लाशें मिलने की नहीं हो रही तहकीकात

Kushinagar Updated Sat, 29 Sep 2012 12:00 PM IST
छितौनी। गोरखपुर-नरकटियागंज रेल खंड पर पनियहवा स्टेशन के आसपास लाशों के मिलने का सिलसिला थम नहीं रहा है। अधिकतर लाशों को देखकर लगता है कि वारदात कहीं और अंजाम देने के बाद लाशों को ठिकाने लगाने के लिए यहां फेंका गया होगा। परंतु जीआरपी और स्थानीय पुलिस केवल इन लाशों का पीएम कराकर कागजी कोरम पूरा कर देती है। इसके बाद की पड़ताल में तेजी नहीं दिखाई जाती।
इस साल 12 जनवरी को पनियहवा पुलिस सहायता केंद्र व पुल के बीच रेलवे ट्रैक पर एक युवक की लाश मिली। बाद में इसकी शिनाख्त महराजगंज जिले के चोखराज इंटर कालेज में पढ़ने वाले छात्र के रूप में हुई, लेकिन लाश रेलवे ट्रैक पर कैसे आई, इसका खुलासा नहीं हुआ। 11 मार्च को पनियहवा रेलवे स्टेशन व पुलिस सहायता केंद्र के बीच एक विवाहिता की लाश मिली। अर्द्धनग्न हालत में मिली इस लाश का पीएम तो हुआ, लेकिन वह कौन थी? और लाश वहां कैसे आई, इसकी जानकारी नहीं हुई। 17 मार्च को फिर उसी जगह एक विवाहिता का शव मिला। लोगों ने इसके विरोध में रेलवे ट्रैक जाम किया और दिन भर आंदोलन चला, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला।
जून के अंतिम सप्ताह में हनुमानगंज थाने से करीब एक किमी पश्चिम तरफ फिर रेलवे ट्रैक पर एक अज्ञात लाश मिली। 26 अगस्त को पनियहवा रेलवे स्टेशन से पूरब रेलवे कालोनी के तिराहे के पास एक महिला की लाश मिली। एक सितंबर की सुबह पनियहवा रेलवे स्टेशन के पूरब सिगनल के समीप रेलवे ट्रैक के नीचे एक लाश मिली। इसकी शिनाख्त बगहा थाने के गांव नरायनपुर निवासी श्रीराम साहनी के रूप में हुई। नौ सितंबर को पनियहवा रेलवे स्टेशन के पूरब भी एक विवाहिता की लाश मिली। पनियहवा रेलवे स्टेशन के समीप स्थित एक होटल में काम करने वाले कमल गोंड़ की लाश भी पथलहवा गांव के सरेह में मिली। जीआरपी और स्थानीय पुलिस केवल लाशों को पोस्टमार्टम के लिए भेज देती है। लाशें रेलवे ट्रैक या उसके आसपास सुनसान जगह पर कहां से आ रही हैं? इसकी तहकीकात नहीं हो रही है। स्थानीय लोग आशंका जता रहे हैं कि अपराधी प्रवृत्ति के लोग घटनाओं को अंजाम देने के बाद लाशों को यहां फेंक जा रहे हैं।

Spotlight

Most Read

Meerut

दो सगी बहनों से साढ़े चार साल तक गैंगरेप, घर लौट आई एक बेटी ने सुनाई आपबीती

दो बहनों का अपहरण कर तीन लोगों ने साढ़े चार वर्ष तक उनके साथ गैंगरेप किया। एक पीड़िता आरोपियों की चंगुल से निकल कर घर लौट आई। उसने परिवार को आपबीती सुनाई।

21 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी का रिश्वतखोर लेखपाल कैमरे में कैद

ये वीडियो एक लेखपाल का है जो किसान से उसकी एक रिपोर्ट के लिए पांच हजार रुपये की मांग कर रहा है। वीडियो कुशीनगर की खड्डा तहसील का बताया जा रहा है।

7 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper