नदियां-तालाब खुद तरस रहे पानी को

Lakhimpur Updated Wed, 16 May 2012 12:00 PM IST
पुराने तालाबों को ही बना दिया गया आदर्श तालाब
जंगली जानवर पानी के लिए आ रहे आबादी में
लखीमपुर खीरी। सूरज धरती पर आग बरसा रहा है। कड़ी धूप और भीषण गर्मी से तालाब और पोखर ही नहीं सूखे, नदियां भी सूख चुकी हैं। हालात यह हैं कि पशु-पक्षियों के लिए पानी का संकट पैदा हो गया है। प्यास से बेहाल पशु-पक्षी दम तोड़ रहे हैं। डीएम के आदेश के बावजूद अभी तक किसी भी तालाब में पानी नहीं भरवाया गया है। और तो और गांवों में मनरेगा के तहत खोदे गए आदर्श तालाब भी पानी के बिन प्यासे नजर आ रहे हैं।
बैसाख माह की गर्मी पशु-पक्षियों पर भारी पड़ रही है। उन्हें पीने के लिए पानी तक नही मिल रहा है। गर्मी के कारण तमाम तालाब और पोखर सूख चुके हैं। यहां तक कि छोटी नदियां भी प्यासी हैं। उनका पानी भी सूख चुका है। अब गांवों में पशु-पक्षियों के लिए प्याऊ बनाने की परंपरा भी खत्म हो गई है। हालात यह हैं कि पशु पानी के अभाव में मौत के मुंह में समा रहे हैं। पक्षियों तक को पानी मिलना मुश्किल हो रहा है।
हालात यह हैं कि जंगल के तालाब भी सूख गए हैं। और तो और दुधवा नेशनल पार्क की लाइफ लाइन कही जाने वाली सुहेली नदी भी सूख चुकी है। हालात यह हैं कि जंगली जानवरों को पानी की तलाश में जंगल से बाहर आबादी में आना पड़ रहा है। इससे उनका जीवन खतरे में पड़ रहा है।
राजस्व रिकार्ड के मुताबिक 15 साल पहले तक जिले में करीब 4600 तालाब थे। इनकी संख्या घटकर अब 2400 के आसपास रह गई है। लोगों ने तालाब पाट कर घर बना लिए। जो तालाब बचे भी हैं उनपर भूमाफिया की नजर है। अगर अतिक्रमण की यही रफ्तार रही तो आने वाले कुछ वर्षों में यह तालाब भी गांवों के नक्शे से गायब हो जाएंगे। इनके साथ ही गायब हो जाएगी गांवों की हरियाली भी।
गांवों से गायब होते तालाबों को बचाने और बरसाती पानी को संचित कर वाटर रिचार्ज सिस्टम को बनाए रखने के लिए शासन ने प्रत्येक ग्राम पंचायत में आदर्श तालाब योजना शुरू की थी। मनरेगा के तहत तालाब खुदवाने के पीछे मकसद यह था कि मनरेगा मजदूरों को काम मिले और पशु-पक्षियों को पूरे साल पानी भी उपलब्ध रहे। हुआ यह कि गांवों में जो तालाब बचे थे उन्हीं तालाबों को पंचायतों ने गहरा करा कर आदर्श तालाब का रूप दे दिया। नए तालाब बहुत कम खोदे गए।
00000
मकसद हल नहीं हुआ आदर्श तालाबों से
जिले की 995 ग्राम पंचायतों में अब तक कुल 1164 आदर्श तालाब बनाए जा चुके हैं। 286 तालाब अभी निर्माणाधीन हैं। यह आदर्श तालाब न तो प्यासे जानवरों को पानी देने में कामयाब हुए न ही वाटर रिचार्ज सिस्टम को ही बनाए रख सके। तालाबों के किनारे ऊंचे कर दिए जाने से इन तालाबों में बरसाती पानी इकट्ठा नही हो पाता। इससे न तो जानवरों को साल भर पानी मिल पाता है न ही वाटर रिचार्ज होता है। इन तालाबों को खुद की प्यास बुझाना मुश्किल है, पशुओं की क्या प्यास बुझाएंगे।
00000
ग्रामीणों के लिए पर्यटन स्थल भी नही बन सके
आदर्श तालाब के चारों और रेलिंग बनाकर उसमे खूबसूरत फूलों के पौधे लगाकर ग्रामीणों के लिए मनोरम स्थल का निर्माण करना भी था, लेकिन बहुत कम ही ऐसे तालाब है जिन्हें मानक के अनुसार विकसित किया गया है। इन तालाबों में केवल बरसात के मौसम में ही पानी दिखाई देता है। बाकी दिन सूखे ही रहते हैं। ऐसे में तालाबों के इर्द-गिर्द खूबसूरत वातावरण मिल पाने की कल्पना भी नहीं की जा सकती।
000000
तालाब भरवाने के निर्देश दिए जा चुके हैं
भीषण गर्मी के चलते तालाब और नदियों के सूखने की सूचना मिली है। सभी पंचायतों को सूखे तालाब भरवाने के निर्देश दिए जा चुके हैं। कुछ गांवों में तालाब भरवा दिए गए है। जल्दी ही और तालाबों में पानी भरवा दिया जाएगा ताकि पशु पक्षियों के लिए पानी की समस्या न हो।
-अभिषेक प्रकाश, डीएम खीरी

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में ‘एनकाउंटर अभियान’ के तहत एक लाख का इनामी ढेर

यूपी एसटीएफ ने एक कार्रवाई के तहत इनामी बदमाश बग्गा सिंह को ढेर किया। जानकारी के मुताबिक एसटीएफ ने कार्रवाई लखीमपुर-खीरी के पास नेपाल बॉर्डर पर की है। बात दें कि बग्गा सिंह कई मामलों में वांछित था और इसके सिर पर एक लाख रुपये का इनाम था।

18 जनवरी 2018