दिनदहाड़े दूधिए की गोली मारकर हत्या

Kaushambi Updated Fri, 28 Dec 2012 05:30 AM IST
ख़बर सुनें
सरायअकिल (कौशाम्बी)। दूध खरीदने के लिए किसानों के घर जा रहे दूधिए की बृहस्पतिवार को युवकों ने गोली मार कर हत्या कर दी। सीओ चायल फील्ड यूनिट और डाग स्कवॉयड के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस का मानना है कि रंजिशन हत्या की गई होगी।
बताया जाता है कि बिरनेर गांव का रहने वाला रामबहादुर (35) पुत्र बचई लाल दूध का कारोबार करता था। बृहस्पतिवार सुबह करीब सात बजे वह घर से खरका गांव किसान के घर से दूध लेने जा रहा था। बताया जाता है कि गांव के बाहर ही घात लगाकर बैठे हमलावरों ने दूधिए को देखते ही तमंचे से गोली मार दी। गोली राम बहादुर के सीने में लगी। जान बचाने को वह साइकिल फेंककर भागा, लेकिन सरसों के खेत में गिर गया। हत्यारों ने फिर कई फायर किए। मौत होने के बाद कातिल भाग गए। दिनदहाड़े हुई घटना से इलाकेभर में सनसनी फैल गई। सूचना पर रोते हुए घरवाले मौके पर पहुंचे। सरायअकिल, पिपरी थानों की फोर्स लेकर घटनास्थल पहुंचे सीओ चायल चंद्र प्रकाश दूबे ने फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट और खोजी कुत्तों की टीम भी बुलाई। पुलिस को हत्यारों का कोई सुराग नहीं लगा। पिता बचईलाल समेत घर के अन्य सदस्य भी कुछ नहीं बता पा रहे हैं। पुलिस ने पिता की तहरीर पर छहअज्ञात हमलावरों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। सीओ का कहना है कि प्रथम दृष्टया लग रहा है कि दुश्मनी के कारण वारदात हुई है। फिलहाल जांच की जा रही है। रामबहादुर मां फूलपती और पिता बचईलाल की इकलौता संतान था। उसकी मौत से मां, पत्नी और छोटे-छोटे बच्चों की रोकर हालत खराब है। वहीं जवान बेटे के दुनिया से चले जाने पर बचईलाल की आंखें पथरा गई हैं। राम बहादुर के चार बच्चे विकास (8), गुंजा (6), कल्लो (4) और आकाश (2) हैं।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Kanpur

5 घंटे पहले हो गया 'मौत का आभास', संकल्प पत्र भरकर अंतिम इच्छा कर ली पूरी

कानपुर के गांधी ग्राम चकेरी में एक वृद्धा ने जिद करके देहदान का संकल्प भरा और पांच घंटे बाद ही उनका निधन हो गया। बुधवार को मेडिकल कालेज को उनकी देह सौंपी गई। युग दधीचि देहदान अभियान के तहत 193 देहदान हो चुके हैं। 

19 अप्रैल 2018

Related Videos

कहीं गौरैया सिर्फ यादों में न रह जाए

यूपी के इलाहाबाद में गौरैया को बचाने के लिए द्वारिका सेवा संस्थान की ओर से जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें संगठन के सदस्यों ने लोगों से गौरैया के लिए अपने घर की छत पर दाना पानी रखने की अपील की।

20 मार्च 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen