विज्ञापन
विज्ञापन

सूदखोरों के फेर में फंसा पीडीएस का अन्न

Lakhimpur Updated Wed, 02 May 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
उठान में रकम लेकर कोटेदार खाद्यान्न से करते हैं चुकता
विज्ञापन
विज्ञापन
वितरण में कटौती से गरीबों को भुगतना पड़ता है खामियाजा
महबूब आलम
पलियाकलां। खाद्यान्न घोटाले के लिए चर्चित रहे जिलाें में एक बार फिर व्यवस्था पर सवालिया निशान लग गए हैं। खाद्यान्न के कालाबाजारी अब सूदखोरों की शक्ल में अप्रत्यक्ष रुप से गरीबों का निवाला डकारने में जुटे हुए हैं और इनके रसूख माहवार के चलते प्रशासनिक अमला चुप्पी साधे बैठा हुआ हैं।
वैसे तो यह हालात पूरे जिले में हैं, लेकिन पलिया तहसील की बात कुछ अलग ही हैं। सूदखोरों की शक्ल लिए हुए इन खाद्यान्न माफियाओं ने बाकायदा मंडी परिसर पर कब्जा जमा लिया है और किसी न किसी धंधे की आड़ में वह काले कारनामे को अंजाम दे रहे हैं। इनका असली खेल मासिक उठान के समय शुरू होता है। कोटे का खाद्यान्न उठाने के दौरान यह सूदखोर आर्थिक रुप से कमजोर कोटेदारों को अपने जाल में फांसते हैं। जाल में फंसने के बाद वह कोटेदारों को कर्ज की रकम मुहैया कराते हैं, जिसे कोटेदार सरकारी खाते में जमा कर खाद्यान्न उठाते हैं। खाद्यान्न उठते ही सूदखोर खाद्यान्न माफियाओं की बंदिश कोटेदारों पर शुरू हो जाती है और वह पहले ही सूद समेत अपनी रकम लेने के लिए जुट जाते हैं। रकम में वह कोटेदारों से खाद्यान्न की मांग करते है। कभी कभी कोटेदार वितरण के बाद खाद्यान्न देने की बात कहता है तो सूदखोरों के कारिंदे कोटेदार के यहां बैठकर अपनी निगरानी में वितरण कराते हैं और फिर खाद्यान्न वहां से अपने कब्जे में लेकर निकल आते हैं। सूद खोरों की रकम अदा करने के लिए कोटेदार गरीबों के निवाले में भारी हेराफेरी करते हैं। क्षेत्र की गरीब जनता को हर महीने इससे दो चार होना पड़ता है और सब कुछ जानने के बाद भी प्रशासनिक अधिकारी चुप्पी साधे बैठे हैं। सूत्रों की माने तो विभागीय समेत प्रशासनिक अधिकारियों को सूदखोर माहवार देते हैं जिसके एवज में चुप्पी बरकरार रहती है।
0000
गोदाम के आसपास रहता है इन का डेरा
सूदखोर गोदाम के पास ही अपना डेरा जमाए रहते हैं। रसूख की बदौलत सूदखोर वहां अधिकारियों की तरह ही नजर आते हैं।
0000
शहर और सटे गांवों में हैं भंडार
सूद में वसूला गया खाद्यान्न शहर और सटे हुए गांवों में लिए गए गोदामों में लगाया जाता हैं। सभी जगह का खाद्यान्न एकत्र होने के बाद इसे बाजार में पहुंचा दिया जाता है।
0000
क्रय केंद्रों पर भी बेंचा जाता है सूदखोरी का गेहूं
सूदखोर कोटेदारों से वसूले गए गेहूं को क्रय केंद्रों पर भी बेंचते हैं। पीडीएस के गेहूं को फर्जी तौर से किसानों का बनाकर क्रय केंद्र पर बिक्री किया जाता है। इसमें उन्हें अच्छी कीमत मिलती है। कुछ सूदखोर संस्थाओं के गेहूं क्रय केंद्रों का संचालन भी कर रहे हैं।
0000
वर्जन
मामला संज्ञान में नहीं हैं। जांच की जाएगी। ऐसा पाया गया तो सख्त कार्रवाई होगी।
-मनोज कुमार पांडे, एसडीएम पलिया

Recommended

HP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
HP Board 2019

HP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019
ज्योतिष समाधान

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Bareilly

आज पांच चुनावी सभाएं संबोधित करेंगे मुख्यमंत्री योगी, निघासन में भी होगी जनसभा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को निघासन कस्बे के प्लाईवुड फैक्टरी मैदान में चुनावी जनसभा को संबोधित करेंगे।

21 अप्रैल 2019

विज्ञापन

रविवार तड़के आई दर्दनाक खबर, हादसे ने ली 7 लोगों की जान

आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे पर 7 लोगों ने अपनी जान गंवा दी। घटना रविवार तड़के हुई। यहां एक यात्री बस ट्रक से टकरा गई। घटना में सात लोगों की मौत हो गई। 25 लोग बुरी तरह जख्मी बताए जा रहे हैं।

21 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election