हम किसी से कम नहीं

Kasganj Updated Tue, 04 Dec 2012 05:30 AM IST
कासगंज। विकलांग दिवस के मौके पर विकलांग बच्चों की प्रतियोगिताएं संपन्न कराई गईं। इनमें सहभागिता करने वाले विकलांग बच्चों ने अपनी प्रतिभा से साबित कर दिया कि वे भी किसी से कम नहीं हैं। नृत्य गायन प्रतियोगिताओं ने जहां बच्चों ने धमाल मचा दिया। वहीं, अन्य प्रतियोगिताओं में भी सहभागिता करके सभी को हैरत में डाल दिया। विजेता रहने वाले बच्चों को पुरस्कार प्रदान किए गए।
शिक्षा विभाग के माध्यम से विकलांग बच्चों की कुर्सी दौड़, रस्साकशी, सुलेख, गणित दौड़, चम्मच दौड़, लंबी दौड़, गोली प्रतियोगिता, ड्राइंग, नृत्य, गायन प्रतियोगिताओं का आयोजन श्रीगणेश इंटर कालेज में किया गया। डीएम चैत्रा वी ने कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि विकलांगता को अभिशाप न समझा जाए, बल्कि सभी को यह प्रयास करने की जरूरत है कि भविष्य में कोई भी बच्चा विकलांग न हो। इस दौरान आयोजित प्रतियोगिताओं में प्रथम स्थान अमांपुर के मिंटू और द्वितीय स्थान प्री इंटेरीगेशन कैंप के छात्र देवेंद्र राजपूत ने प्रदान किया। सुलेख प्रतियोगिता में बलवंत सिंह, रजनी, देवेंद्र राजपूत, रंगोली में रजनी, सोनू, संगीता, कुर्सी दौड़ में फरदीन, प्रशांत, बलवंत, चम्मच दौड़ में सोनू, मिंटू, सुनील, 50 मीटर बालिका राधा, अर्चना, ओमवती, ब्रेल लिपि में लकी, राजू, रुबी और गणित दौड़ में मिंटू, सुशील, आफताब, नृत्य में नेहा, कृष्णा, गोपाल, गायन में राजू, लकी, रामू ने क्रमश: प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त किए। वहीं रस्साकशी में प्रीइंटेरिगेशन कैंप के जयवीर, राजेश, प्रदीप, रंजीत का ग्रुप विजयी रहा। विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए गए। इस दौरान परियोजना निदेशक उमेश त्यागी, बेसिक शिक्षा अधिकारी दीवान सिंह, जिला समन्वयक सुधीर मिश्रा, वीरेंद्र कुमार, राजीव गुप्ता, विकलांग कल्याण अधिकारी वीके शर्मा, खंड शिक्षा अधिकारी वीरेन्द्र सिंह पटेल, वार्डन नीलिमा शर्मा, जिला पीटीआई राजेंद्र कुमार आदि थे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: ये स्कूल है या तबेला?

यूपी में सरकार बदले बेशक काफी समय बीत चुका है, लेकिन ग्रामीण इलाकों में शायद ही कोई असर देखने को मिला हो। श्रीकृष्ण की नगरी मथुरा के नौहझील ब्लॉक के गांव भैरई में पूर्व माध्यमिक विद्यालय में अधिकतर समय ताला लटका रहता है। यहां भैसें बांधी जाती हैं।

31 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls