जिला पंचायत बोर्ड की बैठक में हंगामा

Kushinagar Updated Sat, 25 Jan 2014 05:45 AM IST
पडरौना। जिला पंचायत बोर्ड की बैठक में शुक्रवार को जमकर हंगामा हुआ। एक जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि ने अपर मुख्य अधिकारी की तरफ न केवल माइक और नाश्ते का प्लेट फेंका, बल्कि उन्हें थप्पड़ मारने की कोशिश भी की। बढ़ते हंगामे को देखकर जिला पंचायत अध्यक्ष ने बैठक स्थगित कर दिया। अपर मुख्य अधिकारी ने जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि के विरुद्ध पडरौना कोतवाली में तहरीर दी। पुलिस ने इस सिलसिले में आरोपी जिला पंचायत सदस्य के विरुद्ध सरकारी काम में बाधा पहुंचाने और गाली-गलौज का मुकदमा दर्ज कर लिया है।
शुक्रवार को दिन के लगभग 11 बजे से जिला पंचायत के सभागार में बोर्ड की बैठक आहूत की गई थी। जिला पंचायत अध्यक्ष सावित्री जायसवाल की अध्यक्षता में बैठक शुरू हुई। शुरुआत पुराने बजट से हुई। कार्यसूची के समस्त बिंदुओं पर चर्चा के बाद अनुमोदित कर दिया गया। इसके बाद विभागवार समीक्षा शुरू हुई। पंचायत प्रतिनिधियों ने पहले स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से अपनी बात कहनी चाही लेकिन सीएमओ बैठक में मौजूद नहीं थे। फिर शिक्षा विभाग की बात शुरू हुई लेकिन बीएसए भी गैर हाजिर थे।
बताया जाता है कि जिला पंचायत सदस्य किरन यादव की जगह बैठक में पहुंचे उनके पति गोरख यादव ने अपर मुख्य अधिकारी का ध्यान कई बार अपनी ओर आकृष्ट कराने का प्रयास किया लेकिन उनके ध्यान न देने पर वे नाराज हो गए और पहले माइक निकालकर अपर मुख्य अधिकारी की ओर फेंका। फिर नाश्ते का प्लेट भी उनकी ओर फेंक दिया। खुद अपर मुख्य अधिकारी ने भी प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि ने हाथ उठाकर उन्हें मारने की कोशिश की। इसके बाद सभागार में हो-हल्ला शुरू हो गया। यह देखकर जिला पंचायत अध्यक्ष ने बैठक स्थगित कर दी।
अपर मुख्य अधिकारी कैलाशनाथ खरवार ने खुद वादी बनकर पडरौना कोतवाली में जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि गोरख यादव के विरुद्ध तहरीर दी। उनकी तहरीर के आधार पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है।
इनसेट
नहीं होता नियम का पालन
पडरौना। वैसे तो जिला पंचायत बोर्ड की बैठक में निर्वाचित प्रतिनिधियों को ही बैठने का नियम है। लेकिन इसका पालन नहीं होता। शुक्रवार को बैठक में हंगामे की एक वजह यह भी रही। खुद जिला पंचायत अध्यक्ष सावित्री जायसवाल ने यह बात स्वीकार की कि बोर्ड की बैठक में निर्वाचित प्रतिनिधियों को ही बैठने का नियम है। लेकिन पहले से ही निर्वाचित प्रतिनिधियों के प्रतिनिधि भी बैठते रहे हैं। इस बैठक में भी कई पंचायत प्रतिनिधियों के प्रतिनिधि मौजूद थे। खुद गोरख यादव भी जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि की हैसियत से पहुंचे थे। जहां तक अधिकारियों की बात है तो बैठक में सीएमओ और बीएसए की जगह उनके प्रतिनिधियों के पहुुंचने की बात कही जा रही है। इसी को लेकर बात भी बिगड़ी थी।
कोट,
बैठक के दौरान जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि गोरख यादव ने अपर मुख्य अधिकारी से सामने देखने को कहा। वे पीछे देख रहे थे। ध्यान नहीं देने पर नाराज होकर उन्होंने अपर मुख्य अधिकारी पर माइक और नाश्ते का प्लेट फेंका। इसके बाद कहासुनी हुई।
-सावित्री जायसवाल,
अध्यक्ष जिला पंचायत कुशीनगर।

बैठक में जिला पंचायत सदस्य किरन यादव के पति गोरख यादव अनाधिकृत रूप से सदन में बैठे थे। वे सामने रखे नाश्ते को अध्यक्ष के ऊपर फेंक दिया और माइक से मारने की कोशिश भी की। मेरे साथ भी गाली-गलौज और मारने की कोशिश की।
- कैलाशनाथ खरवार
अपर मुख्य अधिकारी, जिला पंचायत।

अपर मुख्य अधिकारी की तहरीर के आधार पर गोरख यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। सरकारी काम में बाधा पहुंचाने और गाली-गलौज करने का मुकदमा दर्ज किया गया है। जांच की प्रक्रिया शुरू हो गई है।
डीपी सिंह, कोतवाल।

Spotlight

Most Read

Ballia

अभाविप ने फूंका केरल सरकार का पुतला

कार्यकर्ता की हत्‍या के विरोध में फूटा गुस्सा

21 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी का रिश्वतखोर लेखपाल कैमरे में कैद

ये वीडियो एक लेखपाल का है जो किसान से उसकी एक रिपोर्ट के लिए पांच हजार रुपये की मांग कर रहा है। वीडियो कुशीनगर की खड्डा तहसील का बताया जा रहा है।

7 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper