जर्जर तारों पर दौड़ रही है शहर की बिजली

Lakhimpur Updated Fri, 03 Aug 2012 12:00 PM IST
गर्मी और बरसात में दगा दे जाते है पुराने उपकरण
कई जगह बांस बल्लियों पर झूलते तारों के सहारे सप्लाई
लखीमपुर खीरी। जिले की बिजली व्यवस्था पुराने घिसे-पिटे उपकरणों और जर्जर बिजली तारों पर टिकी है। इसके चलते हर रोज शहर की बिजली व्यवस्था पटरी से उतर जाना आम बात हो गई है। क्षमता से ज्यादा लोड पड़ने पर कभी ट्रांसफार्मर दगा दे जाते हैं तो कभी पुराने और जर्जर तार टूटकर मवेशियों और लोगों की मौत के कारण बनते हैं। गर्मी और वर्षा के मौसम में तो अंधेरे में रहना यहां के लोगों की नियति बन गया है।
करीब 15 दिन पहले नई बस्ती विद्युत उपकेंद्र पर लगा एक बड़ा ट्रांसफार्मर फुंक गया। इससे तीन दिनों तक आधे शहर को बिजली किल्लत से जूझना पड़ा। एक सप्ताह पहले गढ़ी रोड विद्युत उपकेंद्र पर इनकमिंग ओसीबी ब्लास्ट हो गई जिससे करीब छह घंटे तक लोगों को उमस भरी गर्मी और अंधेरे में रहना पड़ा। इससे पहले छाउछ ट्रांसमिशन में खराबी आने से पूरे दिन लोगों को बिना बिजली के रहना पड़ा।
हाल ही में महिला अस्पताल के गेट पर हाईटेंशन बिजली का तार टूट कर गिर गया। इसकी चपेट में आकर पत्नी का प्रसव कराने हरगांव से आए एक युवक का पैर बुरी तरह झुलस गया। इससे पहले शहर के दो अलग-अलग हिस्सों में टूटे बिजली के तारों की चपेट में आकर दो घोड़ों की मौत हो गई। इसके अलावा भी कई मवेशी जर्जर तारों के टूटने से मर चुके हैं।
0000
यहां तो बांस बल्लियों पर टिकी है बिजली व्यवस्था
शहर के मोहल्ला हिदायत नगर, प्यारेपुर, गंगोत्रीनगर, शिवकॉलोनी, दुर्बल आश्रम, निर्मल नगर, राजापुरम के मिश्रापुरम, अर्जुनपुरवा आदि मोहल्लों में अब तक बांस बल्लियों पर ही बिजली व्यवस्था टिकी हुई है। यहां बांस-बल्लियों को कम गहराई में लगाकर उन पर तार खींच दिए गए हैं। थोड़ी से तेज हवा चलने पर ही यह बांस बल्लियां उखड़कर तार सहित नीचे आ गिरती हैं। अगर लाइन चालू हालत में हो तो कभी भी हादसा हो सकता है।
0000
विद्युत उपकेंद्रों पर हैं पुराने और जर्जर उपकरण
गढ़ी रोड विद्युत उपकेंद्र से दशकों पहले लगे बिजली उपकरणों के सहारे आधे शहर को बिजली आपूर्ति की जा रही है। यहां पुरानी मशीनें बदली जानी हैं। नई बस्ती विद्युत उपकेंद्र्र पर और जगहों की अपेक्षा मशीनें ठीक हैं लेकिन छाउछ ट्रांसमिशन की मशीनें जर्जर हालत में हैं। आधे से ज्यादा शहर में पुराने तार झूल रहे हैं।
00000
कई ट्रांसफार्मरों पर है क्षमता से ज्यादा लोड
शहर के अधिकतर ट्रांसफार्मरों पर क्षमता से ज्यादा लोड है। मेला मैदान, नौरंगाबाद, प्यारेपुर, महराजनगर, निघासन रोड के दुर्बल आश्रम के निकट लगे ट्रासफार्मरों पर क्षमता से ज्यादा लोड है। इसके कारण इन इलाकों में ट्रांसफार्मर फुंकने की घटनाएं आए दिन होती रहती हैं और लोगों को कई-कई दिनों तक परेशानी झेलनी पड़ती है। 000000
पिछले दो साल के अंदर बिजली ले चुकी कई जानें
दो साल पहले सिंगाही कस्बे में भवन निर्माण के दौरान बिजली लाइन की चपेट में आ जाने से दस मजदूरों की एक साथ मौत हो गई थी। इस घटना के कुछ ही दिन बाद बिजुआ क्षेत्र में सुबह खाना बनाते समय बिजली का तार टूटने से उसकी चपेट में आकर एक ही परिवार की दो महिलाओं की मौत हो गई। इसी क्षेत्र में उसी माह एक युवक की बिजली के जर्जर तारों की चपेट में आकर मौत हो गई। इसके अलावा भी बिजली के पुराने तार कई लोगों की जान ले चुके हैं।
0000
जर्जर मशीनों और तारों को बदलने का क्रम जारी
विद्युत उपकेंद्रों के पुराने और जर्जर तारों को बदलने का काम शुरू हो गया है। गढ़ी रोड विद्युत उपकेंद्र की पुरानी मशीनें जल्दी बदली जाएंगी। साथ ही पुराने और जर्जर तारों को बदलने का काम क्रमवार शुरू हो गया है। जल्दी ही पुराने तारों और जर्जर उपकरणों को बदल कर बिजली व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त किया जाएगा।
-अजय कपूर
-अधिशासी अभियंता विद्युत वितरण खंड, प्रथम

Spotlight

Most Read

Lucknow

राहुल गांधी के काफिले का विरोध करने पर बवाल, भाजपाइयों को कांग्रेसियों ने पीटा

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का विरोध जताने पहुंचे भाजपाइयों की कांग्रेसियों से भिड़ंत हो गई। जिसमें कांग्रेसियों ने भाजपाइयों की पिटाई कर दी।

15 जनवरी 2018

Related Videos

लखीमपुर-खीरी में दिव्यांग को गोली मारी, हत्या की वजह साफ नहीं

लखीमपुर-खीरी में एक परिवार पर उस वक्त कोहराम मच गया जब परिवार के मुखिया के मौत की खबर आई। मामला बसतौली गांव का है जहां एक गुलाम हुसैन की गोली मारकर हत्या कर दी गई। पुलिस ने तहरीर के बाद चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

25 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper