आदित्य के अपहरण में तीन गिरफ्तार

Kushinagar Updated Sat, 21 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
पडरौना। सेवरही के पकड़ियार पूरबपट्टी से अपहृत आदित्य के मामले का पुलिस ने खुलासा कर दिया। शुक्रवार को एसपी विजय कुमार गर्ग ने गिरफ्तार तीन लोगों और बच्चे को मीडिया के सामने पेश किया। पुलिस टीम को पांच हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की। अभियुक्तों ने अपना अपराध कबूल कर लिया।
विज्ञापन

एसपी ने बताया कि भवाड़ी राजस्थान में प्रियांशु राय निवासी दनियाड़ी थाना तरयासुजान, मनीष श्रीवास्तव निवासी दिहुलिया मनिया छपरा-रामकोला एवं नीरज गिरी काम करते थे। वहां से आने के बाद इन्होंने अपहरण की साजिश रची। बताया कि 29 जून को ये तीनों जिले में आए और विश्वासी गुप्ता से मेलजोल बढ़ाना शुरू किया। विश्वासी के ट्रैक्टर कंपनी में काम करने से इन लोगों ने उसे पैसे वाला समझ लिया। ये 14 जुलाई को टाफी खिलाने के बहाने बच्चे को स्कूल से बाहर ले गए। फिर बच्चे को नेबुआ नौरंगिया के रायपुर चंदन बरवा स्थित रामअवध मद्धेशिया के घर छोड़ दिया। उन्होंने प्रियांशु को मास्टर माइंड बताया और कहा कि उसने साजिश से घटना को अंजाम दिया। पडरौना से सिम खरीदा तो तमकुहीरोड से मोबाइल चुराया। इसी क्रम में कप्तानगंज रेलवे स्टेशन से एक सप्ताह पूर्व मोटरसाइकिल चुराई गई, जिसका मुकदमा भी दर्ज है। उन्होंने बताया कि घटना के दिन दस लाख की फिरौती मांगें जाने के बाद मोबाइल ट्रेेस कराया गया। इधर, दो दिनों से फिर फिरौती की मांग होने लगी। बताया कि सीओ तमकुही दिनेश कुमार सिंह, सर्किल के थानाध्यक्षों, एसओजी की टीमों को लगाया गया था, जबकि एएसपी भी लगे रहे। मुखबिर की सूचना पर कोतवाल पडरौना विजयशंकर तिवारी, एसओ नेबुआ नौरंगिया, एसओ सेवरही व एसओजी टीम को भेजकर बच्चे को सकुशल मुक्त कराया गया। इस दौरान मास्टरमाइंड प्रियांशु राय, मनीष श्रीवास्तव व पनाह देने वाले रामअवध को गिरफ्तार कर लिया गया। जबकि फरार नीरज गिरी को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस घटना की साजिश में सोनू उर्फ नागेंद्र गुप्ता का भी नाम आया है। मौके से मोटरसाइकिल भी बरामद होने की उन्होंने जानकारी दी।
इनसेट
कम उम्र के ही हैं अपहरणकर्ता
गिरफ्तार प्रियांशु व मनीष कम उम्र के हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार मास्टरमाइंड प्रियांशु ने भिवाड़ी में एक छोटी फैक्ट्री भी लगाई थी, जहां घाटा हो गया था। इसी के बाद इन लोगों ने यह साजिश रची।
इनसेट
बहुत धमकी मिली, टूट गया था
आदित्य के पिता विश्वासी का कहना था कि इधर दो-तीन दिनों से उसे अपहरणकर्ताओं की ओर से खूब धमकी मिल रही थी। कभी ट्रेन में तो कभी कहीं पैसा देने को कहा जा रहा था। दस लाख से कम पर वे सुनने को तैयार नहीं थे। बच्चे को मारने की भी धमकी देते थे। इससे वह बुरी तरह टूट गए थे।
इनसेट
हाथ जोड़े, टीम को दिया धन्यवाद
आदित्य के साथ खड़ी उसकी मां सुनीता की आंखें नम थीं। खुशी उसके चेहरे पर झलक रही थी। हाथ जोड़कर उसने सभी को धन्यवाद दिया। एसपी से अनुमति लेकर उसने कहा कि वह पुलिस टीम के हर सदस्य के प्रति आजीवन आभारी रहेगी। पुरस्कार देने की भी उसने इच्छा जताई।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us