बुखार के मरीजों से पटे अस्पताल

Kaushambi Updated Thu, 20 Sep 2012 12:00 PM IST
मंझनपुर। दोआबा में बुखार का कहर बढ़ता जा रहा है। मंगलवार को तीन बच्चों समेत चार लोगों की बुखार से मौत हो गई थी। जिले के सभी अस्पताल बुखार पीड़ितों से पटे हैं। अकेले जिला अस्पताल में ही बुधवार को 182 मरीज आए। इनमें 35 टायफायड और 15 मलेरिया पीड़ित हैं।
हफ्तेभर लगातार बारिश से से पनपे कीटाणु लोगों को जान लेने पर तुले हैं। जिले में संक्रामक बीमारियों के साथ बुखार का भी कहर शुरू है। मंगलवार को बुखार से चायल और मनौरी में एक-एक तथा मंझनपुर के कोर्रो गांव में दो सगे भाई सत्यम (8) और शनि (6) पुत्र दिरगज की मौत हो चुकी है। इसके अलावा कोर्रों गांव की कोमल (4), सियाराम (6), बाला (2), दीपा (डेढ़ वर्ष), मोहित (5), अंजलि (7) आदि दर्जनभर लोग बिस्तर पर हैं। वहीं सरकारी के साथ-साथ प्राइवेट अस्पतालों में भी बुखार के मरीजों की ही भरमार है। बुधवार को अकेले जिला अस्पताल की ओपीडी में 700 मरीजों में माला (3), रानी (9), होमर (2), सभी निवासी गडरी अवाना, नाजिमा (5) निवासी मंझनपुर, करन (8) निवासी ऊनौ, धर्मपाल (48) निवासी जमदुआ, राजरानी (62) निवासी बारातफारीक समेत182 लोग बुखार से जकड़े मिले। इनमें से करीब 70 लोगों को जांच के लिए भेजा गया था। इसमें 15 मलेरिया और अभिषेक (डेढ़ वर्ष) निवासी कोड़र, कमला देवी (30) निवासी महावां, पुष्पराज (16) निवासी रेरूआ, हेमा (6) मंझनपुर, किरन (25) समदा, मकसूद (40) मंझनपुर समेत 35 लोग टायफॉयड से ग्रसित पाए गए। जिला अस्पताल के फिजीशियन डॉ अरविंद कनौजिया के मुताबिक हफ्तेभर से 150-200 बुखार पीड़ित रोजाना अस्पताल आ रहे हैं। चिकित्सकों के मुताबिक बारिश के मौसम में सेहत के प्रति बरती गई जरा सी लापरवाही लोगों पर भारी पड़ रही है। उन्होंने बिस्तर, कपड़े के साथ खान-पान में भी सफाई बरतने की हिदायत दी है।
कोर्रों गांव के दिरगज के दो मासूम बेटों की मौत से दिरगज की पत्नी, मां आदि अन्य परिजनों की रो-रोकर हालत खराब है। पूरे गांव में मातम पसरा दिखा। बुखार से बच्चों की मौत से उन परिवारों के भी होश उड़ हुए हैं, जिनके घर के बच्चे वायरल की चपेट में हैं।
कोर्रों गांव गंदगी से भरा हुआ है। आबादी के बीच स्थित तालाब भी कचरे से पटा बजबजा रहा है। इतना ही नहीं गांव के लोग बुखार, डायरिया, टायफायड और मलेरिया से ग्रसित भी हैं। इसके बाद भी तालाब में ही गांवभर का कचरा फेंका जा रहा है। बस्ती में गंदगी और बीमारियों को बुलावा देने की यह तस्वीर सिर्फ कोर्रों गांव की नहीं है। जिले के अधिकतर गांवों में ऐसा ही है। जबकि इन्हीं संक्रामक बीमारियों से बचाने के लिए गांव-गांव स्वच्छता अभियान और सफाई कर्मियों की नियुक्ति शासन से चलाई जा रही है।

Spotlight

Most Read

Meerut

दो सगी बहनों से साढ़े चार साल तक गैंगरेप, घर लौट आई एक बेटी ने सुनाई आपबीती

दो बहनों का अपहरण कर तीन लोगों ने साढ़े चार वर्ष तक उनके साथ गैंगरेप किया। एक पीड़िता आरोपियों की चंगुल से निकल कर घर लौट आई। उसने परिवार को आपबीती सुनाई।

21 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी के कौशांबी से सामने आया फोन पर तीन तलाक का मामला

सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद तीन तलाक के मामले खत्म होने का नाम नहीं ले रहे हैं। इस बार यूपी के कौशांबी से तीन तलाक का मामला सामने आया है।

10 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper