विज्ञापन
विज्ञापन

सड़क की जमीन में बनवाया गया घर प्रशासन ने तोड़वाया

Gorakhpur Bureauगोरखपुर ब्यूरो Updated Sun, 26 May 2019 11:11 PM IST
ख़बर सुनें
हाईकोर्ट के आदेश पर प्रशासन ने हटवाया कब्जा
विज्ञापन
विज्ञापन
विरोध के बावजूद प्रशासन ने जेसीबी से तोड़ा पक्का मकान
अमर उजाला ब्यूरो
तमकुहीरोड। तरयासुजान क्षेत्र के गोसाईपट्टी में हाईकोर्ट के निर्देश पर तहसील प्रशासन ने सड़क पर बने पक्के मकान को जेसीबी से तोड़वा दिया। प्रशासन की ओर से जारी नोटिस के बावजूद भवन स्वामी निर्माण और अतिक्रमण नहीं हटाया। प्रशासन ने फोर्स के साथ गांव में पहुंच कर उस अवैध निर्माण को तोड़वा दिया।
तरयासुजान क्षेत्र के गोसाईपट्टी गांव में बाबूलाल पुत्र यमुना ने गांव की सड़क पर पक्का मकान का निर्माण करा लिया था। इससे गांव के ही नरेश पुत्र जग्गू का खेत में जाने का रास्ता अवरुद्ध हो गया था। इससे गांव वाले भी परेशान थे और उन्हें अपने खेत व घरों तक पहुंचने के लिए लंबी दूरी तय करनी पड़ती थी। नरेश की ओर से अवैध निर्माण को ढहाने और सड़क से अतिक्रमण को हटाये जाने को लेकर तहसील से लगायत जिले के उच्च अधिकारियों से गुहार लगाई गई थी। प्रशासन की तरफ से कोई ठोस कार्रवाई नहीं होने के बाद उन्होंने हाईकोर्ट में पीआईएल दाखिल की थी। हाईकोर्ट ने अवैध कब्जा हटवाने का आदेश दिया था। उसी के क्रम में रविवार को राजस्व निरीक्षक रामकवल सिंह, हल्का लेखपाल धर्मेंद्र प्रजापति, जयंत गुप्ता, अश्वनी राय व अन्य राजस्व कर्मी, महिला पुलिस समेत मौके पर पहुंच गए। कुछ लोगो के विरोध के बावजूद पुलिस और राजस्वकर्मियों के सहयोग से अवैध मकान से पहले सारा सामान हटवा दिया और बाद में जेसीबी से पक्का मकान के साथ अनाज रखने वाले दो बखार को भी तोड़वा कर रास्ता साफ करा दिया।
ग्रामसभा के गड्ढ़े की जमीन में निर्माण को ग्रामीणों ने रोका
टेकुआटार। कसया तहसील क्षेत्र के गांव अहिरौली राजा में रविवार के दिन ग्राम सभा की गड्ढे की जमीन में हो रहे निर्माण कार्य को गांववालों ने रोक दिया। इस जमीन में मिट्टी डालकर पाटने के बाद निर्माण कराया जा रहा था। विरोध कर रहे लोगों का कहना था कि निर्माण होने से आधे गांव की जलनिकासी व्यवस्था ठप हो जाती।
ग्राम सभा में गड्ढे की जमीन है, जिसमें पूरे ग्राम सभा के लोगों का पानी जाकर गिरता है। उसी गड्ढ़े की जमीन में एक व्यक्ति मिट्टी डालकर पक्का निर्माण करा रहा था। सूचना पर ग्राम प्रधान अजय जायसवाल, अनंत गोंड, छट्ठू गुप्ता, दिनेश अग्रवाल, शंभू, सुरेश, प्रदीप, रमेश, सुरेश, मोहन, रामप्रवेश, कपूरचंद, आशीष, ओमप्रकाश, सोहन, गोलू, रामवृक्ष गुप्ता आदि ने पहुंचकर निर्माण कार्य को रोक दिया। ग्रामीणों का यह कहना था कि उस गड्ढ़े में गांव के आधे लोगों की नाली का पानी जमा होता है। इसको लेकर लगभग चार साल पहले भी ग्रामीणों ने पंद्रह दिनों तक धरना प्रदर्शन से लेकर भूख हड़ताल तक किया था। उसके बाद कसया के तत्कालीन तहसीलदार ने मौके पर आकर तत्काल अवैध कब्जे को हटवाने का आश्वासन देकर भूख हड़ताल समाप्त कराया था। हालांकि उसके बाद कोई कार्रवाई नहीं हुई।

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

क्या आपकी नौकरी की तलाश ख़त्म नहीं हो रही? प्रसिद्ध करियर विशेषज्ञ से पाएं समाधान।
Astrology

क्या आपकी नौकरी की तलाश ख़त्म नहीं हो रही? प्रसिद्ध करियर विशेषज्ञ से पाएं समाधान।

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Kushinagar

नर्तकी से छेड़छाड़ करते सिपाही को भीड़ ने पीटा

भीड़ से छुड़ा कर कांस्टेबल चालक को साथ ले गई पुलिस, एसपी ने किया निलंबित, सीओ को सौंपी मामले की जांच।

19 जून 2019

विज्ञापन

हिंदी सिनेमा में दहशत फैलाकर वसूली करने वालों का आतंक, निर्देशक और सिनेमैटोग्राफर पर जानलेवा हमला

फिल्म इंडस्ट्री को दहशत में रखकर उगाही करने वाले गिरोह ने बुधवार को मशहूर निर्देशक सोहम शाह और अभिनेत्री माही गिल के साथ पड़ोसी जिले ठाणे की एक लोकेशन पर जमकर हाथापाई और मारपीट की

19 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election