रिश्तेदारों की गाड़ी रुकते ही मच जाती थी चीख-पुकार

Allahabad Bureauइलाहाबाद ब्यूरो Updated Wed, 28 Oct 2020 07:24 PM IST
विज्ञापन
A scream was made as soon as the relatives' car stopped
A scream was made as soon as the relatives' car stopped - फोटो : KAUSHAMBI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
रिश्तेदारों की गाड़ी रुकते ही मच जाती थी चीख-पुकार
विज्ञापन

मंझनपुर। मौहारी बाग गांव में बुधवार को तीन मौत के बाद अजीब का सन्नाटा छाया था। संवेदना जताने वाले लोग जैसे ही पीड़ित परिवार के पास पहुंचते, वैसे ही आंसुओं का सैलाब निकल पड़ता था। चीख-पुकार के बाद लोग किसी तरह पीड़ित परिवार व रिश्तेदारों को समझा-बुझा रहे थे। दरअसल सगे भाइयों की मौत के अलावा उसने साथ हादसे में जान गंवाने वाले हलीम का घर भी महज 20 मीटर की दूरी पर था। उसके परिजनों में भी कोहराम मचा हुआ है।
------
छोटे बेटे का इंतजार, आज होगा अंतिम संस्कार
मंझनपुर। मौहारी बाग निवासी मुख्तार अहमद का मूल काम किसानी है। जिस गांव में वह रहते हैं वह इलाका कृषि प्रधान कहा जाता है। दो जवान बेटों की मौत से मुख्तार की हालत खराब है। दो बेटों की मौत ने मुख्तार को अंदर से तोड़कर रख दिया है। घर के एकलौते चिराग बचे जियाउल पर ही परिवार की जिम्मेदारी आ गई है। घटना की जानकारी के बाद जियाउल भी राजस्थान से घर के लिए निकल पड़ा है। बृहस्पतिवार को उसके आने के बाद ही शव का अंतिम संस्कार किया जाएगा।
-----
अफसरों की उदासीनता का रहा मलाल
मंझनपुर। मौहारी बाग गांव में तीन मौत की जानकारी बुधवार सुबह से ही सोशल मीडिया पर वायरल हो रही थी। इसके बाद भी जिले का कोई जनप्रतिनिधि या अफसर पीड़ित परिवार का आंसू पोछने नहीं पहुंचा। इसका मलाल परिवार के अलावा गांव के लोगों में देखने को मिला। गांव में चर्चा रही कि लोग यहां सिर्फ वोट की राजनीति करते हैं। किसी के दुख-दर्द से कोई मतलब नहीं रखता।
-----
हलीम के बच्चों का कौन बनेगा सहारा
मंझनपुर। हादसे में मारे गए हलीम के घर की भी बहुत कच्ची गृहस्थी है। हलीम ही परिवार का एकमात्र कमाने वाला है। वह अपने पीछे पत्नी किताबुन निशा सहित तीन बच्चों का परिवार छोड़ गया है। सबसे छोटी बेटी ईशाम महज दो साल की है। जबकि बड़े बेटे आसिफ की उम्र 10 साल है। घटना की जानकारी के बाद किताबुननिशा का रो-रोकर बुरा हाल है। वह रोते-रोते बेसुध हो जा रही थी।
A scream was made as soon as the relatives' car stopped
A scream was made as soon as the relatives' car stopped- फोटो : KAUSHAMBI
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X