बाटलिंग प्लांट के लिए देंगे जमीन

Kushinagar Updated Tue, 16 Oct 2012 12:00 PM IST
कसया। बाटलिंग प्लांट लगाने के लिए डिघवां बुजुर्ग के किसान अपनी जमीन देने को तैयार हैं। बाड़ीपुल चौराहे के पास नेशनल हाइवे 28 बी से लगी यह जमीन सेमरा धूसी ग्राम सभा में स्थित है। पिछले दिनों यहां प्लांट लगाने के लिए अफसरों की एक टीम मौका मुआयना भी कर चुकी है।
उल्लेखनीय है कि जब से कुशीनगर के सांसद आरपीएन सिंह केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस राज्यमंत्री बने हैं तबसे इस जिले में बाटलिंग प्लांट को लेकर काफी उत्सुकता है। मंत्री स्वयं कई बार इस बात की घोषणा कर चुके हैं कि उनके जनपद में बाटलिंग प्लांट अवश्य लगेगा। जमीन को लेकर मामला उलझा हुआ है। पहली बार जब यहां बाटलिंग प्लांट लगाने की सुगबुगाहट शुरू हुई थी तो कसया हवाईपट्टी से सटी जमीन को इसके लिए अधिग्रहीत करने का मामला उछला था। हाइवे की सुविधा को देखते हुए सभी को उम्मीद है कि बाटलिंग प्लांट कसया में ही लगेगा। एक साल से जमीन की जद्दोजहद में ही यह मामला उलझा हुआ है। पिछले दिनों अचानक खबर आयी कि यह बाटलिंग प्लांट तमकुहीराज विधानसभा क्षेत्र में लग सकता है। इसके बाद कसया के लोग मायूस हो उठे। बाटलिंग प्लांट को लेकर लोगों की बेचैनी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि डिघवां बुजुर्ग के लोगों ने खुद ही आगे बढ़कर इस बात की घोषणा की है कि प्लांट लगाने के लिए आवश्यक जमीन वे लोग हाइवे के किनारे देने को तैयार हैं। गांव के पूर्व प्रधान विजय तिवारी की मानें तो बाड़ीपुल के पास हाइवे के किनारे उन लोगों का 15 एकड़ से ज्यादे खेत है। जमीन समतल और काफी उपजाऊ है लेकिन बाटलिंग प्लांट के लिए वे लोग इसे देने को तैयार हैं। पूर्व प्रधान के मुताबिक पिछले दिनों जब इसका सर्वे करने के लिए भारत सरकार के अफसर आए थे तो हम लोगों ने स्पष्ट कर दिया था कि जरूरी 10 एकड़ के बाद और भी जमीन वे लोग दे सकते हैं लेकिन प्लांट यहीं लगवाया जाए।

ये लोग तैयार हैं जमीन देने को
कसया। जो काश्तकार अपनी जमीन देने के लिए तैयार हैं उनमें पूर्व प्रधान विजय तिवारी दो एकड़, रवींद्र तिवारी एक बीघा, रमेश तिवारी एक बीघा, महेंद्र मणि दो एकड़, लालजी तिवारी एक बीघा, सुरेश तिवारी एक एकड़, सीताराम तिवारी एक बीघा, नथुनी तिवारी एक बीघा। पूर्व प्रधान के अनुसार आवश्यकता पड़ने पर जयप्रकाश, वशिष्ठ, चंद्रदेव आदि भी अपनी जमीन देने के लिए तैयार हैं।
विकास के लिए देंगे कुर्बानी
कसया। खेती के लगातार घटते क्षेत्रफल को देखते हुए देश भर में किसान जमीन अधिग्रहीत करने का विरोध कर रहे हैं लेकिन डिघवां बुजुर्ग के लोग अपनी जमीन सहर्ष देने को तैयार हैं। वजह यह नहीं कि किसानों को पैसे की ललक है बल्कि वे विकास में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करना चाहते हैं।
पूर्व प्रधान विजय तिवारी कहते हैं कि जब जमीन उपलब्ध होगी तभी कोई कल-कारखाना लगेगा। जमीन किसान के पास ही है। कुछ पाने के लिए कुछ तो खोना ही पड़ेगा।
सुरेश तिवारी का कहना है कि कोई भी किसान अपनी जमीन नहीं देना चाहता, लेकिन आज की तारीख में केवल अनाज से ही काम नहीं चलेगा। विकास के लिए कुछ अन्य संसाधन भी चाहिए। इसके लिए उन किसानों को तो कुछ कुर्बानी देनी ही पड़ेगी जिनके पास पर्याप्त मात्रा में जमीन है।
शैलेष तिवारी और सीताराम तिवारी भी इनकी बातों से इत्तेफाक रखते हैं। दोनों का कहना है कि जमीन हम केवल इसलिए देने को तैयार हुए हैं कि अगर बाटलिंग प्लांट लगेगा तो इस जिले के लोगों को रसोई गैस की किल्लत से मुक्ति मिल जाएगी।
वशिष्ठ तिवारी का भी मानना है कि रोजगार और विकास चाहिए तो कुछ न कुछ कुर्बानी देनी ही पड़ेगी।
जमीन मिलतेे ही शुरू होगा काम
कसया। बाटलिंग प्लांट कहां लगेगा? इस सवाल पर केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह के हवाले से कांग्रेस के जिला मीडिया प्रभारी शमसेर मल्ल दो टूक शब्दों में कहते हैं कि जहां जमीन सुविधाजनक होगी, उसे ही कंपनी के अफसर फाइनल करेंगे। जमीन का चयन होते ही काम शुरू हो जाएगा। उनके मुताबिक कुशीनगर जनपद में तीन जगह का प्रस्ताव है। इसमें से दो कसया और एक तमकुहीराज क्षेत्र में है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

शिवपाल के जन्मदिन पर अखिलेश ने उन्हें इस अंदाज में दी बधाई, जानें- क्या बोले

शिवपाल यादव ने अपने समर्थकों संग लखनऊ स्थित आवास पर जन्मदिन मनाया। अखिलेश यादव ने उन्हें मीडिया के माध्यम से बधाई दी।

22 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी का रिश्वतखोर लेखपाल कैमरे में कैद

ये वीडियो एक लेखपाल का है जो किसान से उसकी एक रिपोर्ट के लिए पांच हजार रुपये की मांग कर रहा है। वीडियो कुशीनगर की खड्डा तहसील का बताया जा रहा है।

7 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper