहुंची। उसका कहना है कि पूर्व की सरकार में भी आरोपी उसके और उसके परिवार के साथ ज्यादती कर चुके हैं।
00000
केस-3
गलती महकमे की जिल्लत लाभार्थी झेले
पिपरिया मूड़ा सवारान निवासी रामसागर महामाया आर्थिक मदद योजना की धनराशि पाने के लिए समाज कल्याण विभाग के महीनों से चक्कर लगा रहा है। रामसागर ने बताया कि उसकी पत्नी रामश्री के नाम पिछले साल महामाया आर्थिक मदद योजना की पहली किस्त के रूप में 2400 रुपये प्राप्त हुए थे। बाद में दूसरी लिस्ट बनी तो पत्नी का नाम लिस्ट से हटाकर रामसागर का नाम आ गया। हालांकि यह त्रुटि विभागीय है, लेकिन इसे सही कराने के लिए समाज कल्याण दफ्तर के चक्कर रामसागर को लगाने पड़ रहे हैं।
00000
केस-4
बेटी के हत्यारोपियों की गिरफ्तारी की मांग
सीतापुर जिले के थाना लहरपुर अंतर्गत आने वाले ग्राम चंदेसुवा निवासी रामबहादुर ने पुत्री कालिंदी देवी का विवाह छह मार्च 2012 को थाना धौरहरा के कंचनपुर निवासी महावीर के पुत्र पप्पू उर्फ राजकरन के यहां किया था। आरोप है कि दहेज की अतिरिक्त मांग पूरी न होने पर ससुराल पक्ष के लोगों ने कालिंदी की 14 जुलाई को हत्या कर दी। पुलिस ने रिपोर्ट तो दर्ज कर ली पर आरोपी अब तक गिरफ्तार नहीं हो सके हैं। पीड़ित पिता ने शनिवार को एसपी के यहां प्रार्थना पत्र देकर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की।
000000
वर्जन............
अधिकारियों/कर्मचारियों को शासन की मंशा के अनुरूप पारदर्शिता और ईमानदारी के साथ कार्य के निर्देश दिए गए हैं। लीक से हटकर कर कार्य करने वालों अथवा आदेश का पालन न करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
-मनीष चौहान, जिलाधिकारी

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी में नौकरियों का रास्ता खुला, अधीनस्‍थ सेवा चयन आयोग का हुआ गठन

सीएम योगी की मंजूरी के बाद सोमवार को मुख्यसचिव राजीव कुमार ने अधीनस्‍थ सेवा चयन बोर्ड का गठन कर दिया।

22 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में ‘एनकाउंटर अभियान’ के तहत एक लाख का इनामी ढेर

यूपी एसटीएफ ने एक कार्रवाई के तहत इनामी बदमाश बग्गा सिंह को ढेर किया। जानकारी के मुताबिक एसटीएफ ने कार्रवाई लखीमपुर-खीरी के पास नेपाल बॉर्डर पर की है। बात दें कि बग्गा सिंह कई मामलों में वांछित था और इसके सिर पर एक लाख रुपये का इनाम था।

18 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper