इंसेफेलाइटिस से दो घरों के चिराग बुझे

Kushinagar Updated Sun, 07 Oct 2012 12:00 PM IST
बड़हरागंज/टेकुआटार। मस्तिष्क ज्वर ने बड़हरागंज और टेकुआटार, बड़हरिया के एक-एक घर का चिराग बुझा दिया। इन मासूमों की मौत से दोनों गांवों में कोहराम मचा हुआ है। बड़हरागंज में चार बच्चे और तेज बुखार से पीड़ित हैं।
बड़हरागंज के रहने वाले वसी अहमद के घर में पांच बेटियाें के बाद ढाई साल पहले आरजू का जन्म हुआ था। बुधवार को आरजू तेज बुखार की चपेट में आ गया। उसे एक प्राइवेट नर्सिंगहोम में भर्ती कराया गया। सुधार न होने पर डाक्टर ने उसे मस्तिष्क ज्वर होने की बात कहकर गोरखपुर रेफर कर दिया। गोरखपुर के एक प्राइवेट नर्सिंगहोम में इलाज के दौरान शनिवार को उसकी मौत हो गई। इकलौते बच्चे की मौत से घर में मातम छा गया है। इसी गांव के गोविंद गुप्ता का पुत्र कृष (5) और सुक्खल गोंड के तीन बच्चे भोला, टुनटुन, सोनू तेज बुखार से जूझ रहे हैं। यह भी बता दें कि बगल के ही दांदोपुर गांव की पीएचसी तथा एएनएम को इस बात की जानकारी नहीं है।
उधर, टेकुआटार टोला बड़हरियां के रहने वाले छठ्ठू कुशवाहा के इकलौते पुत्र ओमप्रकाश (10) की तबीयत कई दिनाें से खराब चल रही थी। गुरुवार को घर वाले उसे जिला अस्पताल ले गए। डाक्टराें ने उसे मेडिकल कालेज रेफर कर दिया। वहां इलाज के दौरान शुक्रवार की रात उसकी मौत हो गई। घर वालों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया है। गांव वालों का आरोप है कि गांव के बीच में ही बना सुअरबाड़ा इस तरह की बीमारियाें का कारण है। इसकी शिकायत वे लोग कई बार उच्चाधिकारियों से कर चुके हैं, लेकिन कोई ध्यान नहीं दे रहा है। इस बाबत सीएमओ डा. एसके गुप्ता का कहना है कि उस बस्ती में दवा के छिड़काव के आदेश दे दिए गए हैं।
गांव में गंदगी का अंबार
बड़हरागंज। तकरीबन दस हजार की आबादी वाले बड़हरागंज गांव में तीन सफाईकर्मी नियुक्त किए गए थे। दो सफाईकर्मी अपना तबादला कराकर चले गए। तीसरे सफाईकर्मी की किसी को झलक नहीं मिली। नतीजतन गांव में गंदगी का अंबार लगा है। गांव के लोगों के अनुसार सफाई न होने से जगह-जगह गंदगी पसरी रहती है। सड़कें , नालियां तथा सार्वजनिक स्थलों पर कूड़े-कचरे के ढेर लगे रहते हैं। गांव में छिड़काव भी नहीं कराया गया है। इस वजह से मच्छर ज्यादा लगते हैं। इस संबंध में ग्राम प्रधान प्रतिनिधि तारिक अंसारी का कहना है कि डीपीआरओ से लेकर डीएम तक शिकायती पत्र दिया गया। सफाईकर्मियों की व्यवस्था करने की मांग की गई लेकिन समस्या जस की तस है।

Spotlight

Most Read

Pratapgarh

अभी तक एक भी अपात्र से नहीं हुई रिकवरी

अभी तक एक भी अपात्र से नहीं हुई रिकवरी

20 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी का रिश्वतखोर लेखपाल कैमरे में कैद

ये वीडियो एक लेखपाल का है जो किसान से उसकी एक रिपोर्ट के लिए पांच हजार रुपये की मांग कर रहा है। वीडियो कुशीनगर की खड्डा तहसील का बताया जा रहा है।

7 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper